सरकारी योजना का लाभ लेकर वानिकी लगायें |

7

सरकारी योजना का लाभ लेकर वानिकी की लगायें |

कृषि को लाभ का व्यवसाय बनाना मध्यप्रदेश शासन की प्राथमिकता है | इस लक्ष्य की प्राप्ति हेतु मध्यप्रदेश शासन द्वारा प्रदेश के कृषि की आय वृद्धि करने की रणनीति के अन्तर्गत कई गतिविधियाँ संचालित की जा रही है | इस रणनीति के अन्तर्गत कृषकों से यह अपेक्षित किया है की वे अपनी भूमि पर परंपरागत फसलों के साथ वृक्ष एवं अन्य फसलें भी बड़े पैमाने पर लगायें |

वन विभाग की अनुसंधान एवं विस्तार शाखा रोपण हेतु अच्छी गुणवत्ता के पौधें उत्पन्न करने की गतिविधियों में संलग्न है | प्रदेश में 11 अनुसंधान एवं विस्तार वृत्त स्थिति हैं जंहा सम्पर्क कर रोपणियों एवं उपलब्ध पौधों की जानकारी प्राप्त की जा सकती हैं |

अनुसंधान एवं विस्तार वृत्तों का विवरण निम्नानुसार है :-

अनुसंधान एवं विस्तार वृत्त कार्यालय का दूरभाष कर्मांक/ईमेल सम्मिलित जिलों के नाम
बैतूल 07141 – 230475

[email protected]

बैतूल, होशंगाबाद, हरदा
भोपाल 0755 – 2674316

[email protected]

भोपाल, रायसेन, सीहोर, राजगढ़, विदिशा
ग्वालियर 0751 – 2427962

[email protected]

ग्वालियर, दतिया, मुरैना, भिण्ड, शिवपुरी, गुना, अशोकनगर, श्योपुर
इंदौर 0731 – 2461292

[email protected]

इन्दौर, देवास
जबलपुर 0761 – 2668554

[email protected]

जबलपुर, कटनी, मंडला, डिंडौरी
झाबुआ 07392 – 243837

[email protected]

झाबुआ, धार, अलीराजपुर
खण्डवा 0733 – 2223265

[email protected]

खण्डवा, बडवानी, खरगौन, बडवाह, बुरहानपुर
रतलाम 07412 – 235131

[email protected]

रतलाम, मंदसौर, उज्जैन शाजापुर, नीमच आगर
रीवा 07662 – 256493

[email protected]

रीवा, सतना, सीधी, शहडोल, अनुपपुर, उमरिया, सिंगरौली
सागर 07582 – 236278

[email protected]

सागर, दमोह, छतरपुर, टीकमगढ़, पन्ना
सिवनी 07692 – 221395

[email protected]

सिवनी, नरसिंहपुर, छिंदवाडा बालाघाट

 

योजना का उद्देश्य :-

कृषि वानिकी से कृषक समृद्धि योजना के उद्देश्य निम्नलिखित हैं |

  • प्रदेश में निजी भूमि पर वृक्षारोपण / बांस रोपण कर कृषकों की आय बढ़ाते हुए खेती को लाभ का व्यवसाय बनाना |
  • अतिवृष्टि / सूखे की स्थिति में फसल हानि होने पर कृषकों के लिये वनोपज से आय का अतिरिक्त स्रोत उपलब्ध करना |
  • वृक्षारोपण के माध्यम से भू – जल संरक्षण कर कृषि उत्पादन में वृद्धि |
  • निजी क्षेत्र में वनोपजन उत्पादन को बढावा देकर शासकीय वनों पर दवाब कम करना |

योजना के अंतर्गत पुरे प्रदेश में वर्ष 2017 एवं वर्ष 2018 में 2.60 करोड़ पौधों का रोपण कृषकों द्वारा अपनी निजी भूमि पर किया जायेगा | इससे न केवल कृषकों की आर्थिक स्थिति सुदृढ़ होगी , बल्कि जलवायु परिवर्तन के प्रभावों को कम करने में भी सहायता मिलेगी |

योजना का घटक :-

इस योजना का मुख्य घटक निम्नानुसार है –

  • नि:शुल्क पौधा प्रदाय (अधिकतम 5000 पौधों की सीमा तक)
  • कृषकों को प्रति जीवित पौधे पर दो वर्षों में रु.25 /- का अनुदान
  • वनदुत को प्रति जीवित पौधे पर दो वर्षों में रु. 7 /- का अनुदान

पौधों की अधिकतम एवं न्यूनतम संख्या :-

योजना के अन्तर्गत नुनतम 50 पौधों एवं अधिकतम 5000 पौधों का रोपण एक किसान द्वारा लिया जा सकता है | जीवित पौधों की संख्या के आधार पर योजना का लाभ दो वर्षों तक मिलेगा |

प्रोत्साहन राशि का विवरण :-

रोपण वर्ष में रु.15/- एवं दुसरे वर्ष में रु. 10/- प्रति जीवित पौधा के मान से प्रोत्साहन राशि डी जावेगी | वनदुत को रोपण वर्ष में रु.4/- तथा दुसरे वर्ष में रु. 3/- प्रोत्साहन राशि डी जाएगी |

वृक्षारोपण का पंजीयन :-

आवेदक यदि वृक्षारोपण का पंजीयन तहसील एवं परिक्षेत्र कार्यालय में कराता है तो भविष्य में वृक्षों की कटाई की अनुमति की आवश्यकता नहीं होगी |

नोट:- योजना का लाभ लेने हेतु कृषक निम्न में से किसी भी स्थान / कार्यालय में आवेदन दे सकते हैं \
  • कार्यालय वैन विस्तार अधिकारी, अनुसंधान एवं विस्तार वृत्त
  • कार्यालय मुख्य वन संरक्षण , अनुसंधान एवं विस्तार वृत्त
  • वनमंडल कार्यालय (क्षेत्रीय)
  • परिक्षेत्र कार्यालय (क्षेत्रीय)
यह भी पढ़ें   तिखुर औषधीय पौधे की खेती कैसे करें
Previous articleकिसानों को मिलेगा 10 लाख तक का व्यक्तिगत दुर्घटना बीमा
Next articleप्रधानमंत्री फसल बीमा सरल भाषा में, फसल का बीमा कैसे होगा एवं बीमा राशी कैसे मिलेगी

7 COMMENTS

    • अपने यहाँ के वन विभाग या उधानिकी विभाग या सरकारी नर्सरी से सम्पर्क करें |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here