राष्ट्रीय कृषि विकास योजना 

राष्ट्रीय कृषि विकास योजना मध्यप्रदेश

उच्च तकनीक से पान की खेती 

उच्च तकनीक से पण की खेती हेतु 500 वर्ग मीटर में परियोजना के प्रावधान अनुसार पान बरेजा बनाने एवं पण की खेती करने हेतु इकाई लागत राशि रूपये 1.20 लाख पर 35 प्रतिशत अनुदान राशि रु. 0.42 लाख देय है | योजना में पण उत्पादक 20 जिले तथा जबलपुर, कटनी, मण्डला, नरसिंहपुर, दमोह, पन्ना, टीकमगढ़, छतरपुर, रीवा, देवास, सतना, इंदौर, खण्डवा, मंदसौर, नीमच, रतलाम, ग्वालियर, रायसेन, एवं होशंगाबाद जिले सम्मिलित है |

ग्रीष्मकालीन तरबूज, खरबूज एवं कद्दूवर्गीय संकर बीज वितरण 

परियोजना अन्तर्गत 0.2 हेक्टेयर में तरबूज, खरबूज एवं कद्दूवर्गीय फसलों की खेती हेतु एकीकृत बागवानी विकास मिशन नार्मस अनुसार निर्धारित इकाई लागत राशि रु. 10,000 /- पर 35 प्रतिशत अनुदान अधिकतम राशि रु. 3500 /- देय है | परियोजना अंतर्गत जबलपुर, नरसिंहपुर, बालाघाट, छिंदवाडा, मंडला, डिंडौरी, होशंगाबाद, हरदा, बैतूल, उज्जैन, खण्डवा, खरगौन, ग्वालियर, भिण्ड, मुरैना, शिवपुरी, श्योपुर, पन्ना, सतना, एवं शहडोल जिले सम्मिलित है |

अनार क्षेत्र विस्तार 

परियोजना अन्तर्गत अनार टिशु कल्चर पौध रोपण माय ड्रिप इरिगेशन हेतु प्रति हेक्टेयर निर्धारित इकाई लागत राशि रु. 1.50 लाख पर 50 प्रतिशत अनुदान राशि रूपये 0.75 लाख का प्रवधान है | अनुदान 3 वर्षों में 60:20:20 के मान से प्रथम वर्ष क्रमश: राशि रु. 45 हजार एवं अनुरक्षण पर दिवतीय एवं तृतीय वर्ष 15 – 15 हजार 80% पौधे जीवित होने पर देय है | प्रति कृषक 0.500 हेक्टेयर से अधिकतम 5.000 हेक्टेयर तक रोपण की पात्रता है | योजना समस्त जिलों में लागू है |

प्याज भंडारण गृह 

परियोजना अन्तर्गत एन.एच.आर.डी.एफ. नासिक की ड्राईग – डिजाइन अनुसार 25 एवं 50 मिलिट्रीक टन के प्याज भंडारण गृह निर्माण का प्रवधान है | एकीकृत बागवानी विकास मिशन नार्मस अनुसार 25 MT हेतु निर्धारित इकाई लागत राशि रु.1.75 लाख पर 50% अनुदान अधिकतम राशि रु. 0.875 लाख एवं 50MT हेतु निर्धारित इकाई लागत राशि रु. 3.50 लाख पर 50% अनुदान अधिकतम राशि रु. 1.75 लाख देय है | परियोजना समस्त जिलों में लागू है |

बड़े शहरों के आसपास सब्जी क्षेत्र विस्तार :

परियोजनान्तर्गत संकर सब्जी उत्पादन हेतु एकीकृत बागवानी विकास मिशन नार्मस अनुसार प्रति हेक्टेयर निर्धारित इकाई लागत राशि रु. 0.50 लाख पर 50% अनुदान अधिकतम राशि रु.0.25 लाख का प्रावधान है | परियोजना अंतर्गत संभाग मुख्यालय के जिले यथा भोपाल, उज्जैन, इंदौर, रीवा, ग्वालियर, होशंगाबाद, जबलपूर सागर एवं शहडोल सम्मिलित है | प्रति कृषक 0.500 हेक्टेयर से अधिकतम 2.000 हेक्टेयर तक सब्जी उत्पादन पर अनुदान सहायता देय है |

माइक्रो इरीगेशन :-

परियोजना अंतर्गत NMSA – OFWM (PMKSY) नार्मस अनुसार ड्रिप इरीगेशन एवं स्प्रिंकलर संयंत्र की स्थापना का प्रावधान है | योजना में प्रत्येक उधानिकी फसलवार निर्धरित इकाई लागत अनुसार 50 प्रतिशत अनुदान सहायता का प्रावधान है | योजना समस्त जिलों में क्रियान्वित है |

योजनाओ का लाभ प्राप्त करने के शर्तें

सभी कृषक पात्र

योजनाओ का लाभ प्राप्त करने की प्रक्रिया / विधि

जिला कार्यालय उद्यानिकी विभाग में संपर्क करे|

अधिक जानकारी के लिए अपने क्षेत्र के वरिष्ठ उद्यान विकास अधिकारी/ ग्रामीण उद्यान विस्तार अधिकारी अथवा जिले के सहायक संचालक उद्यान से संपर्क करें|

kisan samadhan android app