इस विधि से गेहूं की बुआई करने पर सरकार दे रही है 3280 रुपये प्रति एकड़ की सब्सिडी

4
23404
zero tillage se gehun kheti par anudan

जीरो टिलेज विधि से गेहूं की बुआई पर अनुदान

धान कि कटाई कुछ जगहों पर खत्म हो गई है तो कुछ जगहों पर शुरू हो रही है | यह अलग – अलग राज्यों और जिलों के जलवायु पर निर्भर करता है | इसको ध्यान में रखते हुये सभी क्षेत्रों में धान तथा अन्य फसलों की खेती तथा कटाई की जाती है | धान कि कटाई के उपरान्त बहुत कम समय में ही किसान भाई – बहनों को उसी खेत में गेहूं की खेती करनी होती है तथा उन्हें समय पर गेहूं की खेती करने के लिए खेत की तैयारी करने का बहुत ही कम समय मिलता है | ऐसी स्थिति में जीरो टिलेज मशीन से गेहूं की खेती करना किसानों के लिए काफी लाभप्रद होगा |

जीरो टिलेज विधि से गेहूं बुआई से लाभ

इस विधि से गेहूं की बुआई करने से कम लागत में बेहतर उत्पादन प्राप्त होता है | धान की कटाई के बाद समय पर गेहूं की बुआई के लिए यह विधि काफी लाभकारी है | इस मशीन के माध्यम से बिना जुताई खेत में सीधे गेहूं की बुआई की जा सकती है | इससे फसल जल्द उग जाती है एवं उसमें कल्ले भी अधिक निकलते हैं, जिसके कारण बेहतर उत्पादन होता है | सबसे बड़ी बात है कि इस विधि से धान की कटाई के बाद गेहूं की तैयारी के लिए पांच – छह बार जुताई नहीं करनी पड़ती है | इससे खेतों में नमी भी बनी रहती है और मिट्टी का स्वास्थ्य भी अच्छा बना रहता है |

यह भी पढ़ें   70 प्रतिशत तक के अनुदान पर करवाएं पशुओं का बीमा

जीरो टिलेज को बढ़ावा देने के लिए बिहार राज्य सरकार किसानों के लिए प्रत्यक्षण माडल के तहत सब्सिडी दे रही है | यह सब्सिडी इसी वर्ष से लागु है | किसान समाधान इस योजना कि जानकारी लेकर आया है |

यह योजना क्या है ?

रबी मौसम 2019 – 20 में जीरो टिलेज विधि से खेती के लिए किसानों को प्रोत्साहित करने के लिए सरकार द्वारा इसके प्रत्यक्षण हेतु विशेष प्रकार की योजना स्वीकृत की गई है | इसके तहत जीरो टिलेज से गेहूं कि बुआई करने पर किसान को अनुदान (सब्सिडी) दिया जा रहा है |

जीरो टिलेज से खेती करने पर कितनी सब्सिडी दी जाएगी ?

प्रत्यक्षण माडल के तहत किसानों को जीरो टिलेज मशीन द्वारा गेहूं की खेती के प्रत्यक्षण करने हेतु 3280 रु. प्रति एकड़ की दर से अनुदान दिया जायेगा | यह अनुदान गेहूं के अधिक उपज शील  प्रभेद के बीज, इसके बीजोपचार हेतु फफूंदनाशी दावा, खरपतवार, सूक्ष्म पोषक तत्व प्रबंधन, जीरो टिलेज यंत्र का भाड़ा (किराया) एवं लीफ कलर चार्ट अथवा इफ्को संदेश के लिए दिया जायेगा | भाड़ा पर जीरो टिलेज यंत्र से बुआई करने के लिए प्रति वर्ष एकड़ सात सौ रूपये अनुदान देय होगा |

यह भी पढ़ें   कोरोना लॉकडाउन में किसानों को फसल बेचने एवं अन्य सहायता के लिए सरकार ने जारी किये टोल फ्री नम्बर

किसान समाधान के YouTube चेनल की सदस्यता लें (Subscribe)करें

4 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here