किसानों को कम्बाईन हार्वेस्टर उपलब्ध करवाने के लिए सरकार ने जारी किये निर्देश

0
3808
corona virus lockdown combine harvester

कटाई के लिए कम्बाईन हार्वेस्टर की उपलब्धता

देश में अभी रबी फसलों की कटाई एवं विक्री का समय चल रहा है | सामन्यतः इस समय तक अधिकांश कटाई का कार्य पूर्ण हो जाना चाहिए था परन्तु कोरोना वायरस संक्रमण के चलते जो देशव्यापी लॉक डाउन चल रहा है उसके कारण अभी तक किसानों की फसलों की कटाई नहीं हो पाई है | इसका कारण हार्वेस्टर एवं मजदूरों की कमी है साथ ही फसलों की खरीदी की तारीख भी आगे बड़ा दी गई है | जिसके चलते किसानों में असमंजस की स्थिति बनी हुई है | केंद्र सरकार एवं राज्य सरकारों के द्वारा पहले ही खेती-किसानी के कार्यों एवं कृषि यंत्रों के आवागमन पर छूट दे दी गई है | देश में सभी जगह के किसान खेती किसानी के कार्यों को बिना रोक टोक कर सकते हैं |

मध्यप्रदेश राज्य सरकार ने सभी जिलों के लिए जारी किये निर्देश

राज्य शासन ने सभी संभागायुक्तों एवं जिला कलेक्टरों को निर्देश जारी किये हैं कि किसानों को फसल कटाई के लिये आपसी समन्वय स्थापित कर कम्बाईन हार्वेस्टर्स उपलब्ध कराने की व्यवस्था करें। प्रमुख सचिव किसान कल्याण तथा कृषि विकास ने बताया है कि पंजाब राज्य में पंजाबी भाषा में विज्ञापन प्रकाशित कराकर अनुरोध किया गया है कि वहां के मध्यप्रदेश में आकर काम करने के इच्छुक हार्वेस्टर मालिक शीघ्र सम्पर्क करें। मध्यप्रदेश शासन द्वारा उन्हें आसानी से परिवहन पास उपलब्ध्य कराये जा रहे हैं।

यह भी पढ़ें   अधिक बारिश से हुए नुकसान की भरपाई हेतु सरकार ने जारी किये 13 करोड़ से अधिक रुपये

किसान इस नम्बर पर कॉल कर मांग करें

कृषि विकास विभाग से प्राप्त जानकारी के अनुसार प्रदेश में अभी तक गेहूँ की 70 प्रतिशत और चने की 96 प्रतिशत कटाई हो चुकी है। आगामी 15 से 20 अप्रैल तक अधिकांश क्षेत्रों में कटाई का कार्य पूर्ण कर लिया जायेगा। इस वर्ष असामयिक वर्षा के कारण भोपाल-नर्मदापुरम् से लेकर जबलपुर संभाग तक की फसलें एक साथ पक कर तैयार हुई हैं। प्रदेश में गेहूँ की फसल की कटाई मुख्य रूप से कम्बाईन हार्वेस्टर्स द्वारा ही की जाती है। हार्वेस्टर्स का मूव्हमेंट मालवा, निमाड़ अंचल से शुरू होकर भोपाल, नर्मदापुरम् संभाग होते हुए जबलपुर संभाग की ओर रहता है। प्रदेश में लगभग 50 प्रतिशत हार्वेस्टर्स पंजाब प्रांत से आकर काम करते हैं। कोरोना वायरस संक्रमण के कारण इस वर्ष हार्वेस्टर्स की उपलब्धता में कमी आई है।

किसानों की सुविधा के लिये मंडी बोर्ड के अधीन कॉल सेन्टर (0755-2550495) स्थापित किया गया है। इस सेन्टर पर किसान अपनी मांग दर्ज करा रहे हैं और उनकी मांग की जानकारी प्रशासन द्वारा संबंधित जिलों के अधिकारियों को तुरंत भेजी जा रही है। इसी के साथ, जिला कलेक्टरों से कहा गया है कि वे लॉक डाउन की अवधि में कम्बाईन हारर्वेस्टर्स के मूव्हमेंट को शिथिल रखें, जिससे हार्वेस्टर एक जिले से दूसरे जिले में तथा अन्य प्रदेशों से प्रदेश में आ-जा सकें। प्रमुख सचिव द्वारा कलेक्टरों से प्रदेश में कार्यरत हार्वेस्टर्स की तुरंत मरम्मत के लिये संबंधित वर्कशाप तथा स्पेयर पार्टस की दुकानों को भी लॉक डाउन से मुक्त रखने के लिये कहा गया है।

यह भी पढ़ें   मुख्यमंत्री कृषक उद्यमी योजना मे मिलेगी 50 हजार से 2 करोड़ तक की राशि

किसान समाधान के YouTube चेनल की सदस्यता लें (Subscribe)करें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here