राज्य की मंडियों में अब फल व सब्जी विक्रेताओं को नहीं देनी होगी मार्केट फीस

1961
haryana market fees

फल व सब्जी मंडी फीस

हरियाणा सरकार किसानों से रबी फसल की खरीदी के साथ ही साथ फल तथा सब्जियों को सरकारी मूल्य पर खरीदने का फैसला किया है | इसके लिए किसानों को पंजीयन करना जरुरी है | अब सरकार किसान के साथ–साथ मंडी के व्यापारियों को भी लाभ देने जा रही है | किसान जब मंडियों में फल तथा सब्जी की विक्री करते हैं तब उन्हें एक प्रतिशत मार्केट फीस व एक प्रतिशत एचआरडीएफ फीस देना होता है जिससे व्यापारियों के लिए फल तथा सब्जी के मूल्य में 2 प्रतिशत की बढ़ोतरी हो जाती है |

व्यापारियों को होगा लाभ

हरियाणा के कृषि मंत्री श्री जयप्रकाश दलाल ने कहा कि प्रदेश की मंडियों में फल व सब्जी विक्रेताओं को मार्केट फीस नहीं देनी पड़ेगी, राज्य सरकार द्वारा एक प्रतिशत मार्केट फीस व एक प्रतिशत एचआरडीएफ फीस को माफ़ कर दिया गया है | मंडी टैक्स माफ़ होने से प्रदेश के व्यापारियों को फायदा होगा | सरकार के अनुसार प्रदेश के व्यापारियों को सालाना कुल 30 करोड़ का लाभ होगा |

यह भी पढ़ें   जानें भावान्तर भुगतान योजना का पूरा गणित

उल्लेखनीय है कि प्रदेश के फल व सब्जी विक्रेता काफी समय से मार्केट फीस को माफ करने की मांग करते हा रहे थे, जिसको सरकार ने माफ कर दिया है। इस पर फल व सब्जी विक्रेताओं ने कृषि मंत्री श्री जयप्रकाश दलाल का आभार जताया और कहा कि वे सरकार के खजाने का नुकसान नहीं होने देंगे तथा किसी न किसी रूप से सहयोग जरूर करेंगे।

पिछला लेखकिसानों के लिए खुशखबरी! गन्ने के खरीद मूल्य में की गई 50 रूपए प्रति क्विंटल बढ़ोतरी
अगला लेखराज्य में अब नहीं होगी यूरिया की कमी, न मिलने पर यहाँ करें शिकायत

LEAVE A REPLY

अपना कमेंट लिखें
आपका नाम लिखें.