उत्तरप्रदेश में निःशुल्क बोरिंग योजना, गहरी बोरिंग योजना हेतु राशि स्वीकृत

2
6137
views
प्रतीकात्मक चित्र

उत्तरप्रदेश में निःशुल्क बोरिंग योजना, गहरी बोरिंग योजना हेतु राशि स्वीकृत

निःशुल्क बोरिंग योजना हेतु 2265.35 लाख रुपये स्वीकृत

उत्तर प्रदेश शासन ने लघु एवं सीमान्त कृषकों को कृषि उत्पादन हेतु सहायता (निःशुल्क बोरिंग योजना) के अन्तर्गत सामान्य कृषकों के लिए 22 करोड़ 65 लाख 35 हजार रुपये की धनराशि स्वीकृत की है। इस धनराशि का उपयोग योजनान्तर्गत पात्र कृषकों को अनुदान की सुविधा उपलब्ध कराकर व तकनीकी मार्गदर्शन देकर निजी लघु सिंचाई संसाधन उपलब्ध कराने में किया जाएगा। उल्लेखनीय है कि इस योजना हेतु 38.83 करोड़ रुपये की धनराशि का प्राविधान किया गया है।
इस सम्बंध में लघु सिंचाई एवं भूगर्भ जल विभाग द्वारा जारी शासनादेश में अधिशासी अभियंता लघु सिंचाई सम्बंधित प्रखण्ड को निर्देशित किया गया है कि जनपदों की वास्तविक आवश्यकता को आंकलन करते हुए निर्धारित भौतिक लक्ष्यों के सापेक्ष नियमानुसार बजट प्राविधान की सीमा के अधीन वित्तीय स्वीकृतियां जारी की जाएं।

गहरी बोरिंग योजना हेतु 184.28 लाख रुपये स्वीकृत

उत्तर प्रदेश शासन ने बुन्देलखण्ड तथा प्रदेश के पठारी जटिल एवं बहुत नीचे गहरे स्ट्रेटा वाले क्षेत्रों में रिंग मशीनों से गहरी बोरिंग कराने की योजना के तहत चालू वित्तीय वर्ष में 01 करोड़ 84 लाख 28 हजार रुपये की धनराशि स्वीकृत की है। उल्लेखनीय है कि इस योजना के लिए 623.64 लाख रुपये की धनराशि का प्राविधान किया गया है।
राज्य सरकार ने गहरी बोरिंग योजना के तहत यह धनराशि मथुरा, मैनपुरी, बरेली, बदायूं, कानपुर नगर, कानपुर देहात, इटावा, औरैया, फर्रुखाबाद, कन्नौज, इलाहाबाद, कौशाम्बी, फतेहपुर, झांसी, जालौन, ललितपुर तथा चित्रकूट जनपदों के लिए जारी की है।
इस सम्बन्ध में लघु सिंचाई एवं भूगर्भ जल विभाग द्वारा जारी शासनादेश में अधिशासी अभियंता लघु सिंचई, सम्बंधित प्रखण्ड को निर्देशित किया गया है कि जनपदों की वास्तविक आवश्यकता का आंकलन करते हुए निर्धारित भौतिक लक्ष्यों के सापेक्ष नियमानुसार बजट प्राविधान की सीमा के अधीन वित्तीय स्वीकृतियां जारी की जाएं।

यह भी पढ़ें   कृषक सेवा पोर्टल पर फसली ऋण एवं पीएम-किसान योजना के लिए ऑनलाइन आवेदन कर सकेगें

 

2 COMMENTS

  1. निःशुल्क बोरिंग योजना का लाभ पाने हेतु आवेदन की प्रक्रिया क्या है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here