बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों के पशुओं के लिए दिया जा रहा है चारा

0
269
pashu chara vitran

पशु चारा वितरण कार्यक्रम

अधिक वर्षा के कारण देश के कई राज्यों के जिलों में बाढ़ की स्थिति बनी हुई है | इससे किसानों को फसल के नुकसान के साथ ही मवेशियों की भी क्षति होती है | सबसे बड़ी समस्या तब उत्पन्न हो जाती है जब किसानों और पशुपालकों को बाढ़ से बचने के लिए अपना स्थान छोड़ कर पशुओं के साथ विस्थापित होना पड़ता है | ऐसे में उनके लिए सबसे बड़ी समस्या पशुओं के लिए आहार के इंतजाम की होती है | कई बार पशु चारा के बिना मर भी जाती है जिससे किसान को काफी क्षति उठाना पड़ता है |

इस स्थिति को देखते हुए बिहार सरकार ने बाढ़ पीड़ितों के बीच पशुओं के लिए चारे का इंतजाम कर रही है | इसके तहत सरकार के तरफ से चारा तथा चोकर दिया जा रहा है | सरकार के तरफ जारी विवरण में बड़े तथा छोटे दोनों प्रकार के जानवरों के लिए चारे का इंतजाम किया जा रहा है | यह वितरण जिला प्रशासन के सहयोग से किया जाएगा |

यह भी पढ़ें   मछली, मुर्गों एवं पशुओं में कोरोना वायरस संक्रमण का कोई खतरा नहीं : श्री गिरिराज सिंह

कितना चारा दिया जायेगा ?

  • निर्धारित सहायय मानदर के अनुरूप बड़े जानवरों के लिए 70 रूपये तथा छोटे जानवरों के लिए 35 रूपये प्रतिदिन अनुमान्य है |
  • आपदाग्रस्त पशुओं के जीवन रक्षक के लिए सामान्य बड़े जानवरों के लिए 06 किलोग्राम छोटे जानवरों के लिए 03 किलोग्राम तथा भेड–बकरियों के लिए 01 किलोग्राम चारा की आवश्यकता होती है |
  • पशु शिविरों / अस्थायी शिविरों में एक बार में तीन दिन / एक सप्ताह हेतु चारा वितरण कराया जाता है तथा बाढ़ की स्थिति के अनुसार शिविर संचालन तक पुन: वितरण कराया जाता है |

कैसे दिया जायेगा चारा

जिला प्रशासन के मार्गदर्शन एवं सहयोग से शिविरों / अस्थाई शिविरों में पशुओं की संख्या के अनुसार चारा वितरण किया जाएगा | चारा वितरण के पूर्व सभी प्रभावित पशुओं की प्रकार / संख्या के आधार पर गन्ना कर पशुपालकवार टोकन वितरण किया जाता है तथा उक्त टोकन के आधार पर क्रमानुसार चारा का प्रबंध कर वितरण किया जाता है |

अधिक जानकारी के लिए यहाँ संपर्क करें ?

पशु चारा वितरण कार्यक्रम के लिए पशुपालक निदेशालय, बिहार, पटना स्थित आपदा कोषांग (दूरभाष संख्या – 0612-2230942) या पशु स्वास्थ्य एवं उत्पादन संस्थान, बिहार पटना (दूरभाष संख्या 0612 – 2226049) से प्राप्त कर सकते हैं |

यह भी पढ़ें   किसानों को पीएम किसान योजना का पैसा दिलाने के लिए मुख्यमंत्री ने केंद्र सरकार को लिखा पत्र

LEAVE A REPLY

अपना कमेंट लिखें
आपका नाम लिखें.