बुआई के 7 दिनों के अन्दर खरपतवार को इन दवाओं से खत्म करें

2
2843
views
buaai ke baad weed kharpatwar ke liye dawa

बोनी के समय लगने वाली खरपतवार एवं उनका नियंत्रण

लगभग सभी राज्यों में वर्षा शुरू हो गई है ऐसे में फसलों की बुआई का काम जोरों पर है परन्तु बुआई के समय वर्षा के कारण बहुत सी खरपतवार भी उग जाती है जो फसलों के लिए नुकसानदायक सिद्ध होती है | इन परिस्थितियों को देखकर कृषि विभाग ने समसामयिक सलाह जारी की है जिससे किसान अनवांछित फसलों पौधों को तुरंत खत्म कर सकें |

विभिन्न फसलों में खरपतवार नियंत्रण के लिए किसान यह कार्य करें

खरपतवार नियंत्रण के लिए रोपा धान में सकरी पत्ती वाली एवं चौड़ी पत्ती वाले खरपतवार के नियंत्रण हेतु बुवाई के 3 से 7 दिन के अंदर ब्युटाक्लोर 3 लीटर दवा 500 लीटर पानी प्रति हेक्टेयर की दर से छिड़काव करने कहा गया है। धान की रोपाई वाले कुल क्षेत्रफल के दसवें भाग में नर्सरी तैयार करें इसके लिए मोटे धान वाली किस्मों की मात्रा 50 किलोग्राम प्रति हेक्टेयर या पतला धान की किस्मों की मात्रा 40 किलोग्राम प्रति हेक्टेयर की दर से बीज डालने की सलाह दी गई है। उकठा ग्रसित क्षेत्रों में अरहर के साथ ज्वार की मिलवा खेती करने से अरहर में उकठा (विल्ट) रोग कम लगता है।

यह भी पढ़ें   किसानों को 80 प्रतिशत तक का अनुदान दे रही यह सरकार

मूंगफली, सोयाबीन एवं अरहर हेतु जल निकास की व्यवस्था कर बुवाई करनी चाहिए। सोयाबीन एवं अन्य दलहनी फसलों के बीजों की राइजोबियम कल्चर 5 ग्राम एवं पी.एस.बी. 10 ग्राम प्रति किलोग्राम बीज की दर से उपचार करने और सोयाबीन में खरपतवार नियंत्रण के लिए अंकुरण पूर्व क्यूजोलाफाप-पी-एथिल, इमेजाथाइपर या पेन्डीमेथिलिन या मैट्रीबुजिन का छिड़काव करने की सलाह दी गई है।

वर्षाकालीन सब्जियों के लिए जैसे कद्दूवर्गीय, लौकी, करेला इत्यादि बेल वाली फसलों को बाड़ी में लगाने इसी प्रकार टमाटर, बैगन, मिर्च, भिन्डी एवं अन्य सब्जी वाली फसल में निंदाई गुडाई करने कहा गया है। सामयिक सलाह में केले के पौधे की रोपाई का कार्य आरंभ करने  और अन्य फलदार पौधों को लगाने का कार्य भी आरंभ करें |

इस तरह की ताजा जानकरी विडियो के माध्यम से पाने के लिए किसान समाधान को YouTube पर Subscribe करें

2 COMMENTS

  1. सर नमस्कार
    मेरे खेत मे ज्वार की बुवाई करने के 4दिन बाद बारिश हो गई । अब वो काफी अच्छी ऊँग गई हैं मगर सबका मानना है यह ज्यादा बढ़ेगी नही । क्योकि बुवाई के 8 दिन में बारिस होने पर फसल को रोड मानते है।
    पता: कल्याणपुर(बाड़मेर )राजस्थान
    तो सर अब में क्या करूँ कोई समाधान ..

    • ज्वार की खेती की पूरी जानकरी के लिए निचे दी गई लिंक पर देखें |https://kisansamadhan.com/crops-production/kharif-crops/cultivation-of-sorghum-vulgare/

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here