किसान संगठनों एवं सरकार के बीच पांचवे दौर की वार्ता आज, बात नहीं बनी तो 8 दिसंबर को भारत बंद का ऐलान

0
farmer protest 9th day Update

किसान संगठनों एवं सरकार के बीच पांचवे दौर की वार्ता आज

कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली में चल रहे किसान आन्दोलन के 9 दिन बीत चुके हैं | 3 दिसम्बर को सरकार और किसान संगठनों के प्रतिनिधियों के बीच चौथे दौर की बातचीत भी बेनतीजा निकली | 3 दिसम्बर को हुई सरकार और किसान संगठनों के बीच बैठक में सरकार नए कृषि कानूनों में कुछ संशोधनों की बात मानने को तैयार होते हुए दिखी परन्तु किसान संगठनों के द्वारा 4 दिसम्बर को आपसी बातचीत के बाद यह बात साफ़ कर दी गई कि उनकी मांग कृषि कानूनों में संशोधन नहीं बल्कि उन्हें रद्द करवाना हैं |

3 दिसम्बर को हुई बैठक के बाद कृषि मंत्री ने क्या कहा

केन्द्रीय कृषि मंत्री श्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने कहा कि किसान संगठनों के प्रतिनिधियों के साथ चौथे दौर की बातचीत भी सकारात्मक रही, जिसमें अनेक बिंदुओं पर चर्चा सार्थक रही। नए कानूनों में किसानों को पूर्णतः सुरक्षा प्रदान की गई है, किसान की जमीन की लिखा-पढ़ी करार में किसी भी सूरत में नहीं की जा सकती है, फिर भी यदि कोई शंका है तो उसका निवारण करने के लिए सरकार तैयार है। भारत सरकार किसानों के हितों के प्रति पूरी तरह प्रतिबद्ध है और आगे भी रहेगी।

बैठक के बाद कृषि मंत्री ने कहा कि किसान यूनियन और किसानों की चिंता है कि नए एक्ट से APMC ख़त्म हो जाएगी। भारत सरकार इस बात पर विचार करेगी कि APMC सशक्त हो और APMC का उपयोग और बढ़े | किसान यूनियन की पराली के विषय में एक अध्यादेश पर शंका है, विद्युत एक्ट पर भी उनकी शंका है। इसपर भी सरकार चर्चा करने के लिए तैयार है |

वार्ता के बाद किसान पक्षों ने क्या कहा

3 दिसम्बर को हुई सरकार के साथ हुई बातचीत के बाद किसान संगठनों ने 4 दिसम्बर को बैठक के बाद कहा कि आज किसान सगठनों की बैठक में तीन निर्णय हुए हैं, पहला ये कि कल जब सरकार से बात होगी तो साफ कर दिया जाएगा कि तीनों कानूनों को वापस लिए जाने के अलावा कोई बातचीत नहीं होगी | दूसरा ये कि शनिवार 5 दिसम्बर को देशभर में किसान संगठन पीएम मोदी और कॉर्पोरेट घरानों के पुतले फूकेंगे, 7 तारीख को सभी वीर अपने मेडलों को वापिस करेंगे और तीसरा ये कि 8 दिसंबर को भारत बंद किया जाएगा |

यह भी पढ़ें   खेती के समय घायल या मौत होने पर किसानों को दिया जाएगा इतना मुआवजा

8 दिसंबर को भारत बंद का आह्वान

इसके अलावा आज किसान नेताओं ने कहा कि हम 8 दिसंबर को पूरे देश के टोल प्लाजा फ्री करेंगे और जो दिल्ली के बचे कुचे रास्ते हैं उन्हें भी बंद करेंगे | किसानों कहा है कि वो 5 दिसंबर को पीएम मोदी और कॉर्पोरेट घरानों के पुतले जलाएंगे |

5 दिसंबर को होगी पांचवे दौर की वार्ता

3 दिसम्बर को हुई सरकार और किसान संगठनों के प्रतिनिधियों के बीच वार्ता को 5 दिसम्बर को आगे बढाया जायेगा | इसको लेकर कृषि मंत्री ने कहा कि 5 दिसंबर को दोपहर में 2 बजे यूनियन के साथ सरकार की मुलाकात फिर होगी और हम किसी अंतिम निर्णय पर पहुंचेंगे | वहीँ किसान संगठनों के प्रतिनिधियों ने साफ़ कर दिया कि सरकार से बात होगी तो साफ कर दिया जाएगा कि तीनों कानूनों को वापस लिए जाने के अलावा कोई बातचीत नहीं होगी |

यह भी पढ़ें   जुलाई से किसानों को खरीफ फसल के लिए दिया जाएगा कृषि लोन

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here