किसानों को अब इस समय दी जाएगी कृषि कार्यों के लिए बिजली

303
electricity supply to farmers

कृषि कार्यों के लिए बिजली आपूर्ति

इस वर्ष देश के अधिकांश राज्यों में कोयले की कमी एवं बिजली की अधिक माँग के कारण बिजली की कमी बनी हुई है। जिसके कारण कई राज्यों में बिजली की कटौती की जा रही है जिससे किसानों को कृषि कार्यों के लिए काफी कम बिजली मिल रही है। कम बिजली आपूर्ति के चलते किसानों की ग्रीष्मकालीन फसलों को काफी नुकसान हुआ है। किसान अपने कृषि कार्य कर सके इसके लिए राजस्थान सरकार ने बिजली आपूर्ति को बढ़ाने का फैसला लिया है।

राजस्थान के ऊर्जा राज्य मंत्री श्री भंवर सिंह भाटी ने रविवार को विडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से आयोजित बैठक में प्रदेश में बिजली आपूर्ति व्यवस्था की समीक्षा की। श्री भाटी ने बिजली की मांग, उपलब्धता एवं आपूर्ति की स्थिति की समीक्षा करते हुए अधिकारियों को निर्देश दिए कि किसानों को फसल की सिंचाई हेतु ब्लॉक आपूर्ति के समय में एक घंटे की बढोतरी की जाए। वर्तमान में किसानों को 4 घंटे के तीन ब्लॉक में बिजली आपूर्ति की जा रही है।

यह भी पढ़ें   किसानों को सब्सिडी पर कृषि यंत्र देने के लिए इस दिन जारी की जाएगी लिस्ट

किसानों को इस समय दी जाएगी बिजली

ऊर्जा राज्य मंत्री श्री भाटी ने निर्देश दिए कि किसानों को 4 के बजाए 5 घंटे के तीन ब्लॉक में बिजली आपूर्ति की जाएगी। किसानों को अब रात्रि में 2 बजे से प्रातः 7 बजे तक, प्रातः 10 बजे से दोपहर 3 बजे तक एवं अपरान्ह 12 बजे से सांय 5 बजे तक तीन ब्लॉक में बिजली आपूर्ति की जाएगी। इन तीनों ब्लॉक में किसानों को निर्बाध बिजली आपूर्ति सुनिश्चित की जाए और इसमें किसी तरह की कोताही नही बरती जाए।

किसानों को बिजली आपूर्ति ब्लॉक में किए गए बदलाव से दिन के दो ब्लॉक का समय अपरान्ह 12 बजे से 3 बजे तक एक साथ आने की वजह से बिजली आपूर्ति व्यवस्था को सामान्य बनाए रखने के लिए बढी हुई मांग को एनर्जी एक्सचेंज से बिजली खरीद कर पूरा करने के निर्देश दिए गए।

अधिक से अधिक किसानों को दिए जाएँ बिजली कनेक्शन

ऊर्जा मंत्री ने निर्देश दिए हैं कि किसानों को कृषि कनेक्शन जारी करने के कार्य को सर्वोच्च प्राथमिकता दी जाए। इसके साथ ही गर्मी को देखते हुए पीएचइडी के लम्बित बिजली कनेक्शन भी तुरन्त प्राथमिकता से जारी किए जाएं। किसानों को आगामी समय में दिए जाने वाले नए कृषि कनेक्शन एवं दिन के समय दो ब्लॉक में बिजली आपूर्ति को देखते हुए सिस्टम पर बढने वाले लोड के मध्यनजर 400 केवी, 220 केवी एवं 132 केवी जीएसएस के निर्माण कार्य में तेजी लाने के लिए प्रसारण निगम को निर्देश दिए गए।

यह भी पढ़ें   किसानों की आय बढ़ाने के लिए दिए जाएंगे टिश्यू कल्चर पद्धति से तैयार सागौन पौधे

बिजली से सम्बंधित शिकायत के लिए टोल फ्री नंबर

समीक्षा बैठक में ऊर्जा राज्य मंत्री ने राजस्थान विद्युत उत्पादन निगम के सीएमडी को निर्देश दिए कि किसानों द्वारा बिजली की समस्या को कॉल सेन्टर पर दर्ज कराने हेतु टोल फ्री नम्बर का व्यापक प्रचार- प्रसार किया जाए। इसके साथ ही टोल फ्री नम्बर को जीएसएस, उपखण्ड कार्यालय एवं एफआरटी व्हीकल पर भी प्रदर्शित किया जाए, जिससे उपभोक्ताओं को बिजली शिकायतें दर्ज कराने में किसी प्रकार की समस्या नही हो। किसान अपनी शिकायतें टोल फ़्री नंबर 1800-180-6507 या 1912 पर कर सकते हैं।

LEAVE A REPLY

अपना कमेंट लिखें
आपका नाम लिखें.