किसान अब सीधे फ्री में ले सकेंगे कीटनाशक रसायन, सरकार करेगी भुगतान

10
19924
keetnashak subsidy anudan yojna

कीटनाशक रसायन अनुदान

किसानों के खेतों में रबी फसलों की बुआई हो चुकी है अब किसानों को इन फसलों को कीट रोग से बचाना है ताकि उत्पादन अधिक एवं गुणवत्तापूर्ण हो परन्तु ऐसा नहीं है प्रकृति किसी न किसी रूप में फसलों को कुछ न कुछ नुकसान तो पहुंचा ही देती है | अभी हाल ही में कई जगहों पर पाला पड़ने से तो कई जगहों पर ओलावृष्टि से फसल नुकसान होने की सुचना मिल रही है यह तो प्राकर्तिक कारण है जिसे हम नियंत्रित नहीं कर सकते हैं परन्तु हम कीट रोगों से फसल सुरक्षा प्रदान कर सकते हैं |

अभी हाल के दिनों में पडोसी देशों से टिड्डी कीट का हमला देश के सीमावर्ती राज्यों राजस्थान एवं गुजरात में हुआ है जिससे वहां की फसलों को काफी नुकसान हो रहा है | राज्य सरकार की सभी कोशिशों के बाद भी कीट नियंत्रण नहीं हो पा रहा है | राज्य सरकार ने टिड्डी कीट नियंत्रण के लिए कीटनाशकों पर 50 प्रतिशत की सब्सिडी जो पौध सरक्षण योजना के तहत किसानों को दी जाती है को बढ़ा कर शत प्रतिशत कर दिया है |

यह भी पढ़ें   मौसम चेतावनी: 5 मार्च से 6 मार्च तक इन जिलों में हो सकती है बारिश एवं ओलावृष्टि

अब किसानों को टिड्डी नियन्त्रण के लिए जो कीटनाशक दिए जा रहा है उसके लिए किसी भी तरह का शुल्क पहले या बाद में नहीं लिया जायेगा | इसका मतलब यह हुआ कि किसानों  को टिड्डी नियंत्रण के लिए राजस्थान सरकार कीटनाशक केवल सुचना के आधार पर दे रही है |

कीटनाशक रसायन देने के नियम में यह परिवर्तन किये गए

सबसे पहले टिड्डी प्रभावित किसानों के लिए कीटनाशक 50 प्रतिशत की सब्सिडी पर दिया जा रहा था | जिसमें कीटनाशक के मूल्य के आधा पैसा लिया जा रहा था लेकिन कीटनाशक खरीदते समय किसान को पूरा पैसा देना पड़ता था और बाद में 50 प्रतिशत सब्सिडी किसान के बैंक खाता में दे दी जाती थी |

किसानों के पास पैसा नहीं रहने के कारण वह टिड्डी नियंत्रण के लिए कीटनाशक नहीं खरीद पा रहे थें | सरकार पैसा तो दे रही है लेकिन बाद में और किसान के पास पहले पैसा नहीं है | इसी को ध्यान में रखते हुए सरकार ने किसानों को कीटनाशक बिना किसी तरह के शुल्क जमा किये देने का फैसल किया है | कीटनाशक पर दिया जानेवाला सब्सिडी का पैसा सहकारी संस्था को दे दिया जायेगा |

यह भी पढ़ें   किसानों के लिए नई बीमा योजना, दुर्घटना होने पर मिलेगी 5 लाख रुपये तक की सहायता राशि

किसानों को दिया जायेगा नुकसानी पर अनुदान

राजस्थान के कृषि मंत्री ने बताया कि किसानों को पौध संरक्षण रसायन उपलब्ध करने के बाद अनुदान राशि के क्लेम के लिए सहकारी संस्थाएं आवेदक किसानों की सूची जरुरी दस्तावेजों के साथ संबंधित उप निदेशक कृषि (विस्तार) या सहायक निदेशक कृषि (विस्तार) कार्यलय में प्रस्तुत करेगी | संबंधित कार्यालय क्लेम प्रस्तुत करने पर अनुदान राशि का भुगतान दस दिन में करना सुनिश्चित करेंगे |

टिड्डी कीट के लिए यह कीटनाशक ले सकते हैं किसान 

  1. बैन्डियोकार्ब 80 प्रतिशत डब्ल्यूपी 125 ग्राम
  2. क्लोरोपायरीफास 20 प्रतिशत ईसी 1200 एमएल
  3. क्लोरोपायरीफास 50 प्रतिशत ईसी 480 एमएल
  4. डेल्टामेंथ्रीन 2.8 प्रतिशत ईसी625 एमएल
  5. डेल्टामेथ्रिन1.25 प्रतिशत युएलवी 1400 एमएल
  6. डाईफ्ल्यूबेन्ज्युरों 25 प्रतिशत डब्ल्यूपी 120 एमएल
  7. लेम्बडासायलोथ्रिन 5 प्रतिशत एमएल
  8. लम्बडासायलोथ्रीन 10 प्रतिशत डब्ल्यूपी 200 ग्राम
  9. मेलाथियान 50 प्रतिशत ईसी 1850 एमएल
  10. मेलाथ्रीन 25 प्रतिशत डब्ल्यूपी का 3700 ग्राम प्रति हैक्टेयर के हिसाब से छिड़काव करें |

किसान समाधान के YouTube चेनल की सदस्यता लें (Subscribe)करें

10 COMMENTS

  1. बिहार के लिए किसान समाधान योजना के बारे में बताएं

  2. Sir mera society mai 7000tha jo ki maf ho gaya hai lekin SBI mai 100000hai ye kab tak maf hoga. hoga ki nahi mai mp se hoo.

    • थोडा इन्तजार करें | दुसरे चरण में 1 लाख तक के ऋण माफ़ किये जा रहे हैं |

    • जी अभी दूसरा चरण शुरू हुआ है इसमें अभी समय लगेगा |

    • दो लाख तक का ही कर्ज माफ़ होगा बाकि राशी आपको देनी पढेगी |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here