किसान अब 7050 रुपये के भाव पर बेच सकेंगे 10 फीसदी अधिक मूंग, अभी पंजीयन करें

0
11173
views
moong ki sarkari kharid raj panjiyan

समर्थन मूल्य पर मूंग की सरकारी खरीद

इस वर्ष खरीफ फसल में मौसम का साथ नहीं देने के कारण दलहन की उत्पादन कम हुआ है | जिसके कारण बाजार में दलहन की मांग लगातार बढ़ रही है | इसी को ध्यान में रखते हुये राज्य सरकार किसानों से दलहन खरीदी के लिए पंजीयन की आखरी डेट तथा खरीदी क्षमता को बढ़ा रही है | राजस्थान में पहले भी दलहन के लिए 10 प्रतिशत अधिक खरीदी क्षमता बढ़ाने के लिए पंजीयन की डेट को बढाई गई थी | राजस्थान में अभी किसानों से मूंग उड़द एवं मूंगफली समर्थन मूल्य पर खरीदी जा रही है |

मूंग बेचने के लिए किन जिलों के किसान पंजीयन करें ?

राजस्थान के प्रमुख शासन सचिव , सहकारिता श्री नरेश पाल गंगवार ने बताया कि बीकानेर, चुरू, श्रीगंगानगर, नागौर, सीकर, झुंझुनू एवं जैसलमेर जिलों मकरी केंद्र क्षमता के अनुसार कुछ केन्द्रों पर पंजीयन पूरा हो चूका है | उक्त जिलों में अधिक मुंग उत्पादन की स्थिति में 63 केन्द्रों पर पंजीयन की सीमा को 10 प्रतिशत और बढ़ा दी गई है | उन्होंने बताया कि बुधवार 4 दिसम्बर से इन जिलों में पंजीयन फिर से प्रारम्भ हो जाएंगे |  इस वर्ष मूंग का समर्थन मूल्य 7050 रुपये है |

अभी तक मूंग बेचने के लिए कुल पंजीकृत किसान ?

श्री गंगवार ने बताया कि 2 लाख 44 हजार किसानों ने समर्थन मूल्य पर मुंग, उड़द, सोयाबीन एवं मूंगफली के लिए पंजीयन करा लिया है | उन्होंने बताया कि 327 खरीदी केंद्र स्थापित किये गए हैं | मुंग के लिए 1 लाख 25 हजार 671 किसनों ने पंजीयन कराया है | उन्होंने बताया कि इस निर्णय से मुंग के 63 केन्द्रों पर 6 हजार 732 किसानों को फायदा मिलेगा |

अभी तक सरकारी खरीद ?

राज्य में मूंग एवं मूंगफली की 227 केन्द्रों पर 2 दिसम्बर तक 43 हजार 269 किसानों से 81 हजार मीट्रिक टन की मुंग एवं मूंगफली की खरीदी हो चुकी है | जिसकी राशि 522.30 करोड़ रूपये है | 28 हजार 546 को 341.10 करोड़ रूपये का भुगतान किया जा चूका है |

सरकार ने किसानों की सहायता के लिए टोल फ्री नंबर किया जारी

किसानों की समस्या के समाधान हेतु राजफेड स्तर पर टोल फ्री हेल्पलाईन नंबर 1800-180-6001 पर प्रात: सुबह 9 से शाम 7 बजे तक किसान अपनी समस्याओं को हेल्पलाईन नंबर दर्ज करा सकते हैं अथवा अपनी शिकायत/ समस्या को लिखित में राजफैड मुख्यालय में स्थापित काल सेंटर पर [email protected] पर मेल भेज सकते हैं |

किसान समाधान के YouTube चेनल की सदस्यता लें (Subscribe)करें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here