8 और 9 सितम्बर को कृषि मेले में किसानों को किया जायेगा सम्मानित, किसान खरीद सकेंगे उन्नत किस्मों के बीज

कृषि मेला (रबी) 2021

किसानों को कृषि क्षेत्र में नई-नई तकनीकों से अवगत करवाने एवं उनकी जिज्ञासाओं के समाधान के लिए प्रतिवर्ष कृषि विश्वविद्यालयों के द्वारा कृषि मेले का आयोजन किया जाता है | इन मेलों के मधयम से किसानों को आधुनिक कृषि यंत्रों व कृषि में उपयोग की जा रही नई तकनीकों से अवगत कराया जाता है | ऐसा ही एक कृषि मेला 8 एवं 9 सितम्बर को चौधरी चरण सिंह हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय, हिसार की ओर से आयोजित किया जा रहा है | किसान इस मेले में भाग लेकर कृषि सम्बंधित कई जानकारी प्राप्त कर सकते हैं |

कृषि मेला रबी में यह रहेगा खास

इस बार ऑफलाइन माध्यम से होने वाले इस कृषि मेला(रबी)का मुख्य थीम “जल संरक्षण” होगी। इसके अलावा, मेले में कृषि संबंधी व कृषि औद्योगिकी प्रदर्शनी भी लगाई जाएंगी जिससे किसानों को आधुनिक कृषि यंत्रों व तकनीकों की जानकारी मिल सके।

- Advertisement -

मेले के दौरान किसान मिट्टी पानी की जांच के अलावा मौसम पूर्वानुमान संबंधी पंजीकरण भी करवा सकेंगे ताकि किसानों को अपनी फसल के बेहतर उत्पादन में सहायता मिल सके | मेले के लिए वैज्ञानिकों की टीम का पैनल बनाया गया है जो किसानों की समस्याओं का समाधान करेंगे |

किसानों को मिल सकेंगे उन्नत किस्मों के बीज

कृषि मेला (रबी) के दौरान किसानों को विभिन्न फसलों की उन्नत किस्मों के बीज उपलब्ध करवाए जाएंगे | मेले में बिक्री के लिए विश्वविद्यालय के पास विभिन्न फसलों की उन्नत किस्मों के करीब 9000 क्विंटल बीज (Seed) उपलब्ध हैं | इसे किसानों (Farmers) को मुहैया करवाया जाएगा | इसके अलावा विश्वविद्यालय द्वारा विकसित की गई सब्जियों के बीज भी उपलब्ध करवाए जाएंगे |

मेले के दौरान किसानों को विभिन्न फसलों व सब्जियों की उन्नत किस्मों के बीजों के अलावा फलदार पौधे भी बिक्री किए जाते हैं। किसानों की सुविधा के लिए मेला ग्राउंड में ही फलदार पौधों की ट्राली खड़ी की जाएगी ताकि किसानों को पौधे लेने के लिए मेला ग्राउंड से दूर विश्वविद्यालय के फार्म पर न जाना पड़े। इस बार मेले में अमरूद, बेरी, आंवला, करोंदा, अंगूर, आड़ू व अनार के पौधे दिए जाएंगे।

प्रगतिशील किसानों को किया जायेगा सम्मानित

चौधरी चरण सिंह हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय, हिसार की ओर से कृषि मेला (रबी) 8 व 9 सितंबर को आयोजित किया जा रहा है जिसमें प्रत्येक जिले से एक-एक प्रगतिशील किसान को सम्मानित किया जाएगा। यह जानकारी देते हुए विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर बी.आर. काम्बोज ने बताया कि इसके लिए सम्मानित किए जाने वाले किसानों की सूची तैयार कर ली गई है। किसानों को सम्मानित करने का मुख्य उद्देश्य अन्य किसानों को ऐसे प्रगतिशील किसानों से प्रेरणा लेने के लिए प्रेरित करना है।

- Advertisement -

Related Articles

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

217,837FansLike
823FollowersFollow
54,000SubscribersSubscribe

Latest Articles

ऐप खोलें