किसानों को इस महीने से ही दिया जायेगा फसल नुकसानी का मुआवजा

4
58033
crop damage rain hail

फसल नुकसानी का मुआवजा

पिछले दिनों बेमौसम बारिश एवं ओलावृष्टि से किसानों की  फसलों को बहुत अधिक नुकसान हुआ है | यह आपदा सिर्फ एक दो राज्यों तक ही सिमित नहीं है कई राज्यों के किसानों को असमय बारिश एवं ओलावृष्टि से खड़ी फसलों को काफी नुकसान हुआ है | सभी राज्य सरकारों ने बारिश एवं ओलावृष्टि से हुए नुकसान के सर्वे के लिए आदेश जारी कर दिए हैं | फसल को होने वाले नुकसान को लेकर सभी राज्य सरकारें गंभीर है सभी राज्य की की सरकारों ने किसानों को जल्द मुआवजा दिए जाने की घोषणा की है | बिहार राज्य सरकार ने जहाँ इसके लिए ऑनलाइन आवेदन शुरू कर दिए हैं वही राजस्थान सरकार ने विशेष गिरदावरी अभियान शुरू कर दिया है | उत्तरप्रदेश सरकार ने मुख्यमंत्री श्री ने सभी जिलाधिकारियों को यह भी निर्देश दिए हैं कि वे अपने-अपने जनपद में फसलों को हुए नुकसान का तत्काल आंकलन करते हुए अधिकतम 48 घंटे के अंदर शासन को आख्या उपलब्ध कराएं।

राजस्थान सरकार इस माह से देगी फसल नुकसानी का मुआवजा

राजस्थान विधान सभा में मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत ने जानकारी दी है कि किसानों की फसल की गिरदावरी 20 मार्च तक पूरी कर ली जाएगी | हर वर्ष फसल बुआई के बाद ही गिरदावरी की जाती है लेकिन इस बार बारिश तथा ओला से फसल के हुए नुकसान की आकलन के लिए विशेष गिरदावरी किया जा रहा है | इसके बाद नुकसानी के आधार पर बिना देरी के किसानों के बीच सहायता राशि का वितरण शुरू होगा | जिन क्षेत्र का गिरदावरी नहीं हुआ है वह अपने तहसील के पटवारी से संपर्क करके गिरदावरी को 20 मार्च तक पूर्ण करें क्योकि गिरदावरी के आधार पर ही किसानों के बीच सहायता राशी का भुगतान किया जाएगा |

उत्तरप्रदेश सरकार ने शुरू किया मुआवजा देने का कार्य

मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ ने 12 एवं 13 मार्च को आकाशीय बिजली गिरने, ओलावृष्टि अवं पेड़ गिरने से हुई 3 किसानों की मृत्यु पर उनके परिजनों को 04 लाख रुपये का चेक दिया | मुख्यमंत्री ने जिला अधिकारीयों को निर्देश दिया है की वह ओलावृष्टि एवं वर्षा से हुई फसल क्षति से प्रभावित किसानों की सूची राजस्व विभाग के माध्यम से तैयार कराएँ | प्रदेश सर्कार द्वारा प्रत्येक किसान की क्षति की भरपाई की जाएगी | सभी जिलाधिकारियों को यह भी निर्देश दिए हैं कि वे अपने-अपने जनपद में फसलों को हुए नुकसान का तत्काल आंकलन करते हुए अधिकतम 48 घंटे के अंदर शासन को आख्या उपलब्ध कराएं।

बिहार में किसान फसल नुकसानी के मुआवजे के लिए ऑनलाइन आवेदन कर सकेगें

राज्य सरकार ने राज्य के सभी किसान सलाहकर, कृषि समन्वयक, सहायक तकनीकी प्रबंधक, प्रखंड तकनीकी प्रखंड तकनीकी प्रबंधक तथा प्रखंड कृषि पदाधिकारियों को निर्देशित किया गया है कि वे अपने कार्यक्षेत्र के सभी किसानों के फसलों की वास्तविक स्थिति तथा क्षति का आकलन कर विहिप प्रपत्र में प्रतिवेदन उपलब्ध करायें | कृषि मंत्री के अनुसार आपदा की स्थिति में सरकार के खजाने पर पहला हक़ आपदा पीड़ितों का है |

यह भी पढ़ें   भूमि आंवला  (हाजार दाना) वैज्ञानिक तकनिकी

बिहार में फरवरी माह में असमय वर्षा / आंधी/ओलावृष्टि के कारण खड़ी फसलों को हुई क्षति की भरपाई के लिए राज्य सरकार द्वारा प्रतिवेदन 11 जिलों के प्रभावित किसनों को कृषि इनपुट अनुदान उपलब्ध करने की प्रक्रिया चल रही है | यह 11 जिलें इस प्रकार है – औरंगाबाद, भागलपुर, बक्सर, गया, जहानाबाद, कैमूर, मुज्जफरपुर, पटना, पूर्वी चंपारण, समस्तीपुर तथा वैशाली | कृषि इनपुट अनुदान के लिए किसान आनलाइन आवेदन 23 मार्च 2020 तक कर सकते है |

किसान समाधान के YouTube चेनल की सदस्यता लें (Subscribe)करें

4 COMMENTS

  1. In Bihar, except 11 district ,many other districts such as Lakhisarai,Munger, Jamui and others also faces the problem of untimely heavy rain and heavy loss of Rabi crops such as wheat,mustard,gram .So the benefits of krishi input must be given to these districs also.

    • दसल नुकसानी का सर्वे हुआ है तो जल्द दिया जायेगा |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here