चना एवं सरसों समर्थन मूल्य पर बेचने के लिए किसान 25 मार्च से करवा सकेंगे ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन

0
874
chana sarso msp panjiyan

सरसों एवं चना MSP खरीद हेतु किसान पंजीयन

केंद्र सरकार के द्वारा प्रतिवर्ष 23 मुख्य फसलों का न्यूनतम समर्थन मूल्य घोषित किया जाता है | इसके अनुसार ही राज्य सरकारों के द्वारा किसानों से पंजीकरण करवा कर फसलों को ख़रीदा जाता है | कई राज्यों में विभिन्न फसलों की प्रक्रिया चल रही है वहीँ कई राज्यों में किसानों से पंजीकरण पूर्ण हो चुके हैं | इस बीच राजस्थान सरकार ने किसानों से चना एवं सरसों फसलों की खरीदी के लिए किसान पंजीकरण 25 मार्च से शुरू करने का फैसला लिया है | वही राज्य में समर्थन मूल्य पर गेहूं की खरीदी के लिए पंजीकरण 12 मार्च से ही शुरू किये जा चुके हैं |

राजस्थान में सरसों एवं चने की समर्थन मूल्य पर खरीद के लिए 25 मार्च से ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन शुरू किया जाएगा। एक अप्रेल से सरसों के 651 तथा चने के 651 केन्द्रों पर खरीद प्रारंभ की जाएगी। किसानों से समर्थन मूल्य पर चना की 6 लाख 14 हजार 900 मीट्रिक टन तथा सरसों की 12 लाख 22 हजार 775 मीट्रिक टन की खरीद की जाएगी। किसानों की सुविधा के लिए सरसों एवं चने क्रय-विक्रय सहकारी समितियों पर 264-264 केन्द्र तथा ग्राम सेवा सहकारी समितियों पर 387-387 खरीद केन्द्र खोले गए है।

चना एवं सरसों रजिस्ट्रेशन के लिए आवश्यक दस्तावेज

सहकारिता मंत्री श्री उदय लाल आंजना ने बताया कि किसान के उपज के सही मूल्य मिलने के हक को कोई छीन न सके इसे सुनिश्चित करने के लिये ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन में पुख्ता व्यवस्था की गई है। किसान ई-मित्र केन्द्र या संबंधित खरीद केन्द्र पर रजिस्ट्रेशन करवा सकता है। पंजीयन के लिए जनआधार कार्ड,  बैंक पासबुक आवश्यक दस्तावेज है, जिन केन्द्रों पर ऑनलाइन गिरदावरी की सुविधा उपलब्ध है वहां किसान ऑनलाइन गिरदावरी प्राप्त कर सकते है। पटवारियों की हड़ताल के चलते किसानों को गिरदावरी प्राप्त करने में असुविधा न हो इस उद्देश्य से कृषि विभाग द्वारा समर्थन मूल्य पर सरसों व चना खरीद/पंजीयन के लिए कृषि पर्यवेक्षकों को गत वर्ष की जारी गिरदावरी रिपोर्ट को इस वर्ष के लिए प्रमाणित करने के लिए अधिकृत कर दिया गया है।

यह भी पढ़ें   सम्मान निधि योजना के लाभार्थी किसानों को दिया जाएगा किसान क्रेडिट कार्ड

एक मोबाइल नम्बर पर एक किसान करवा सकेगा पंजीयन

सहकारिता मंत्री ने बताया कि एक मोबाइल नम्बर पर एक ही किसान का पंजीयन किया जायेगा तथा पंजीयन का कार्य प्रातः 9 बजे से सायं 7 बजे तक होगा। किसान की कृषि भूमि जिस तहसील में होगी उसी तहसील के कार्यक्षेत्र में आने वाले खरीद केन्द्र का चयन रजिस्ट्रेशन के दौरान कर सकेगा। किसान को उसकी पंजीकरण दिनांक के आधार पर सॉफ्टवेयर द्वारा वरीयता के अनुसार तुलाई हेतु दिनांक एवं जिन्स की मात्रा का आवंटन किया जायेगा तथा इसकी सूचना किसान के पंजीकृत मोबाइल पर एसएमएस द्वारा दी जायेगी |

किसान को पंजीयन करवाने के लिए 31 रुपये का भुगतान करना होगा। किसान को जन आधार कार्ड से संबद्ध बैंक खाता का विवरण की जांच कर लेनी चाहिये। यदि कार्ड में बैंक खाता विवरण गलत दर्ज है तो रजिस्ट्रेशन से पूर्व उसे दुरस्त करवा लें। रजिस्ट्रेशन के समय बैंक खाता संख्या का विवरण को सही ढंग से अपलोड करवाए ताकि भुगतान प्राप्त करने में किसान को किसी प्रकार की परेशानी न हो।

यह भी पढ़ें   टिड्डी कीट के प्रकोप से राज्य के किसानों को हुआ 1 हजार करोड़ रुपये का नुकसान: मुख्यमंत्री

किसानों को उपज का करवाना होगा परिक्षण

राज्य के किसानों को पहले की तरह अनाज संबंधित नजदीकी खरीद केंद्र पर जाकर जहां भारत सरकार द्वारा निर्धारित एफएक्यू मापदंडों के अनुसार परीक्षण करवाना होगा। सरकार द्वारा निर्धारित केन्द्रों पर सरसों 4,650 रुपये तथा चना 5,100 रुपये प्रति क्विंटल के समर्थन मूल्य पर किसानों से खरीदा जाएगा । तुलाई के समय किसी प्रकार की असुविधा से बचने के लिए उपज को तय एफएक्यू मापदण्डों के अनुसार तैयार कर लायें ।

समर्थन मूल्य पर खरीद सम्बंधित जानकारी के लिए टोल फ्री नम्बर

किसान किसी भी प्रकार की कोई जानकारी अगर लेना चाहते हैं तो टोल फ्री नंबर 1800 -180- 6001 पर जानकारी ले सकते हैं। किसानों को इस वर्ष भी 48 घंटों के अंदर ऑनलाइन भुगतान करवाए जाने की व्यवस्था की जा रही है। अगर किसी किसान के पास जन आधार कार्ड उपलब्ध नहीं है तो वह जन आधार कार्ड के लिए ई-मित्र के माध्यम से आवेदन कर सकेंगे | अगर किसी किसान के जन आधार कार्ड में बैंक खाता संख्या का नहीं है तो इसके लिए नजदीकी ई-मित्र पर जाकर जन आधार कार्ड में अपने खाते का भी इंद्राज करवा सकेंगे |

LEAVE A REPLY

अपना कमेंट लिखें
आपका नाम लिखें.