back to top
Wednesday, May 22, 2024
Homeकिसान समाचारजिन किसानों का फसल बीमा नहीं हैं उन किसानों को भी दिया...

जिन किसानों का फसल बीमा नहीं हैं उन किसानों को भी दिया जाएगा फसल नुकसानी का मुआवजा

बारिश एवं ओलावृष्टि से फसल नुकसानी का मुआवजा

देश कई राज्यों में लगातार बारिश एवं ओलावृष्टि से किसानों की फसलों को नुकसान पहुँच रहा है, कुछ किसानों की पूरी की पूरी खड़ी फसलें बर्बाद हो गई है | वहीँ अभी भी कई स्थानों पर बारिश एवं ओलावृष्टि की सम्भावना बनी हुई है | जिसके कारण आने वाले दिनों में भी किसानों की और अधिक फसल नुकसान होने की संभावना है | इसको लेकर किसान समाधान लगातार किसानों को मौसम की जानकारी के साथ ही जिन किसानों की फसल नुकसान हो गया है उन सभी किसानों को आर्थिक सहायता दिलाने में मदद कर रही है | वैसे किसान जिन्होंने ने फसल का बीमा नहीं कराया है या उनका फसल बीमा के लिए अधिसूचित नहीं है उन किसानों को भी फसल नुकसानी का मुवाब्जा दिया जाएगा |

33 प्रतिशत से अधिक फसल नुकसान होने पर दिया जाएगा मुआवजा

राजस्थान के आपदा प्रबंधन मंत्री श्री भंवरलाल मेघवाल ने विधान संभा में कहा कि ओलावृष्टि से किसानों का जितना भी नुकसान हुआ है,  उसका आकलन कर 33 प्रतिशत से उपर के सभी नुकसान पर आपदा–अनुदान देय होगा | उन्होंने कहा कि 5 मार्च तक गिरदावरी की जानी है, लेकिन आवश्यक होने पर इसके बाद भी पटवारियों द्वारा ओलावृष्टि से हुए नुकसान का जायजा लिया जाएगा, किसानों को मुवावजा दिया जाएगा |

यह भी पढ़ें   बिना लाइसेंस खाद-बीज और दवा बेचने वाले दुकानदारों पर की जाएगी कार्रवाई

इन जिलों में चल रहा है सर्वे का कार्य

विधान सभा में 29 फरवरी 2020 को ओलावृष्टि से हुए फसल खराबे पर चर्चा का जवाब देते हुए कहा कि प्रदेश में अलवर, धौलपुर, भरतपुर, झुंझुन एवं बरन से फसल खराबे की सुचना प्राप्त हुई है | अलवर जिले की 3 तहसीलों (अलवर, नीमराना, रामगढ़) के 14 गांवों में 33 प्रतिशत से 50 प्रतिशत के खराबे की प्रांभिक सुचना प्राप्त हुई है |

धौलपुर जिले के बाड़ी तहसील के 6 गांवों में 33 प्रतिशत से 50 प्रतिशत क्र खारबे की प्रांभिक सुचना प्राप्त हुई है | भरतपुर जिला की 3 तहसीलों (नदबई, कुम्हेर, रूपवास) के 51 गांवों में 33 प्रतिशत से कम खराबे की प्रारंभिक सुचन प्राप्त हुई है | इसी प्रकार झुंझुन जिले की 2 तहसीलों (झुंझुन, मलसीसर) के 7 गाँव में 33 प्रतिशत से कम खराबे की प्रारंभिक सुचना प्राप्त हुई है | बांरा जिले की शाहाबाद तहसील के 3 गांवों में 33 प्रतिशत से कम खराबे की प्रारंभिक सुचना प्राप्त हुई है |

यह भी पढ़ें   खेतों में फसल अवशेष जलाने से होते हैं यह नुकसान, किसान इस तरह करें फसल अवशेषों का प्रबंधन

श्री मेघवाल ने कहा कि वर्तमान में गिरदावरी का कार्य जारी है, जिसका समय 01 फरवरी से 05 मार्च निर्धारित है | खराबे की वास्तविक स्थिति गिरदावरी (7डी) रिपोर्ट प्राप्त होने पर ही पायेगी | गिरदावरी (7डी) रिपोर्टर में 33 प्रतिशत या इससे अधिक फसल खराबा प्राप्त होने पर एसडीआरएफ नॉर्म्स के अनुसार कृषि आदान अनुदान देय है |

फसल बीमा कंपनियों के टोल फ्री नम्बर जानने के लिए क्लिक करें

किसान समाधान के YouTube चेनल की सदस्यता लें (Subscribe)करें

3 COMMENTS

    • जी फसल नुकसानी होने पर सभी किसान मिल कर सुचना दें |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
यहाँ आपका नाम लिखें

ताजा खबर