किसान अभी हुई बारिश एवं ओलावृष्टि से हुए फसलों में नुकसान का जल्द करवाएं सर्वे

951
fasal nuksan ka sarve

ओलावृष्टि से फसल नुकसान का सर्वे

देश में किसानों को प्राकृतिक आपदा से फसलों को होने वाले नुकसान की भरपाई के लिए प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना चलाई जा रही है | योजना के तहत यदि किसानों की फसलों को किसी प्राकृतिक आपदा के चलते क्षति होती है तो इसकी भरपाई फसल बीमा योजना के तहत की जाती है | अभी देश में सक्रिय पश्चिमी विक्षोभ के चलते कई स्थानों पर बारिश के साथ ओलावृष्टि भी हुई है ऐसे में जिन किसानों की फसलों को ओलावृष्टि से नुकसान हुआ है वह किसान अपने खेतों का सर्वे करवा सकते हैं | राजस्थान के कृषि मंत्री श्री लालचंद कटारिया ने जिला कलेक्टरों को रबी 2020-21 प्रधानमंत्री फसल बीमा योजनान्तर्गत अधिसूचित की गई फसलों में ओलावृष्टि से हुए नुकसान का स्थानिक आपदाओं के तहत सर्वे कराने के निर्देश दिए हैं।

कृषि मंत्री श्री कटारिया ने बताया कि राज्य में 4 जनवरी से ओलावृष्टि हुई है, जिससे अधिसूचित फसलों में ओलावृष्टि से नुकसान हुआ है। रबी 2020-21 प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के तहत स्थानीय आपदाओं से अधिसूचित फसल की क्षति की स्थिति में फसल के नुकसान का आंकलन व्यक्तिगत बीमित फसली कृषक के स्तर पर किए जाने का प्रावधान है। उन्होंने निर्देश दिये कि कृषि विभाग के कार्मिकों तथा बीमा कम्पनी के प्रतिनिधियो द्वारा भी कृषकों से आवेदन प्राप्त किये जाये।

यह भी पढ़ें   यदि बारिश से फसल को नुकसान हुआ है तो फसल बीमा राशि का दावा करने के लिए यह करें

जिला कलेक्टरों को जारी किये गए निर्देश

जिला कलक्टरों से कहा है कि वह कृषि विभाग, राजस्व विभाग एवं बीमा कम्पनी के प्रतिनिधियों की संयुक्त टीम द्वारा ओलावृष्टि से प्रभावित कृषकों का सर्वे कार्य शीघ्र सम्पादित करवाने के निर्देश दिए हैं ताकि प्रभावित पात्र बीमित किसानों को रबी 2020-21 की फसलों में हुए नुकसान का समय पर लाभ प्रदान किया जा सके।

किसान फसल नुकसान के सर्वे के लिए कहाँ सम्पर्क करें

फसल बीमा योजना के तहत किसानों ने जिस बीमा कंपनी से बीमा करवाया है उस कंपनी के टोल फ्री नम्बर पर 72 घंटे के अन्दर सूचित कर सकते हैं |  इसके अतिरिक्त किसान लिखित में 7 दिनों के अन्दर अपने बैंक अथवा बीमा एजेन्ट अथवा कृषि विभाग के अधिकारियों को सूचित कर अपनी फसलों का सर्वे करवा सकते हैं |

किसान एग्रीकल्चर इन्श्योरेन्स कम्पनी ऑफ इण्डिया लिमिटेड, 1800116515, एचडीएफसी एर्गो जनरल इन्श्योरेंस कम्पनी लिमिटेड, 18002660700, बजाज एलाईंस जनरल इन्श्योरेन्स कम्पनी लिमिटेड, 18002095959, एसबीआई जनरल इन्श्योरेन्स कम्पनी लिमिटेड, 18001232310, फ्यूचर जनरल इन्श्योरेन्स कम्पनी लिमिटेड, 18002664141, यूनिवर्सल सोम्पो जनरल इंश्योंरेस कम्पनी लिमिटेड, 18002005142 एवं रिलायंस जनरल इन्श्योरेन्स कम्पनी लिमिटेड, 18001024088 नम्बर पर सूचित कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें   प्राकृतिक खेती शून्य लागत वाली खेती है, जिसकी खाद की फैक्ट्री है देशी गाय: गुजरात के राज्यपाल श्री आचार्य देवव्रत

फसल बीमा कंपनियों के टोल फ्री नम्बर हेतु क्लिक करें

पिछला लेखबर्ड फ्लू को लेकर सरकार ने जारी किया अलर्ट
अगला लेखसौर ऊर्जा टेक्नालाजी में कौशल विकास प्रशिक्षण प्राप्त करने के लिए आवेदन करें

LEAVE A REPLY

अपना कमेंट लिखें
आपका नाम लिखें.