किसान इस तरह करें धान की फसल में खरपतवार नियंत्रण

0
525
weed control in paddy

धान की फसल में खरपतवार नियंत्रण

खरीफ सीजन की सबसे मुख्य फसल धान है | देश में अधिकांश किसान अपने खेतों में धान की फसल या तो लगा चुके हैं या अभी लगा रहे हैं | धान की फसल में खरपतवार एक बहुत बड़ी समस्या है यदि समय पर इसका नियंत्रण नहीं किया गया तो फसल पूरी तरह से नष्ट हो जाती है। खरपतवार पैदावार में कमी के साथ धान में लगने वाले रोग के कारकों एवं कीटों को भी आश्रय देते हैं। धान की फसल में खरपतवार के कारण 15-85 प्रतिशत तक नुकसान होता है, कभी-कभी यह नुकसान 100 प्रतिशत तक पहुच जाता है, इसलिए सही समय पर खरपतवार नियंत्रण करना बहुत आवश्यक है।

बुआई के 3 दिनों के अंदर इस तरह करें खरपतवार नियंत्रण

सीधी बुआई वाले धान में बुआई के 15-45 दिन एवं रोपाई वाले धान में रोपाई के 35-45 दिन तक फसल को खरपतवार मुक्त रखना आर्थिक रूप से लाभदायक होता है तथा फसल का उत्पादन अधिक प्रभावित नहीं होता है। बुआई के 3 दिन के भीतर खरपतवार नियंत्रण के लिए पायरेजोसल्फ़ुएरोन 10 डब्लू .पी. दवा का छिडकाव 80 ग्राम प्रति एकड़ की दर से करना चाहिए । इस दौरान खेत में पर्याप्त नमी होना आवश्यक है।

यह भी पढ़ें   मक्के का तुलासिता रोग और रोकथाम

नर्सरी में खरपतवार नियंत्रण हेतु प्रेटिलाक्लोर 30.7 प्रतिशत ई०सी० 500 मिली० प्रति एकड़ की दर से 5-7 किग्रा० बालू में मिला कर पर्याप्त नमी की स्थिति में नर्सरी डालने के 2-3 दिन के अन्दर प्रयोग करना चाहिए।

बुआई के 20-25 दिनों के अन्दर इस तरह करें खपतवार नियंत्रण

दूसरी बार बुआई के 20-25 दिन के भीतर बिसपायरिबैक सोडियम दवा का छिडकाव 100 एम.एल प्रति एकड़ की दर से करना चाहिए। इसके छिड़काव से घास कुल के संकरी पत्ती वाले जैसे सांवा एवं चौड़ी पत्ती वाले जैसे कौआ, कैनी तथा मोथा का नियंत्रण हो जाता है। खरपतवारनाशी रसायन के छिड़काव के लिए हमेशा फ्लैट फेन या फ्लैट जेट नोजल का प्रयोग प्रभावी खरपतवार नियंत्रण के लिए करना चाहिए।

धान में खरपतवार नियंत्रण के लिए इन दवाओं का करें प्रयोग

शाकनाषी दवा का नाम
दवा की व्यापारिक
मात्रा/है.
उपयोग का समय
नियंत्रित खरपतवार

प्रेटीलाक्लोर

1250 मि.ली.

बुआई/रोपाई के 2-3 दिन के अन्दर

घास कुल के खरपतवार

पाइरोजोसल्फयूरॉन

200 ग्राम

बुआई/रोपाई के 2-3 दिन के अन्दर

चौड़ी पत्ती वाले खरपतवार

बिसपायरिबेक सोडियम

80 मि.ली.

बुआई/रोपाई के 15-20 दिन के अन्दर

घास कुल,मौथा कुल तथा चौड़ी पत्ती

2,4-डी

1000 मि.ली.

बुआई/रोपाई के 25-35 दिन के अन्दर

चौड़ी पत्ती वाले खरपतवार

फिनॉक्साप्रॉकप पी ईथाइल

500 मि.ली.

बुआई/रोपाई के 25-35 दिन के अन्दर

घास कुल के खरपतवार

क्लोरीम्यूरॉन ईथाइल . मेटसल्फयूरॉन मिथाइल

20 ग्राम

बुआई/रोपाई के 20-25 दिन के अन्दर

चौड़ी पत्ती तथा मौथा कुल

यह भी पढ़ें   जानें मध्यप्रदेश में विभिन्न योजनाओं के तहत सिंचाई उपकरणों पर कितनी सब्सिडी दी जाती है 

LEAVE A REPLY

अपना कमेंट लिखें
आपका नाम लिखें.