धान की बुआई से पहले किसान जरुर करें ये काम

5492
Seed Treatment of Paddy Seeds

धान बीजों का बीज उपचार

मानसूनी वर्षा के साथ ही किसानों ने अपने खेतों में धान की नर्सरी डालना एवं बुआई का काम शुरू कर दिया है। ऐसे में धान की अधिक पैदावार प्राप्त की जा सके इसके लिए किसानों को बुआई से पहले धान के बीजों का उपचार करना ज़रूरी है। बीज उपचार से जहां धान में कीट रोगों के लगने की संभावना कम होती है वहीं इसमें लगने वाले कीटनाशकों एवं औषधीय के उपयोग की कमी से इसकी लागत भी कम होती है जिससे किसानों को अधिक लाभ होता है। इसके अलावा बीज उपचार करने से किसानों को स्वस्थ्य बीज प्राप्त होते हैं।

क्यों आवश्यक है धान का बीज उपचार

खेत में धान की बुआई के कुछ दिनों के बाद अंकुरण दिखता है लेकिन बाद में पौधों की संख्या कम हो जाती है यह इसलिये होता है क्योंकि जब हम बीज की खेत में बुआई करते है, उस समय मटबदरा एवं कीड़े से प्रभावित बीज खेत में पहुंचते है एवं अंकुरित भी हो जाते है तब हमें लगता है कि पौध संख्या अच्छी है लेकिन मटबदरा एवं कीड़े से प्रभावित बीज से अंकुरित पौधा कुछ दिन बाद मर जाता है। क्योंकि मटबदरा एवं कीड़े से प्रभावित बीज में पौध को जड़ के विकसित होने तक भोजन नहीं मिल पाती है। इसलिये हष्ट पुष्ट एवं स्वस्थ्य बीज का बोआई करना बहुत जरूरी है।

यह भी पढ़ें   अब इस राज्य सरकार ने किसान कर्ज माफी के लिए जारी की राशि

17 प्रतिशत नमक के घोल से करें बीज उपचार

किसानों को बुआई के लिए स्वस्थ्य हष्ट पुष्ट बीज प्राप्त करने के लिये 17 प्रतिशत नमक घोल से धान बीज का उपचार करना चाहिए। इसके लिये 10 लीटर पानी में 1 किलो 700 ग्राम नमक को घोले या ग्राम स्तर पर एक आलू या एक अण्डा की व्यवस्था करें पहले टब या बाल्टी में पानी ले फिर उसमें आलू या अण्डा डाले आलू एवं अण्डा बर्तन के तल में बैठ जायेगी लेकिन जैसे-जैसे नमक डालकर घोलते जायेंगे। उपर आते जायेगा और 17 प्रतिशत घोल तैयार हो जायेगा तब अण्डा या आलू पानी के ऊपरी सतह पर तैरने लगेगा। 

इसके बाद अण्डा या आलू को पानी से निकाल कर बीज को इस घोल में डाले और हाथ से हिलाये एवं 30 सेकण्ड के लिये छोड़ दें। ऐसा करने से धान का बदरा, मटबदरा, कटकरहा धान, खरपतवार के बीज तथा कीड़े से प्रभावित बीज पानी के उपर तैरने लगेंगे। उसे अलग बर्तन में रखे और जो बीज बर्तन के नीचे तल में बैठ गया है उसे अलग कर साफ पानी से धोये तत्पश्चात् तुंरत बुआई करना है तो खेत में बुआई करें या फिर धूप में सूखाकर सुरक्षित भंडारण करें। ऐसा करने से हष्ट पुष्ट एवं स्वस्थ्य बीज प्राप्त हो जाते हैं। वहीं कटकरहा, बदरा, मटबदरा, कीट से प्रभावित बीज एवं खरपतवार के बीज आसानी से अलग हो जाते है।

यह भी पढ़ें   अब इस राज्य में टिड्डी का हमला, सरकार नियंत्रण के लिए किसानों को दे रही 50 प्रतिशत सब्सिडी

LEAVE A REPLY

अपना कमेंट लिखें
आपका नाम लिखें.