किसानों के 147 करोड़ रूपये कि बिजली बिल माफ किये गए

0
2929
Electricity bill waiver Haryana

बिजली बिल माफी

जब तक किसी राज्य में चुनाव नहीं होता है तब तक किसानों के लिए कोई योजना आती ही नहीं है | चुनाव आते ही सभी सरकारों को किसानों की याद आने लगती है, इसका कारण यह है कि किसानों की संख्या ज्यादा है सभी को इनकी वोट की जरुरत पड़ती है |

ताजा मामला हरियाणा सरकार कि है यहाँ पर किसानों के लिए एक से बढ़ कर एक घोषणा हो रही है | पहले किसानों की सहकारी बैंक के कृषि लोन का ब्याज माफ़ किया गया है तो अब किसानों की ट्यूबेल की बिजली बील में छूट दिया जा रहा है | इसके तहत किसानों को बिजली की सर चार्ज को माफ़ किया जा रहा है |

पूरा मामला इस प्रकार है

हरियाणा सरकार ने सबका साथ सबका विकास के मूलमंत्र पर चलते हुये आज प्रदेश के बिजली कनेक्शन वाले ट्यूबेल उपभोगता किसानों को बड़ी राहत दिया है | सरकार ने टयूबेलों के बिजली बिलों की सरचार्ज राशि माफ़ करने की घोषणा की है | यह घोषणा मुख्यमंत्री ने आज नगर एवं ग्राम आयोजना विभाग के नव निर्मित भवन का उदघाटन करने उपरान्त प्रेस कांफ्रेंस को संबोधित करते हुये घोशनाएँ की |

यह भी पढ़ें   छत्तीसगढ़ के किसानों को कर्ज माफ़ी के साथ मिली यह सौगातें

इससे किसानों को कितना लाभ होगा 

हरियाणा राज्य में 6 लाख 10 हजार किसानों ने ट्यूबवेल के लिए बिजली का कनेक्शन लिया हुआ है | इसमें से लगभग 2 लाख 44 हजार कनेक्शन डिफाल्टर हो चुके है जिनकी तरफ कुल 147 करोड़ रूपये बकाया है | एसे किसान अगर अपनी बिजली का बील भरना चाहते है तो उन्हें सरचार्ज देना पड़ता है और अधिकांश सरचार्ज की राशि 20 – 25 प्रतिशत हो गई है | तो इस योजना से कुल 2 लाख 44 हजार किसानों को लाभ मिलेगा |

किसनों को कैसे लाभ मिलेगा ?

किसान इस स्कीम से लाभ प्राप्त करने के लिए किसान 30 नवम्बर 2019 तक अपना बील एकमुश्त भर देता हैं तो उनकी सरचार्ज राशि माफ़ कर दी जायेगी |

डिफाल्टर किसानों का क्या होगा ?

मुख्यमंत्री ने कहा कि डिफाल्टर होने के कारण जिन किसनों के बिजली कनेक्शन को कते 2 साल से कम का समय हुआ है, उन कनेक्शनों को बहाल कर दिया जाएगा | जबकि जिन कनेक्शनों को कटे हुये 2 साल से अधिक का समय हो गया है , एसे किसानों को न्य कनेक्शन जारी किया जाएगा

यह भी पढ़ें   कृषि उपज मंडी में अनाज बेचने वाले किसानों को मिलेगा ईनाम

इस तरह की ताजा जानकरी विडियो के माध्यम से पाने के लिए किसान समाधान को YouTube पर Subscribe करें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here