मध्यप्रदेश में फसल पंजीयन की अवधि बढ़ी

1

मध्यप्रदेश में फसल पंजीयन की अवधि बढ़ी

मध्यप्रदेश में खरीफ विपणन वर्ष 2018-19 में न्यूनतम समर्थन मूल्य पर धान, मोटा अनाज और अन्य फसलों के लिए किसान पंजीयन की प्रक्रिया को सरल किया गया है। साथ ही पंजीयन की तिथि बढ़ाकर 20 सितम्बर कर दी गई है। किसान कल्याण तथा कृषि विकास विभाग ने फसलों के पंजीयन के संशोधित निर्देशानुसार जिला कलेक्टर्स को सभी आवश्यक व्यवस्थाएँ करने के लिए कहा है।

यह निर्देश जारी किये गए

कलेक्टर्स को जारी निर्देश में कहा गया है कि पंजीयन का कार्य प्रात: 7 बजे से रात्रि 9 बजे तक किया जाये। किसानों द्वारा खसरा अथवा वन अधिकार पट्टे इत्यादि में से कोई एक दस्तावेज साक्ष्य की स्व-प्रमाणित छायाप्रति स्वरूप ली जाये। किसानों से राजस्व विभाग का अलग से प्रमाणीकरण नहीं माँगा जाये। अब भू-अधिकार ऋण पुस्तिका की अनिवार्यता नहीं होगी। जारी किये गये निर्देश में 23 अगस्त 2018 के अनुरूप किसानों का एक ही बैंक खाता पर्याप्त होगा। उनसे दूसरे बैंक खाता क्रमांक की माँग नहीं की जाये।

यह भी पढ़ें   यह राज्य सरकार खेतों में सिंचाई के लिए दे रही है 100 प्रतिशत तक सब्सिडी, अभी करें आवेदन

जारी निर्देशों में कहा गया है कि संयुक्त भूमि खाते की स्थिति में समस्त खाताधारियों की पंजीयन केन्द्र पर उपस्थिति अथवा उनसे किसी प्रकार की सहमति और शपथ-पत्र लिये जाने के निर्देश नहीं हैं। संयुक्त खाताधारियों की स्थिति में किसी भी एक खाताधारी द्वारा आवेदन दिये जाने पर पंजीयन किया जाये। पंजीयन केन्द्र खोलने की प्रक्रिया को भी सरलीकृत किया गया है। अतिरिक्त केन्द्र खोलने की स्थिति में जिला कलेक्टर, संचालक खाद्य नागरिक आपूर्ति से अनुमति प्राप्त कर सकेंगे।

मूँग एवं उड़द की फसल पर 800 रुपये प्रति क्विंटल प्रोत्साहन राशि पाने के लिए क्या करें

Previous articleजाने क्या है धान की फसल में यूरिया डालने का सही समय
Next articleचना उत्पादक किसानों को मिलेगी 1500 रुपए प्रति एकड़ की दर से प्रोत्साहन राशि

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here