डी.ए.पी.(DAP) तथा एस.एस.पी. (SSP) खाद में कौन बेहतर हैं 

0
7020
views

डी.ए.पी.(DAP) तथा एस.एस.पी. (SSP) खाद में कौन बेहतर हैं 

रबी फसल की बुआई का समय शुरू हो चूका है | इस समय किसान को दो मुख्य बिंदु पर ध्यान देना चाहिए ,पहला बीज तथा दूसरा उर्वरक (खाद) | अगर बीज सही है लेकिन उर्वरक का प्रयोग सही नहीं है तो आपके फसल पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ेगा | आपको इस बात का ध्यान रखना चाहिए की कौन सी खाद कब और कितना देना चाहिए | इसलिए किसान समाधान पर आपको लागातर उर्वरक के बारे में जानकारी देने का प्रयास हम कर रहें हैं | जिससे आप लोगों को उर्वरक के बारे में सही जानकारी उपलब्ध हो सके और प्रयोग करने में आसानी हो | इसलिए आज किसान समाधान DAP तथा SSP खाद में अंतर तथा बेहतर कौन है इसकी जानकारी लेकर आया है |

डी.ए.पी.(DAP )

DAP फ़सलों के लिए नाइट्रोजन, फ़ॉस्फ़ोरस और पोटेशियम जैसे महत्त्वपूर्ण पोशक तत्त्व ही प्रदान नहीं करता, बल्कि धरती को उर्वर बनाने के उनके प्रयास का एकमात्र और अपरिहार्य उत्तर है।

  • डी.ए.पी. (DAP) का पूरा नाम डाइअमोनियम फॉस्फेट है |
  • नाईट्रोजन की मात्रा – 18%
  • फास्फोरस की मात्रा – 46 %
  • सल्फर की मात्रा – 0%
  • कैल्शियम की मात्रा – 0%

एस.एस.पी. (SSP )

यह सख्त दानेदार, भूरा काला बादामी रंगों से युक्त तथा नाखूनों से आसानी से न टूटने वाला उर्वरक है। यह चूर्ण के रूप में भी उपलब्ध होता है। इस दानेदार उर्वरक की मिलावट बहुधा डी.ए.पी. व एन.पी.के. मिक्चर उर्वरकों के साथ की जाने की सम्भावना बनी रहती है।

  • SSP का पूरा नाम सिंगल सुपर फास्फेट है | इसमें
  • नाईट्रोजन की मात्रा – 0%
  • फास्फोरस – 16%
  • सल्फर की मात्रा – 11%
  • कैल्शियम – 19% तथा जिंक – 1%
यह भी पढ़ें   गाजर घास खरपतवार को किस प्रकार नष्ट करें

कौन सी खाद का प्रयोग कब करें ?

SSP और खाद से कम घुलनशील है, इसका प्रयोग हमेश जुताई के समय कराना चाहिए | क्योंकी यह कम घुलनशील रहने के कारण मिटटी में घुलने में ज्यादा समय लेता है | जिसके कारण पौधों को अंकुरण के बाद फायदा होता है | अगर किसान ssp को जुताई के समय उपयोग नहीं किया है तो फिर फूल से फल लगने के समय करें | क्योंकि फूल से फल लगने में लगभग 15 से 20 दिन लगता है | एस्त्ने दिनों में सिंगल सुपर फास्फेट मिटटी में घुल जाता है |

DAP

DAP खाद SSP खाद के अपेक्षा जल्दी घुलनशील है | जिसके कारण इस खाद को बुआई से पहले नहीं करें क्योंकी खाद तो घुलकर मिट्टी में मिल जायेगी लेकिन पौधों को फायदा नहीं होगा | Dap का प्रयोग फसल में निदाई तथा सब्जी में मिट्टी चढाते समय करें |

दोनों में बेहतर कौन

  1. एक बात याद रखने योग्य है की SSP में नाईट्रोजन की मात्रा 0% है | जबकि DAP में नाईट्रोजन की मात्रा 18% है | इसके अलवा DAP में फास्फोरस की मात्रा भी SSP से 30% ज्यादा है | अगर दोनों को किसी दुसरे खाद के बिना उपयोग करना हो तो DAP बेहतर है |
  2. SSP को यूरिया के साथ प्रयोग करें तो DAP से बेहतर है क्योंकि SSP में नाईट्रोजन की उपलब्धता यूरिया से हो जाती है और साथ ही SSP में पहले से सल्फर, कैल्शियम मौजूद है जो की DAP में नहीं है |
  3. एक बात ध्यान देने की है की DAP में 46% फास्फोरस रहता है तथा SSP में  फास्फोरस 16% है | यानि की DAP के तुलना में ssp में फास्फोरस 30% कम है  | इसलिए जब भी SSP का प्रयोग करें तो DAP के तुलना में 3 गुना ज्यादा होना चाहिए साथ ही यूरिया खाद का प्रयोग जरुर करें | अगर एसा करते है तो SSP खाद DAP खाद से बेहतर होगा |
यह भी पढ़ें   हरी खाद के लिए उपयुक्त फसलें एवं उनको लगाने का सही समय

डी.ए.पी.(DAP) तथा एन.पी.के.(NPK) में बेहतर कौन है ?

किसान भाई नकली एवं मिलावटी उर्वरकों की पहचान किस प्रकार करें ?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here