काली हल्दी या नरकचूर याक की खेती की कृषि कार्य माला

काली हल्दी या नरकचूर याक Black Turmeric की खेती

काली हल्दी Black Turmeric का पौधा दिखने में केले के समान होता है काली हल्दी या नरकचूर याक औषधीय महत्व का पौधा है | जो कि बंगाल में वृहद् रूप से उगाया जाता है | इसका उपयोग रोग नाशक व सौंदर्य प्रसाधन दोनों  रूपों में किया जाता है |

वानस्पतिक नाम curcuma cacia व अंग्रेजी में ब्लेक जे डोरी भी कहते हैं  | यह जिन्नी विरेसी कुल का सदस्य है , इसका पौधा तना रहित 30 – 60 से.मी. ऊँचा होता है | पत्तियां चौड़ी गोलाकार उपरी स्थल  पर नील बैंगनी रंग की मध्य शिरा युक्त होती है | पुष्प गुलाबी किनारे की ओर रंग के शपत्र लिए होते हैं | राइजोम बेलनाकार गहरे रंग के सूखने पर कठोर किस्टल बनाते हैं | राइजोम का रंग कालिमा युक्त होता है|

काली हल्दी या नरकचूर याक

काली हल्दी उपयुक्त जलवायु :-

इसकी खेती के लिए उपयुक्त जलवायु उष्ण होती है | तापमान 15 से 40 डिग्री सेन्टीग्रेट होना चाहिए |

काली हल्दी हेतु भूमि की तैयारी :-

 दोमट, बलुई, मटियार प्रकार की भूमि में अच्छे से उगाई जा सकती है | वर्षा के पूर्व जून के प्रथम सप्ताह में 2 – 4 बार जुताई करके मिट्टी  भुरभुरी बना लें तथा जल निकासी की व्यवस्था करलें | खेत में 20 टन प्रति हे. की दर से गोबर की खाद मिला लें |

काली हल्दी बोने का समय व विधि :-

बोने के लिए पुराने राइजोम को जिन्हें ग्रीष्म काल में नमीयुक्त स्थान पर तेल में दवा कर संग्रह किया गया है को उपयोग में लाते हैं | इन्हें नये अंकुरण आने पर छोटे – छोटे टुकड़ों में काट लिया जाता है  | जिन्हें तैयार की गई भूमि में 30 से.मी. कतार से कतार 20 से.मी. पौधे से पौधे के अंतराल पर 5 से 10 से.मो. गहराई पर बोया जाता है  | एक हेक्टेयर के लिए 15 से 20 किवंटल कलि हल्दी की बीज की जरुरत होरी है |

खरपतवार की नियंत्रण के लिए 2 से 3 बार निंदाई हाथ से ही करनी होती है | जिससे पौधे को मिलने वाली पोषक तत्व की कोई कमी नहीं होती है |

काली हल्दी में सिंचाई

इसके लिए  ज्यादा सिंचाई की जरुरत नहीं होती है | इसके लिए बरसात की वर्षा काफी है | लेकिन हल्दी की खेती लम्बी अवधि की होने के कारण बरसात बाद 2 सिंचाई की जरुरत पड़ती है |

रोग व कीट :-

इसकी फसल पर पर किसी भी तरह का कोई रोग तथा कीट का प्रकोप नहीं होता है |

काली हल्दी की खुदाई कैसे करें 

फसल अवधि 8 माह में तैयार होती है | प्रक्न्दों को सावधानिपुर्वक बिना क्षति पहुंचाए खोद कर निकाल व साफ करके छ्यादर सूखे स्थान पर सुखायें | अच्छी किस्म के राइजोम को 2 – 4 से.मी. के टुकड़ों में काटकर सुखा कर रखें जो सुख कर कठोर हो जाते है |

काली हल्दी उत्पादन

ताजे कंदों का उत्पादन 250 क्विंटल प्रति हेक्टेयर तक होता है | जबकि उसे सुखाने के बाद 50 क्विंटल प्रति हेक्टयर तक प्राप्त होता है |

काली हल्दी के उपयोग 

पिली हल्दी से ज्यादा फायदेमंद और गुणकारी मन जाता है | इसमें अद्भुत शक्ति होती है | कलि हल्दी भुत दुर्लभ मात्रा में पाई जाती और देखि जाती है | कलि हल्दी दिखने में अन्दर से हल्के काले रंग की होती है और उसका पौधा केलि के समान होता है | तंत्र शास्त्र में कलि हल्दी को प्रयोग करने से पहले उसको सिद्ध किया जाता है | काली हल्दी को सिद्ध करने के लिए होली का दिन भुत ही लाभकारी मन जाता है | कलि हल्दी में वशीकरण की अद्भुत क्षमता होती है |

काली हल्दी का प्रयोग

आदिवासी समाज इसका प्रयोग निमोनिया, खांसी और ठंड के उपचार के लिए जाता है | बच्चों एवं वयस्कों में बुखार और अस्थमा के लिए इसका उपयोग किया जाता है | इसके राइजोम का पाउडर फेस पेक के रूप में किया जाता है | इसके ताजे राइजोम को पीसकर माथे पर pest के रूप में लगाते हैं , जो माइग्रेन से राहत के लिए या मस्तिक और घों के लिए लगाया जाता है | सांप और बिच्छु को काटने पर इसके राइजोम का पेस्ट लगाया जाता है |  ल्युक्द्र्मा, मिर्गी, कैंसर और एच आई वी एड्स की रोकथाम में भी उपयोग किया जाता है |

काली हल्दी को एंटी बायोटिक गुणों के साथ जड़ी बूटी के रूप में मान्यता प्राप्त है | काली हल्दी का तिलक लगाया जाता है एवं ताबीज के रूप में भी उपयोग किया जाता है | एसी मान्यता है कि यह सभी प्रकार के काले जादू को निकाल देगी | इसका उपयोग घाव, चोट और मोच त्वचा की समस्या एवं पाचन एवं पाचन की समस्या के लिए इसका उपयोग किया जाता है | मन जाता है की यह कैंसर को रोकने और इलाज में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है | इसमें सुगन्धित वाश्पिशील तेल होता है जो सुजन को कम करने में मदद करती है | यह कोलेस्टोल को कम करने में मदद करती है |

गृह  एवं नक्षत्र के लिए भी उपयोग किया जाता है | यदि कोई व्यक्ति गुरु और शनि पिरित है तो वह शुक्ल पक्ष के प्रथम गुरुवार से नियमित रूप से कलि हल्दी पीसकर तिलक लगाए तो ए दोनों गढ़ शुभ हल देने लगती है |

काली हल्दी को लेकर भारत में मान्यताएं

धन प्राप्ति में काली हल्दी का प्रयोग  :-

यदि किसी व्यक्ति के पास धन आता तो है परन्तु टिकता नहीं है तो उन्हें यह उपाय करना चाहिए | दीपावली के दिन पीले वस्त्रों में कलि हल्दी के साथ एक चंडी का सिक्का रखकर धान रखने के स्थान पर रख देने से वर्ष भर माँ लक्ष्मी की कृपा बनी रहती है |

जादू टोने में काली हल्दी का प्रयोग

काली हल्दी में इनुप्रोकेन पाया जाता है , जिससे जोड़ों का दर्द ठीक होता है | काली हल्दी में एंटी इन्फलेमेटरीगुण होते हैं जिससे त्वचा की खुजली ठीक हो जाती है | त्वचा में चमकते होने पर कलि हल्दी दूध में रुई भिंगोकर 15 मिनट त्वचा में लगाने पर चमक और निखर आएगा | काली हल्दी को चमत्कारी मन जाता है | इसमें तांत्रिक और मान्त्रिक ताकत छिपी होती है | इसके उपयोग से बीमार व्यक्ति स्वस्थ किया जा सकता है | काली हल्दी का टुकड़ा धागा में बांध कर बांह में बंधने से अनिंद्रा, मिर्गी तथा मानसिक रोग से लाभ होता है | काली हल्दी 7, 9 और 11 टुकड़ों की माला बना कर धूप आदि देकर माला पहनने से गढ़ पीड़ा, बाहरी हवा ,बाहरी नजर से बचाता है |  

यदि किसी व्यक्ति या बच्चे में नजर लग गई है तो काले कपड़े में हल्दी को बांधकर 7 बार ऊपर से उतारकर बहते जल में प्रवाहित कर दें | गुरु पुन्य: नक्षत्र में कलि हल्दी को सिंदूर में रखकर लाल वस्त्र में लपेटकर धूप आदि देकर कुछ सिक्कों के साथ बांधकर बक्से में या तिजोरी में रख दें , धनं वृद्धि होने लगेगी | काली हल्दी की तिलक लगाने वाला  सबका प्यारा होता है , सामने वाले को आकर्षित करता है | काली हल्दी का चूर्ण दूध में भिंगोकर चेहरे और शरीर पर लेप करने से सौंदर्य की वृद्धि होती है |

विदेशों में काली हल्दी

जैसा  की ऊपर बताया जा चूका है काली हल्दी औषधीय गुणों से भरपूर होती है इसलिए इसकी मांग दवा बनाने वाली कंपनियों के पास अधिक रहती है चाइना इसके लिए बड़ा बाजार है | काली हल्दी का उपयोग कॉस्मेटिक में भी होता है इसलिए विदेशों में इसकी मांग बहुत अधिक बनी रहती है |

द्व्रारा- श्री आर.के.मिश्रा 
उद्यान अधीक्षक मोहारा, ब्लाक- जैसीनगर मध्यप्रदेश  

काली हल्दी के पौधे या कंद खरीदने के लिए इन नंबर पर कॉल करें 8305534592, 9691977184, 6267086404

इस तरह की ताजा जानकरी विडियो के माध्यम से पाने के लिए किसान समाधान को YouTube पर Subscribe करें

kisan samadhan android app