back to top
सोमवार, अप्रैल 15, 2024
होमविशेषज्ञ सलाहइन यंत्रों की मदद से करें फसल अवशेष प्रबंधन

इन यंत्रों की मदद से करें फसल अवशेष प्रबंधन

इन यंत्रों की मदद से करें फसल अवशेष प्रबंधन

किसान भाई कटाई के पश्चात् इन यंत्रों की मदद से करें फसल अवशेष प्रबंधन एवं मिट्टी की गुणवत्ता बढ़ाएं | सरकार फसल अवशेष प्रबंधन मशीनरी के लिए 50-80 प्रतिशत की दर से सब्सिडी मुहैया करा रही है। इन मशीनों से फसल अवशेष को मिट्टी के साथ मिश्रित करने में किसानों को मदद मिलती है, जिससे इसे और ज्‍यादा उत्‍पादक बनाना संभव हो पाता है। किसान समूहों को विशिष्‍ट जरूरतों के अनुसार फसल अवशेष प्रबंधन मशीनरी की सहायता लेने हेतु कृषि मशीनरी बैंकों की स्‍थापना करने के लिए परियोजना लागत के 80 प्रतिशत की दर से वित्तीय मदद मुहैया कराई जा रही है। इस योजना के तहत पंजाब, हरियाणा, उत्तर प्रदेश और एनसीआर हेतु दो वर्षों के लिए 1151.80 करोड़ रुपये का प्रावधान किया गया है।

फसल अवशेष प्रबंधन के लिए उपयुक्त यंत्र (मशीनें )

सुपर स्ट्रा मैनेजमेन्ट

विवरण :-

यह यंत्र कम्बाइन हार्वेस्टर में अटैच किया जाता है | जो कम्बाइन द्वारा कटी गयी फसल के अवशेष को छोटे – छोटे टुकड़ों में करके खेतों में विखेर देता है | जिसमें फसल अवशेष को आसानी से मृदा में मिलाया जा सकता है | फलस्वरूप फसल अवशेष को जलाना नहीं पड़ता और मृदा की उर्वरक क्षमता में वृद्धि होती है | इस यंत्रों की कीमत 1 लाख 20 हजार से 1 लाख 50 हजार तक होती है |

यह भी पढ़ें   जुलाई महीने में मक्का की खेती करने वाले किसान करें यह काम, मिलेगी भरपूर पैदावार

 

शेरडर

यह पेड़ – पौधों के अवशेष को काट कर छोटे – छोटे टुकड़े कर देता है | इस उपकरण को ट्रैक्टर विधुत मोटर अथवा स्टेशनरी इंजन के माध्यम से आपरेट करते हैं | इस कृषि यन्त्र की कीमत लगभग 1 लाख 10 हजार से 1 लाख 40 हजार तक होती है |

 

मल्चर

यह कृषि यंत्र खेतों में फसल अवशेष या सनी, ढाँचा आदि खड़ी फसल को छोटे –  छोटे टुकड़ों में काटकर मृदा को आवरण से ढक देता है, जिससे कि खेतों में नमी का संरक्ष्ण होता है | इस कृषि यंत्र की कीमत लगभग 1 लाख 10 हजार से 1 लाख 40 हजार तक होती है |

 

श्रब मास्टर

विवरण :-

यह कृषि यंत्र खेतों में झाड़ियाँ एवं खर – पतवार को काटने के कार्यों में उपयोग में लाया जाता है, यह ट्रैक्टर से आपरेटर होता है इस कृषि यंत्र की कीमत लगभग 35 हजार से 45 हजार तक है |

 

रोटरी स्लेशर

संक्षिप्त विवरण :-

यह कृषि यंत्र फसल अवशेष एवं झाड़ियों को जड से अलग कर छोटे – छोटे टुकड़ों में कर खेत में फैला देता है, यह कृषि यंत्र ट्रैक्टर आपरेटर होता है | इस कृषि यंत्र की कीमत लगभग 35 से 40 हजार तक होती है |

यह भी पढ़ें   धान की खेती करने वाले किसान जुलाई महीने में करें यह काम, मिलेगी भरपूर पैदावार

 

जीरो टिल  सीड कम फर्टिलाईजर

विवरण :-

यह कृषि यंत्र कम्बाइन से धान / अन्य फसल की कटाई के उपरान्त बिना जुताई किये ही समय से गेंहू / अन्य फसल की बुआई करने के लिए उपयोग किया जाता है | जिससे समय की बचत , लागत में कमी एवं उत्पादन में वृद्धि होती है | इसकी कीमत लगभग 40 हजार से 60 हजार तक की है |

 

कटर कम स्प्रेडर

संक्षिप्त विवरण :-

यह कृषि यंत्र फसल के अवशेषों को खेतों में बराबर से काटने और खेत में बराबर से फैलने का कार्य करता है, इस यन्त्र का प्रयोग 35 से 40 एच.पी. के ट्रैक्टर से किया जा सकता है | 2 एकड़ के खेत की पराली का प्रबन्धन 1 घण्टे में किया जा सकता है | इस यन्त्र की कीमत लगभग 40 हजार से 48 हजार तक होती है |

फसल अवशेष के सही उपयोग से होने वाले लाभ

किसान भाई फसल अवशेष (पराली) बेचकर कर सकेगें अतिरिक्त आय

2 टिप्पणी

  1. सर नमस्कार मेरा नाम जीवाराम है राजस्थान बाड़मेर मे सिंचाई के लिए पानी और बिजली की बोहत ही कमी है इसलिए मुझे तों लगता,,ईस लिए किसानों को सोलर एनर्जी के लिए प्रेरित करना चाहिए और अब से पानी का लेवल बोहोत ही तेजी से घट रहा है इसके लिए कम से कम सिंचाई और ड्रिप सिंचाई और कम सिंचाई वाली खेती करने के लिए प्रेरित करना चाहिए जादा मुनाफा वाली खेती करने के लिए प्रेरित करना चाहिए

    • जी सर, आप अपने जिले के कृषि विज्ञान केंद्र में वैज्ञानिकों से संपर्क करें। वहाँ खेती की नई तकनीकों की जानकारी के साथी ही प्रशिक्षण भी दिया जाता है। धन्यवाद।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
यहाँ आपका नाम लिखें

ताजा खबरें

डाउनलोड एप