जैविक खेती के लिए बनायें लोगो एवं टैग-लाइन और जीते 51 हजार रुपये का ईनाम

0
500
jaivik kheti logo and tagline

लोगो एवं टैग लाइन डिजाइन पर पुरस्कार

कृषि के क्षेत्र में रासायनिक उर्वरकों एवं कीटनाशकों के प्रयोग करने के लिए तथा कृषि में लागत मूल्य को कम करने के लिए देश भर में जैविक खेती को बढ़ावा दिया जा रहा है | किसानों को जैविक खेती के लिए प्रोत्साहित करने के उद्देश्य से केंद्र तथा राज्य सरकारें विभिन्न प्रकार के योजनायें चलाई जा रही है | जिसमें सब्सिडी के साथ ही साथ जैविक खाद और कीटनाशक बनाने के लिए प्रशिक्षण दिया जा रहा है |

बिहार सरकार राज्य में जैविक खेती को बढ़ावा देने के लिए राज्य के 13 जिलों में जैविक काँरिडोर योजना चला रही है | यह योजना 5 वर्षों के लिए वर्ष 2017 से 2022 तक चलाई जाएगी | जैविक खेती में मिल रही सफलता के कारण बिहार राज्य जैविक मिशन की स्थापना की गई हैं | अभी तक इस योजना से राज्य के 187 किसान समूहों ने पंजीयन कराया है | जिसे जैविक खेती का सी.-1 प्रमाणपत्र दिया गया है |

राज्य सरकार किसानों के बीच जैविक खेती के बढ़ावा और लोकप्रिय बनाने के लिए एक टैग लाइन तथा लोगो बनाने जा रही है | इसके लिए बिहार कृषि विभाग ने देश के सभी राज्यों से लोगो तथा टैगलाइन की मांगे हैं | अगर प्रतिभागी का टैगलाइन चयन कर लिया जाता है तो उसे पुरस्कार दिया जाएगा |

यह भी पढ़ें   किसानों की ऑनलाइन मंडी ई-नाम के 5 वर्ष पूर्ण होने पर सरकार ने किसानों को दी तीन और सौगातें

टैग लाइन (TagLINE) का मापदंड क्या है ?

विजेता प्रविष्टि का मूल्यांकन निम्नलिखित मानदंडों के अनुसार होगा |

  • टैगलाइन संक्षिप्त होनी चाहिए | (अनुशंसित शब्द सीमा 10 शब्दों से अधिक नहीं)
  • लाइन में जैविक और सतत कृषि, विष मुक्त खेती, पोषण लाभ और खाद्ध सुरक्षा का सार सामने आना चाहिए |
  • टैगलाइन आसानी से समझने योग्य और समकालीन होनी चाहिए |
  • लाइन को विभिन्न हितधारकों के बीच जैविक खेती के मूल्य को प्रतिध्वनित करना चाहिए |

Logo लोगो का मापदंड क्या है ?

विजेता प्रविष्टि का मूल्यांकन निम्नलिखित मानदंडों के अनुसार होगा |

  • लोगो (प्रतीक चिन्ह), जैविक खेती, खाद्ध सुरक्षा, पोषण सुरक्षा, सुरक्षित और टिकाऊ कृषि के सार को प्रदर्शित करे |
  • Logo लोगो (प्रतीक चिन्ह) के द्वारा यह संदेश जाना चाहिए कि जैविक खेती एक परिवर्तनकारी अवसर है जो किसानों को उनकी उपज के लिए बेहतर मूल्य प्राप्त करने में तथा विष मुक्त कृषि कार्य में सहायता करेगा |
  • लोगो (प्रतीक चिन्ह) समकालीन और आसानी से समझने योग्य होना चाहिए |
  • Logo लोगो (प्रतीक चिन्ह) जीवंत और आधुनिक होना चाहिए | प्रत्येक प्रविष्टि के साथ एक संक्षिप्त तर्कसंगत और रचनात्मक विचारों (100 शब्दों से अधिक नहीं) का स्पष्टीकरण संलग्न होना चाहिए |

पुरस्कार राशि कितनी दी जाएगी ?

बिहार कृषि निदेशक ने के अनुसार दो प्रकार के पुरस्कार दिये जाएंगे | अगर प्रतिभागी के द्वारा लोगों (प्रतीक चिन्ह) डिज़ाइनिंग बनता है तो इस कार्य के लिए चयनित विजेता को 51,000 रूपये तथा प्रशंसा पत्र दिये जायेंगे | इसके साथ ही टैगलाइन (प्रचार वाक्य) लेखन के चयनित विजेता को 21,000 रूपये तथा प्रशंसा पत्र दिया जायेगा |

यह भी पढ़ें   17 दिसम्बर को यहाँ आयोजित किया जा रहा है किसान सम्मलेन

कब तक आवेदन करना है ?

प्रचार वाक्य तथा प्रतीक चिन्ह के लिए ऑनलाइन तथा आँफलाइन शुरू हो चुका है | अंतिम आवेदन 21 सितम्बर 2021 के रात्रि 11:59 तक किया जा सकता है |

कहाँ भेजना है ?

सभी आवेदन आँनलाइन जमा किए जाएंगे या लिफाफे पर कैप्शन (प्रचार वाक्य (tag-line)लेखन प्रतियोगिता) के साथ निचे दिए गए पते पर भेजे जाएंगे |

  1. बिहार राज्य जैविक मिशन के लिए “प्रचार वाक्य (tage-line) बनाने की प्रतियोगिता |
  2. पता :-निदेशक कृषि – सह – मिशन निदेशक
  • बिहार राज्य जैविक मिशन
  • कृषि निदेशालय
  • दूसरी मंजिल, विकास भवन (पटना)
  • पिन कोड – 8000015 या आनलाइन भेजने के लिए इस ई-मेल आईडी पर भेजें – [email protected]

लोगो तथा टैगलाइन भेजने के लिए फ़ार्म डाऊनलोड करें 

बिहार कृषि विभाग ने देश के प्रतिभागियों के लिए लोगो तथा टैगलाइन के लिए एक फार्मेट दिया है | उस फार्मेट को भरकर भेजना होगा | लोगो तथा फार्मेट के लिए यहाँ से डाउनलोड करें |jaivik mission application formjaivik mission bihar

LEAVE A REPLY

अपना कमेंट लिखें
आपका नाम लिखें.