बाढ़ प्रभावित 20 जिलों के किसानों की फसलों को हुए नुकसान का दिया जाएगा मुआवजा

4
8671
flood crop damage compensation

बाढ़ प्रभावित किसानों को मुआवजा

अत्यधिक वर्षा तथा नेपाल के तराई इलाकों में पानी छोड़े जाने के कारण जुलाई माह के द्वितीय सप्ताह में बाढ़ की स्थिति बन गई थी | जिससे बिहार राज्य के कई जिलों में खरीफ फसल को काफी नुकसानी का सामना करना पड़ा है | किसानों को हुई फसल नुकसानी की भरपाई करने के लिए राज्य सरकार ने बाढ़ प्रभावित जिलों का सर्वे कराया है , जिसके अनुसार फसल नुकसानी की क्षतिपूर्ति की जाएगी | कृषि मंत्री के अनुसार राज्य के 20 जिले के किसानों को बाढ़ से फसल की नुकसानी ज्यादा हुई है | इस नुकसानी की भरपाई के लिए राज्य सरकार ने एक तय मापदंड रखा है जिसके तहत किसानों को नुकसानी की क्षतिपूर्ति की जाएगी |

इन 20 जिलों के किसानों को दिया जायेगा मुआवजा

बिहार में राज्य बाढ़ से 20 जिलों के किसानों की फसल को काफी नुकसान हुआ है | 20 जिले के 234 प्रखंडों के किसानों के फसल नुकसान हुआ है | सारण, सिवान, गोपालगंज, मुजफ्फरपुर, पूर्वी चम्पारण, पश्चिमी चम्पारण, सीतामढ़ी, शिवहर, वैशाली, दरभंगा, मधुबनी, समस्तीपुर, बेगुसराय, खगड़िया, भागलपुर, सहरसा, मधेपुरा, पूर्णिया, अररिया तथा कटिहार से फसल क्षति का प्रतिवेदन कृषि विभाग को प्राप्त हुआ है |

यह भी पढ़ें   जानिए जिलेवार इन जगहों पर किसान समर्थन मूल्य पर बेच सकेंगे अपनी उपज

कृषि मंत्री के अनुसार राज्य के 20 जिलों के 234 प्रखंडों के 717484.63 हेक्टेयर सिंचित फसल 30254.77 हेक्टेयर असिंचित फसल एवं 5794.65 हेक्टेयर पेरिनियल (शाश्वत) फसल का 33 प्रतिशत अथवा इससे अधिक नुकसान हुआ है |

क्षतिपूर्ति की भरपाई के लिए लगभग 100 करोड़ रूपये की मांग

राज्य के 20 जिलों के 234 प्रखंडों के सिंचित तथा असिंचित खरीफ फसल की नुकसानी का मुआवजा देने के लिए मांग की गई है | जिसमें 33 प्रतिशत से अधिक नुकसानी होने पर ही किसानों को मुवाब्जा दिया जायेगा | खरीफ फसल के नुकसानी की भरपाई के लिए सरकार से 9,99,60,78,641 रूपये की मांग की गई है | आपदा प्रबंधन विभाग से राशि प्राप्त होने पर बाढ़ से प्रभावित किसानों को नियमानुसार समुचित फसल क्षतिपूर्ति हेतु सहायता राशि उपलब्ध करवाई जाएगी |

किसान समाधान के YouTube चेनल की सदस्यता लें (Subscribe)करें

4 COMMENTS

    • जी सर क्या जानकारी चाहिए ? यदि फसल नुकसानी हुई है तो सर्वे करवाएं |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here