50 फीसदी से ज्यादा फसल नुकसान होने पर दिया जायेगा 30 हजार रुपये प्रति हेक्टेयर का मुआवजा

1877
fasal ksati ka muawja mp

बारिश एवं ओलावृष्टि से फसल क्षति का मुआवजा

पिछले दिनों देश के कई राज्यों में हुई बेमौसम बारिश एवं ओलावृष्टि से किसानों की रबी फसलों को काफी नुकसान हुआ है, ऐसे में राज्य सरकारों द्वारा किसानों को जल्द राहत पहुँचाने के लिए सर्वे का कार्य किया जा रहा है | मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि बेमौसम हुई बारिश और ओलावृष्टि से प्रभावित हुए किसानों को इस दुख की घड़ी में संकट के पार निकालेंगे। फसलों को हुए नुकसान की राहत राशि एवं बीमा राशि का किसानों को शीघ्र भुगतान करवाया जाएगा। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने शुक्रवार को अशोकनगर जिले की तहसील मुंगावली के ग्राम बजावन में प्रभावित फसलों का निरीक्षण कर रहे थे।

प्रभावित फसलों को देखने मुख्यमंत्री श्री चौहान खेतों में पहुँचे, उन्होंने कहा कि बाहर से फसलें हरी दिखती हैं पर खेत में अंदर जाकर देखो तो कुछ नहीं बचा है। प्रदेश में पृथ्वीपुर सहित जहाँ-जहाँ भी फसलों को नुकसान पहुँचा है, उसकी भरपाई की जायेगी। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिये कि किसानों को शीघ्रता से राहत राशि का भुगतान करायें।

यह भी पढ़ें   उत्तरप्रदेश बजट 2021-22: जानिए किसानों को मुफ्त पानी की सुविधा के साथ और क्या-क्या मिला

18 जनवरी तक पूर्ण होगा सर्वे कार्य

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने किसानों से संवाद करते हुए कहा कि उन्होंने कमिश्नर एवं कलेक्टर को निर्देश दिये कि फसलों के नुकसान के सर्वे का कार्य 18 जनवरी तक पूर्ण कराया जाए। सर्वे का कार्य पूरी ईमानदारी और पारदर्शिता के साथ हो। सर्वे उपरांत सूची पंचायतों में लगाई जाए, जिससे संबंधित किसान भी अवगत हो सकें। यदि किसी को आपत्ति हो तो उसका निराकरण किया जा सके।

किसानों को दी जाएगी 30 हजार रुपये प्रति हैक्टेयर की राहत राशि

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि जिन किसानों का 50 प्रतिशत से ज्यादा नुकसान हुआ है, उन किसानों को 30 हजार रूपये प्रति हेक्टेयर राहत राशि दिलाई जाएगी। साथ ही फसल बीमा में फसलों को नुकसान हुआ है उसमें 25 प्रतिशत एडवांस राशि तथा शेष 75 प्रतिशत राशि फसल आकलन के उपरांत दिलाई जाएगी। फसल बीमा की राशि अलग से दी जायेगी।

उन्होंने कहा कि गाय-भैंस की मृत्यु पर 30 हजार रुपये और बछड़ा-बछिया के लिए 10 हजार रुपये और भगवान न करे कि किसी व्यक्ति की मृत्यु हो, लेकिन ऐसी असामयिक मृत्यु पर 4 लाख रुपये की परिवार को आर्थिक सहायता दी जायेगी। इसके अलावा छोटे पशुओं बछड़ा-बछड़ी, बकरा-बकरी तथा मुर्गा-मुर्गी के लिये भी राहत राशि दी जायेगी।

यह भी पढ़ें   किसानों की सुविधा हेतु फसल बीमा के लिए जारी किये गए नए निर्देश

श्री चौहान ने कहा कि किसान ने यदि लोन लिया होगा, तो ऋण वसूली को स्थगित कर अल्पकालीन लोन को मध्यमकालीन ऋण में बदलकर उसका ब्याज भी हम भरवायेंगे। फसल के अलावा मवेशियों की मृत्यु एवं अन्य क्षति के लिए अलग से राशि दी जायेगी।

पिछला लेखराज्य के पशुपालकों को किया गया सम्मानित, 405 पशुपालकों को दी गई 51 लाख 50 हजार रुपये की राशि
अगला लेखकिसानों को सस्ते में मिलेंगे कृषि यंत्र, राज्य में की जाएगी 1000 कस्टम हायरिंग सेंटर की स्थापना

2 COMMENTS

    • सर अभी मध्यप्रदेश में आवेदन नहीं हो रहे हैं, जब आवेदन होंगे तब जानकारी दी जाएगी।

LEAVE A REPLY

अपना कमेंट लिखें
आपका नाम लिखें.