back to top
शनिवार, अप्रैल 20, 2024
होमकिसान समाचारमई महीने तक दिया जाएगा फसल नुकसान का मुआवजा, 1 लाख से...

मई महीने तक दिया जाएगा फसल नुकसान का मुआवजा, 1 लाख से अधिक किसानों ने कराया मुआवजे के लिए पंजीकरण

फसल नुकसान का मुआवजा हेतु पंजीयन

मार्च महीने में लगातार अलग-अलग जगहों पर बारिश एवं ओला वृष्टि से किसानों की फसलों को काफी नुकसान हुआ है। किसानों को हुए इस नुकसान की भरपाई के लिए राज्य सरकार द्वारा सर्वे कराया जा रहा है। वहीं हरियाणा सरकार ने राज्य के किसानों को स्वयं फसल खराब होने की सूचना देने की व्यवस्था की है, जिसके तहत अभी तक 1,02,627 किसानों ने 5.73 लाख एकड़ भूमि की क्षतिग्रस्त फसलों के मुआवजे हेतु पंजीकरण करवाया है।

हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने कहा कि प्रदेश सरकार हाल ही हुई बरसात व ओलावृष्टि के दौरान खराब हुई फसलों का मुआवजा सरकार द्वारा विशेष गिरदावरी करवाते हुए अगले माह तक दिया जाएगा। यह बात मुख्य मंत्री ने भिवानी ज़िला के गाँव तिगड़ाना व धनाना गाँव में किसानों से बात करते हुए कही।

 मुआवजे के लिए किसान करें पंजीयन

हरियाणा के मुख्यमंत्री एवं कृषि मंत्री ने खेत में बारिश के चलते खराब हुई फसल का जायजा लिया। उन्होंने किसानों से बातचीत करते हुए कहा कि मेरी फसल- मेरा ब्यौरा पोर्टल पर किसान अवश्य पंजीकरण कराएं ताकि क्षतिपूर्ति पोर्टल पर वे अपने नुकसान की जानकारी अपलोड करते हुए विशेष गिरदावरी अनुरूप मुआवजा ले सकें।

यह भी पढ़ें   कृषि टयूबवैल कनैक्शन के लिए सरकार ने शुरू की नई योजना, किसानों को करना होगा यह काम

उन्होंने प्रभावित किसानों को आश्वस्त किया कि सरकार किसान की हर परिस्थिति में उनके साथ खड़ी है। उन्होंने किसानों का आह्वान किया कि खराब हुई फसल से जितना अनाज बच सकेगा उसको बचाने के लिए भी प्रयास करें। उन्होंने धनाना गांव में स्थित अनाज खरीद के लिए बने सब यार्ड का भी निरीक्षण किया।

1 लाख से अधिक किसानों ने कराया पंजीयन

वहीं राज्य के सहकरिता मंत्री डॉ. बनवारी लाल ने बावल विधानसभा क्षेत्र के ढाणी, कोलाना,  बलवाड़ी,  मायण,  इब्राईमपुर,  कमालपुर, बगथला, कसौली, गढ़ी बोलनी जड्थल, नंदरामपुर वास और खेड़ी मोटला गाँवों में अत्यधिक वर्षा से बर्बाद हुई फसलों का मुआयना किया।

उन्होंने कहा कि कहा कि हरियाणा सरकार ने फसल क्षतिपूर्ति प्रक्रिया को पारदर्शी एवं सरल बनाया है और पोर्टल से किसान की फसल के नुकसान का सही आंकलन होता है। अब तक पोर्टल पर राज्य के 1,02,627 किसानों ने 5.73 लाख एकड़ भूमि की क्षतिग्रस्त फसलों के मुआवजे हेतु पंजीकरण करवाया है। फसलों में हुई क्षति से किसानों को राहत देने के लिए ई-फसल क्षतिपूर्ति पोर्टल पुनः खोला गया है। जिन किसानों का पंजीकरण नहीं हुआ है, वे अपनी फसल का खराबा मेरी फसल मेरा ब्यौरा पोर्टल पर आसानी से अपलोड कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें   25 अगस्त तक ग्राम पंचायतों में किया जाएगा किसान पाठशाला का आयोजन, किसानों को मिलेगी यह जानकारी

3 टिप्पणी

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
यहाँ आपका नाम लिखें

ताजा खबरें

डाउनलोड एप