ब्लैक बंगाल या काली बंगाल बकरी पालन के लिए उपयुक्त नस्ल

1681

ब्लैक बंगाल या काली बंगाल बकरी पालन के लिए उपयुक्त नस्ल

काली बंगाल जाति की बकरियाँ पश्चिम बंगाल, झारखंड, असोम, उत्तरी उड़ीसा एवं बंगाल में पायी जाती है। इसके शरीर पर काला, भूरा तथा सफेद रंग का छोटा रोंआ पाया जाता है। अधिकांश (करीब 80 प्रतिशत) बकरियों में काला रोंआ होता है। यह छोटे कद की होती है वयस्क नर का वजन करीब 18-20 किलो ग्राम होता है जबकि मादा का वजन 15-18 किलो ग्राम होता है।

नर तथा मादा दोनों में 3-4 इंच का आगे की ओर सीधा निकला हुआ सींग पाया जाता है। इसका शरीर गठीला होने के साथ-साथ आगे से पीछे की ओर ज्यादा चौड़ा तथा बीच में अधिक मोटा होता है। इसका कान छोटा, खड़ा एवं आगे की ओर निकला रहता है।

इस नस्ल की प्रजनन क्षमता काफी अच्छी है। औसतन यह 2 वर्ष में 3 बार बच्चा देती है एवं एक वियान में 2-3 बच्चों को जन्म देती है। कुछ बकरियाँ एक वर्ष में दो बार बच्चे पैदा करती है तथा एक बार में 4-4 बच्चे देती है। इस नस्ल की मेमना 8-10 माह की उम्र में वयस्कता प्राप्त कर लेती है तथा औसतन 15-16 माह की उम्र में प्रथम बार बच्चे पैदा करती है। प्रजनन क्षमता काफी अच्छी होने के कारण इसकी आबादी में वृद्धि दर अन्य नस्लों की तुलना में अधिक है। इस जाति के नर बच्चा का मांस काफी स्वादिष्ट होता है तथा खाल भी उत्तम कोटि का होता है।

यह भी पढ़ें   बकरी पालन योजना हेतु लोन एवं सब्सिडी लेने के लिए ऐसे बनायें 100 बकरी तथा 5 बकरे के लिए प्रोजेक्ट

इन्हीं कारणों से ब्लैक बंगाल नस्ल की बकरियाँ मांस उत्पादन हेतु बहुत उपयोगी है। परन्तु इस जाति की बकरियाँ अल्प मात्रा (15-20 किलो ग्राम/वियान) में दूध उत्पादित करती है जो इसके बच्चों के लिए अपर्याप्त है। इसके बच्चों का जन्म के समय औसत् वजन 1.0-1.2 किलो ग्राम ही होता है। शारीरिक वजन एवं दूध उत्पादन क्षमता कम होने के कारण इस नस्ल की बकरियों से बकरी पालकों को सीमित लाभ ही प्राप्त होता है।

यह गुजरात एवं राजस्थान के सीमावर्ती क्षेत्रों में भी उपलब्ध है। इस नस्ल की बकरियाँ दूध उत्पादन हेतु पाली जाती है लेकिन मांस उत्पादन के लिए भी यह उपयुक्त है। इसका शरीर गठीला एवं रंग सफेद, भूरा या सफेद एवं भूरा का मिश्रण लिये होता है। इसका नाक छोटा परन्तु उभरा रहता है। कान लम्बा होता है। पूंछ मुड़ा हुआ एवं पूंछ का बाल मोटा तथा खड़ा होता है। इसके शरीर का बाल मोटा एवं छोटा होता है। यह सलाना एक वियान में औसतन 1.5 बच्चे उत्पन्न करती है। इस नस्ल की बकरियों को बिना चराये भी पाला जा सकता है।

यह भी पढ़ें   जानिए क्यों होती है भेड़ एवं बकरियों के वजन में कमी, कैसे बढ़ा सकते हैं भेड़-बकरियों का वजन

काली बंगाल नस्ल की विशेषताएं

विशिष्ट गुणउच्च कोटी का मांसशुद्धलाभरु. 2000/- से 2500/- प्रत्येक साल
विशेषताएँमुख्यत: काली भूरी रंग, छोटे एवं खड़े कानऔसत शारीरिक वजन12 से 15 कि.ग्रा.
छौने के बीच का अंतराल6 महीनाप्रकारमाँस एवं चमड़ा
बिक्री योग्य उम्र6 से 9 महीनामांस प्राप्ति प्रतिशत45 से 50 प्रतिशत
पिछला लेखलो प्लास्टिक टनल तकनीक
अगला लेखखेती के लिए अनाज की 155 उच्‍च पैदावार की किस्‍में/ नस्‍लें जारी

LEAVE A REPLY

अपना कमेंट लिखें
आपका नाम लिखें.