सौर ऊर्जा टेक्नालाजी में कौशल विकास प्रशिक्षण प्राप्त करने के लिए आवेदन करें

0
1135
solar panel training

सौर उर्जा क्षेत्र में प्रशिक्षण

देश में सरकार द्वारा लगातार सौर उर्जा को बढ़ावा दिया जा रहा है, सौर उर्जा से किसानों की आय बढ़ाने के उद्देश्य से प्रधानमंत्री के द्वारा कुसुम योजना की शुरुआत की गई है | योजना के तहत किसानों की आय बढ़ाने के उद्देश्य से खेतों पर सोलर प्लांट एवं सिंचाई के लिए सोलर पम्प किसानों को सब्सिडी पर दिए जा रहे हैं | सौर उर्जा के बढ़ते हुए क्षेत्र के देखते हुए अब राज्य सरकारों के द्वारा ग्रामीण क्षेत्रों में रोजगार सृजन के उद्देश्य से युवाओं को प्रशिक्षण दिया जा रहा है |

मध्यप्रदेश में सौर ऊर्जा क्षेत्र में निवेश की असीम संभावनाओं और उपयोग को देखते हुए युवा उद्यमियों के लिए सौर ऊर्जा टेक्नालॉजी के क्षेत्र में कौशल विकास के लिये मध्यप्रदेश ऊर्जा विकास निगम और राजीव गांधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के साथ एनर्जी स्वराज फाउंडेशन 5 से 10 अप्रैल 2021 तक छह दिन का सशुल्क व्यावहारिक प्रशिक्षण दिया जायेगा।

यह भी पढ़ें   आंधी-बारिश या ओलावृष्टि से फसल नुकसान हुआ है तो यहाँ कॉल करें

प्रत्येक जिले से 10 लाभार्थी ले सकेगें सौर उर्जा टेक्नोलोजी प्रशिक्षण

योजना के तहत मध्यप्रदेश राज्य के प्रत्येक जिले से सिर्फ दस लोगों को प्रशिक्षण दिए जाने का लक्ष्य है | यह प्रशिक्षण आई.आई.टी बॉम्बे के प्रोफेसर, एनर्जी स्वराज फाउंडेशन के संस्थापक एवं मध्यप्रदेश के सौर ऊर्जा के ब्रांड एम्बेसेडर प्रोफेसर चेतन सिंह सोलंकी और उनके मास्टर ट्रेनर्स द्वारा राजीव गांधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, भोपाल में दिया जायेगा।

प्रशिक्षण प्राप्त युवा उद्यमी सौर पी.वी. टेक्नोलॉजी एवं सिस्टम डिजाइन में सैद्धांतिक ज्ञान के अतिरिक्त सौर पी.वी. सिस्टम के इंस्टॉलेशन में पारंगत होंगे। वे सिस्टम के इंस्टालेशन की लागत-व्यय आदि की गणना सीखेंगे और साथ-साथ सोलर के वर्तमान मार्केट एवं व्यापार की संभावनाओं और नये विकल्पों से भी परिचित होंगे। प्रशिक्षण के बाद युवा उद्यमी ऑफ-ग्रिड रूफ टॉप सोलर पी.वी. सिस्टम को डिजाइन कर स्थापित कर पाएंगे।

सौर उर्जा टेक्नोलॉजी में प्रशिक्षण लेने हेतु आवेदन

कोई भी आई.टी.आई/डिप्लोमा/इंजीनियरिंग/विज्ञान में स्नातक और अधिकतम 40 वर्ष आयु का व्यक्ति इस प्रशिक्षण में शामिल हो सकता है। स्नातक कर रहे विद्यार्थी या सरकारी क्षेत्र में पूर्णकालिक सेवाएँ दे रहे लोग पात्र नहीं हैं। प्रदेश के हर जिले के केवल दस लोगों को पहले-आओ-पहले-पाओ के आधार पर चुना जाएगा। प्रशिक्षण में शामिल होने हेतु आवेदन की अंतिम तारीख 28 फरवरी है। आवेदन-पत्र ई-मेल ([email protected]) पर मेल करके प्राप्त किये जा सकते हैं।

यह भी पढ़ें   आने वाले दिनों के लिए मौसम पूर्वानुमान

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here