सब्सिडी पर औषधीय पौधों की खेती करने के लिए आवेदन करें

0
4392
views
anudan par Aushadhiya fasal ki kheti hetu aavedan MP

अनुदान पर औषधीय पौधों की खेती हेतु आवेदन

औषधीय पौधों का उपयोग देश में स्वास्थ्य सम्बंधित दवा बनाने में किया जाता है | आयुष पद्धति को बढ़ावा देने के लिए औषधीय पौधों का बढ़ावा देना जरुरी है | देश में जितनी औषधीय फसलों  की जरूरत है उसका 2/3 भाग की प्राप्ति उन्मुमुल्नात्मक साधनों से की जाती है | भारत औषधीय पौधों का कच्चा उत्पाद 60 से 70 प्रतिशत तक निर्यात करता हैं | इसका बाजार 120 मिलियन डालर तक का है | इसका बड़ा बाजार तथा अधिक मूल्य के कारण किसानों के लिए खेती हमेशा से लाभदायक है |

परन्तु औषधीय पौधों कि खेती के लिए पौधों की जरूरत होती है जो काफी महंगा होता है इसलिए सभी किसान इसकी खेती आर्थिक कारणों से नहीं कर पाते हैं | केंद्र सरकार के द्वारा प्रायोजित राष्ट्रीय आयुष मिशन के तहत  किसान सब्सिडी पर औषधीय पौधों की खेती कर सकते हैं| इस योजना के पूरी जानकारी किसान समाधान लेकर आया है |

सब्सिडी किस योजना के तहत है ?

राष्ट्रीय औषधीय मिशन केंद्र सरकार की योजना है अतः यह पूरे भारत वर्ष में लागू है परन्तु अभी  मध्य प्रदेश के किसानों के लिए राष्ट्रीय औषधीय पौध क्षेत्र विस्तार योजना के तहत आवेदन मांगे गए हैं  है | यह योजना केंद्र सरकार के द्वारा चलाये जा रहे राष्ट्रीय औषधीय मिशन के तहत आती है |

योजना के तहत किन पौधों का आवेदन माँगा गया है ?

राष्ट्रीय औषधीय पौध के अंतर्गत कुल 5 पौधों का चयन किया गया है | यह सभी पौधे एक जिले के किसानों के लिए नहीं है बल्कि भूमि तथा मौसम के अनुसार या फिर पहले से जिस फसल की खेती होते आ रहा है उसके अनुसार पौधों का चयन किया गया है | अभी उद्यानकी विभाग मध्य प्रदेश के द्वारा निम्नलिखित पौधों के लिए आवेदन माँगा गया है | स्टेविया , अश्वगंधा, चन्द्रासुर , कोलियस, कोलियस , गुग्गल

यह भी पढ़ें   समर्थन मूल्य पर मसूर,चना तथा सरसों बेचने के लिए पंजीयन शुरू

यह सभी पौधों के लिए किस जिले के किसान आवेदन कर सकते हैं ?

सभी पौधों के लिए अलग – अलग जिले हैं यह इस प्रकार है :-

  • स्टेविया :- पन्ना, सीहोर, होशंगाबाद, नीमच, राजगढ़, आगर – मालवा |
  • अश्वगंधा :- मंदसौर, नीमच, राजगढ़
  • कोलियस :- राजगढ़, हरदा
  • चन्द्रासुर :- मंदसौर, नीमच
  • कोलियस गुग्गल :- राजगढ़, हरदा, मंदसौर, नीमच, आगर मालवा, पन्ना, सीहोर, होशंगाबाद

प्रदेश के केवल इन सभी जिलों के किसान ही आवेदन कर सकते हैं | यह योजना के लिए इन जिलों के सभी वर्ग के किसान आवेदन कर सकते हैं |

सब्सिडी हेतु आवेदन कब करना है ?

इस योजना के लिए चयनित जिलों के किसान आज 07/10/2019 को दोपहर 11:00 बजे से ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं | इस बात का ध्यान रखें कि योजना के लिए आवेदन जिले के लक्ष्य से 10 प्रतिशत अधिक किसान ही आवेदन कर सकेगें | जब तक लक्ष्य पूरा नहीं होता है तब तक सम्बंधित जिले किसान आवेदन कर सकते हैं | योजना का लाभ पहले आव – पहले पाओ पर निर्भर करता है |

यह भी पढ़ें   मूँग एवं उड़द की फसल पर 800 रुपये प्रति क्विंटल प्रोत्साहन राशि पाने के लिए क्या करें

योजना का नियम और शर्तें :-

  1. यह सभी वर्गों के लिए हैं |
  2. कृषि को आधार नंबर सहित आनलाईन आवेदन करना अनिवार्य है |
  3. कृषक के पास कम से कम 2 हेक्टेयर भूमि होगी |
  4. योजना का क्रियान्वयन कृषक निजी भूमि में किया जायेगा |
  5. हितग्राही के पास सिंचाई के पर्याप्त साधन उपलब्ध होना चाहिए |
  6. वनाधिकार प्रमाण पत्र प्राप्त आदिवासियों को भी अनुदान की पात्रता होगी |

औषधीय पौधों पर अनुदान हेतु आवेदन कहाँ से करें ?

औषधीय पौधों की खेती के लिए आवेदन उधानिकी एवं खाध प्रसंस्करण विभाग मध्य प्रदेश के द्वारा आमंत्रित किये गए हैं अत: किसान भाई यदि योजनाओं के विषय में अधिक जानकारी चाहते हैं तो उधानिकी एवं मध्य प्रदेश पर देखे सकते हैं  अथवा जिला उद्यानिकी विभाग में संपर्क करें| मध्य प्रदेश में किसानों को आवेदन करने के लिए आनलाईन पंजीयन उधानिकी विभाग मध्यप्रदेश फार्मर्स सब्सिडी ट्रैकिंग सिस्टम https://mpfsts.mp.gov.in/mphd/#/ पर जाकर कृषक पंजीयन कर सकते हैं | किसान कीओसको पर जाकर अथवा mponline पर जाकर पंजीयन करें जहाँ ekyc (उँगलियों के निशान) सत्यापन कर सकें |

सब्सिडी पर औषधीय पौधों की खेती के लिए आवेदन करने हेतु क्लिक करें

किसान समाधान के YouTube चेनल की सदस्यता लें (Subscribe)करें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here