50 प्रतिशत के अनुदान पर मशरूम की खेती करने के लिए आवेदन करें

22
19526
mushroom ki kheti par anudan
kisan app download

सब्सिडी पर मशरूम की खेती

पौष्टिकता से भरपूर सब्जी के रूप में मशरूम का तेजी से विकास हो रहा है | बाजार के अनरूप मांग को देखते हुए मशरूम की खेती पर भी बहुत अधिक जोर दिया जा रहा है | किसानों के लिए कम भूमि में तथा कम खर्चे में और कम समय अधिक उत्पादन के साथ मुनाफा देने वाली फसल बनते जा रही है | इसको ध्यान में रखते हुए सभी राज्य सरकार किसानों को मशरूम प्रोद्योगिकी प्रशिक्षण से लेकर खेती के लिए वित्तीय सहायता भी दे रही है |

मशरूम की खेती से महिलाओं को अधिक प्रोत्साहित किया जा रहा है | इसके अंतर्गत राज्य सरकार प्रदेश के किसानों को मशरूम की खेती के लिए लागत का 50 प्रतिशत अनुदान दे रही है | किसान समाधान इस योजना की पूर्ण जानकारी लेकर आया है |

किसानों को कितना सब्सिडी दिया जा रहा है ?

मशरूम की खेती के लिए बिहार राज्य सरकार किसानों को सब्सिडी दे रही है | योजना के अंतर्गत राज्य सरकार द्वारा क्रेडिट लिंक्ड बैंक इंडेड आधारित 50% अनुदान उपलब्ध कराया जा रहा है, जिसका लाभ कोई भी इच्छुक कृषक प्राप्त कर सकते हैं | मशरूम उत्पादन के लिए 20 लाख रूपये प्रति इकाई लागत पर 10 लाख रूपये सहायतानुदान दिया जा रहा है | मशरूम स्पान उत्पादन के लिए 15 लाख रूपये प्रति इकाई लागत पर 7.50 लाख रूपये अनुदान दिया जा रहा है | इसी प्रकार, मशरूम कम्पोस्ट उत्पादन के लिए 20 लाख रूपये प्रति इकाई लागत पर 10 लाख रूपये की सहायता राशि दी जाती है तथा 60 रूपये प्रति मशरूम कीट पर 54 रूपये अनुदान दिया जा रहा है |

यह भी पढ़ें   राष्ट्रीय बांस मिशन (एनबीएम) को मिली मंजूरी

मशरूम की खेती के लिए उपयुक्त वातावरण

बिहार की जलवायु विभिन्न प्रकार के मशरूम उत्पादन के लिए उपयुक्त है ओयस्टर मशरूम की खेती 20 से 30 डिग्री सेंटीग्रेट पर, बटन मशरूम की खेती 15 से 22 डिग्री सेंटीग्रेट पर तथा वृहत / स्वेट दुधिया की खेती 30 से 80 डिग्री सेंटीग्रेट तापमान पर की जा सकती है |

बिहार में मशरूम का उत्पादन

इस प्रकार , बिहार में मशरूम की विभन्न प्रजातियों की खेती सैलून भर व्यावसायिक स्तर पर प्राकृतिक ढंग से कम लागत में आसानी से की जा सकती है | प्राप्त आकड़ों के अनुसार वर्ष 2010 में बिहार में 400 टन बटन मशरूम एवं 80 टन ओयस्टर मशरूम का उत्पादन होता था, जो दिन प्रतिदिन बढती जा रही है , परन्तु बटन मशरूम का उत्पादन सामान्य पुआल की कुट्टी एवं गेहूं भूसा का उपयोग किया जा सकता है, परन्तु बटन मशरूम , श्वेत दुधिया मशरूम के व्यावसायिक उत्पादन हेतु एक विशेष प्रकार के कम्पोस्ट का निर्माण अति आवश्यक होता है |

यह भी पढ़ें   कर्ज माफी के दूसरे चरण में इस जिले के 1,134 किसानों के किये गए लोन माफ

मशरूम की खेती पर सब्सिडी हेतु आवेदन करें

किसान समाधान के YouTube चेनल की सदस्यता लें (Subscribe)करें

kisan samadhan android app

22 COMMENTS

  1. Saroj VPO Bado Patti post office bhagalpur tahsil Barwala district Hisar state Haryana pin code number 125001 mobile number 70 154 98 365 mushroom ki kheti karne ke liye main taiyar hun main karna chahti hun

    • ओने जिले के कृषि विज्ञानं केंद्र में प्रशिक्षण लें | दी गई लिंक पर एड्रेस देखें |

    • सर प्रोजेक्ट बनाये जिस भी चीज का करना चाहते हैं | जिले के कृषि विज्ञान केंद्र या कृषि विभाग में सम्पर्क करें |

    • सर प्रशिक्षण लें, अपने जिले के कृषि विज्ञानं विभाग में सम्पर्क करें | बैंक से किसान क्रेडिट कार्ड बनवाएं |

    • जी उद्यानिकी विभाग की वेबसाइट से आवेदन करें |

    • प्रशिक्षण के लिए अपने जिले के कृषि विज्ञानं केंद्र में या कृषि विश्वविद्यालय से सम्पर्क करें |

  2. सर मै UP के मीरजापुर शहर से हू मै बटन मशरुम की खेती करना चाहता हू | कृपया कोई नजदिकी सेन्टर बताये जहा से इसकी खेती के लिए बीज व मिट्टी मुझे मिल जाये तथा मै मशरुम की खेती सकू|

    • अपने जिले के कृषि विज्ञानं केंद्र में स या जिले के उद्यानिकी विभाग में सम्पर्क करें |

    • लोन तो बैंक से ही मिलेगा | जिस बैंक में अकाउंट है वहां संपर्क करें |

    • प्रोजेक्ट बनायें , अपने जिले के उद्यानिकी विभाग या कृषि विज्ञानं केंद्र में सम्पर्क करें , प्रोजेक्ट अप्रूव होने पर बैंक से लोन हेतु आवेदन करें |

  3. सर मैं बिहार राज्य पूर्णिया जिले से हूं और मशरूम की खेती के लिए लोन लेना चाहता हूं कोई नजदीकी ट्रेनिंग सेंटर बताएं ताकि मैं मशरूम के बारे में ट्रेनिंग ले सकूं और लोन के लिए अप्लाई कर सकू।

    • जिले के कृषि विज्ञानं केंद्र से प्रशिक्षण प्रप्त कर सकते हैं या कृषि विश्वविद्यालय से जो भी आपके नजदीक हो हो वहां सम्पर्क करें |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here