सुखाड़ प्रभावित क्षेत्रों के पशुपालक के पशुओं के स्वस्थ हेतु यह कार्य करें

0
1863
garmi me pashuo ki dekhbhal

सुखा प्रभावित क्षेत्रों में पशुओं की देखभाल

देश में अलग – अलग राज्यों तथा राज्यों के अन्दर अलग – अलग जिलों मे मौसम एक सामान नहीं रहता है | कभी कहीं अधिक वर्ष तो कहीं अधिक सुखाड़ पड़ता है जिससे दिनचर्या की जीवन के साथ – साथ पशुओं के लिए चारा तथा पानी की संकट बन जाती है | कभी – कभी तो इंसान के साथ पशुओं को भी अपने क्षेत्र से पलायन करने पर मजबूर होना पड़ता है | अगर आप के क्षेत्र में सुखा पड़ा है तो इससे पशुओं को पचाने के लिए यह सभी उपाय करें |

  1. पशुओं को छायादार स्थानों पर रखा जाये |
  2. पर्याप्त मात्रा में पेय जल की व्यवस्था रखी जाये |
  3. पशुओं को आवश्यक मात्रा में चारा – दाना उपलब्ध कराया जाय |
  4. विषम परिस्थिति में सू – बबूल, शीशम, सहजन, पीपल, गुलद आदि के पत्ते का उपयोग सिमित मात्रा में किया जा सकता है |
  5. सुखाड़ में कम पानी की खपत वाले पशु चारा बाजरा, ज्वार, मक्का आदि की उपयुक्त किस्में पशु चहरे के लिए उगायी जा सकती है |
  6. अपरिपक्व ज्वार – बाजरा के पौधे पशुओं को नहीं खिलाना चाहिए | इससे उनके जान को खतरा हो सकता है | बाली लग जाने के बाद ही खिलाना उचित है |
  7. पशुओं को कभी भी लावारिस नहीं छोड़ा जाये | एसी स्थति में पशु भूख के कारण अवांछित वस्तुएँ खा लेते हैं , जो उनके लिए जानलेवा भी हो सकता है |
  8. किसी तरह की परेशानी होने पर प्रखंड पशुपालन पदाधिकारी या निकटतम पशु चिकित्सालय में सम्पर्क कर उचित सलाह / चिकित्सा प्राप्त किया जा सकता है |
  9. शरीर में जल लवन की कमी को ध्यान में रखकर दिन में कम से कम चार बार स्वच्छ जल उपलब्ध करना चाहिए | साथ ही संतुलित आहार के साथ – साथ उचित मात्रा में खनिज मिश्रण देना चाहिए |
  10. कम पानी तथा कम स्थान घेरने वाले पौष्टिक चारा “अजोला” की खेती की जा सकती है |
  11. हाईड्रोपोनिक विधि से हर चारा का उत्पादन कराया जा सकता है |
  12. पशुओं के पेयजल हेतु सरकार द्वारा तैयार कराये गए “कैटल ट्रफ़” का उपयोग करना चाहिए |
यह भी पढ़ें   कहीं आपकी गाय या भैंस को यह रोग तो नहीं

इस तरह की ताजा जानकरी विडियो के माध्यम से पाने के लिए किसान समाधान को YouTube पर Subscribe करें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here