सुखाड़ प्रभावित क्षेत्रों के पशुपालक के पशुओं के स्वस्थ हेतु यह कार्य करें

0
903
views
garmi me pashuo ki dekhbhal

सुखा प्रभावित क्षेत्रों में पशुओं की देखभाल

देश में अलग – अलग राज्यों तथा राज्यों के अन्दर अलग – अलग जिलों मे मौसम एक सामान नहीं रहता है | कभी कहीं अधिक वर्ष तो कहीं अधिक सुखाड़ पड़ता है जिससे दिनचर्या की जीवन के साथ – साथ पशुओं के लिए चारा तथा पानी की संकट बन जाती है | कभी – कभी तो इंसान के साथ पशुओं को भी अपने क्षेत्र से पलायन करने पर मजबूर होना पड़ता है | अगर आप के क्षेत्र में सुखा पड़ा है तो इससे पशुओं को पचाने के लिए यह सभी उपाय करें |

  1. पशुओं को छायादार स्थानों पर रखा जाये |
  2. पर्याप्त मात्रा में पेय जल की व्यवस्था रखी जाये |
  3. पशुओं को आवश्यक मात्रा में चारा – दाना उपलब्ध कराया जाय |
  4. विषम परिस्थिति में सू – बबूल, शीशम, सहजन, पीपल, गुलद आदि के पत्ते का उपयोग सिमित मात्रा में किया जा सकता है |
  5. सुखाड़ में कम पानी की खपत वाले पशु चारा बाजरा, ज्वार, मक्का आदि की उपयुक्त किस्में पशु चहरे के लिए उगायी जा सकती है |
  6. अपरिपक्व ज्वार – बाजरा के पौधे पशुओं को नहीं खिलाना चाहिए | इससे उनके जान को खतरा हो सकता है | बाली लग जाने के बाद ही खिलाना उचित है |
  7. पशुओं को कभी भी लावारिस नहीं छोड़ा जाये | एसी स्थति में पशु भूख के कारण अवांछित वस्तुएँ खा लेते हैं , जो उनके लिए जानलेवा भी हो सकता है |
  8. किसी तरह की परेशानी होने पर प्रखंड पशुपालन पदाधिकारी या निकटतम पशु चिकित्सालय में सम्पर्क कर उचित सलाह / चिकित्सा प्राप्त किया जा सकता है |
  9. शरीर में जल लवन की कमी को ध्यान में रखकर दिन में कम से कम चार बार स्वच्छ जल उपलब्ध करना चाहिए | साथ ही संतुलित आहार के साथ – साथ उचित मात्रा में खनिज मिश्रण देना चाहिए |
  10. कम पानी तथा कम स्थान घेरने वाले पौष्टिक चारा “अजोला” की खेती की जा सकती है |
  11. हाईड्रोपोनिक विधि से हर चारा का उत्पादन कराया जा सकता है |
  12. पशुओं के पेयजल हेतु सरकार द्वारा तैयार कराये गए “कैटल ट्रफ़” का उपयोग करना चाहिए |
यह भी पढ़ें   अजोला चारे का उपयोग कर पशुओं से 20% अधिक दूध प्राप्त करें

इस तरह की ताजा जानकरी विडियो के माध्यम से पाने के लिए किसान समाधान को YouTube पर Subscribe करें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here