केले की खेती करने वाले किसानों के लिए शुरू किया गया एंड्राइड एप

226
banana production technology app

केला उत्पदान की जानकारी के लिए एंड्राइड एप

भारत केले के उत्पादन में विश्व में 2.75 करोड़ टन के साथ पहला स्थान रखता है | इसके बाद चीन का स्थान आता है जो 1.2 करोड़ टन के साथ दुसरे स्थान पर है | भारत में केले के उपभोगता अधिक रहने के कारण निर्यात में बहुत पीछे हैं | विश्व में केले का निर्यात सबसे ज्यादा फीलिपंस करता है | इसका एक कारण यह भी है की केले के उत्पादक किसानों को केले की अच्छी प्रजाति का उपलब्ध नहीं होने के साथ में वैज्ञानिक तरह से केले की खेती न करना है | केले की वैज्ञानिक तरीके से खेती कर न केवल उत्पादकता को बढाया जा सकता है बल्कि केला उत्पादक किसानों की आय में भी वृद्धि की जा सकती है | 

इसको ध्यान में रखते हुए भरतीय कृषि अनुसंधान संस्थान (ICAR) और राष्ट्रीय केला अनुसंधान केंद्र के द्वारा देश के केला उत्पादक किसानों के लिए एक मोबाईल एप शुरू की गई है | इस एप के जरिये किसानों को केले से संबंधित सभी प्रकार की जानकारी उपलब्ध करवाई जाएगी | सेंटर फाँर डेवेलपमेंट आँफ एडवांस कंप्यूटिंग, हैदराबाद द्वारा बनाए गये इस मोबाइल एप का नाम “बनाना प्रोडक्शन टेक्नोलांजी (केला–उत्पादन प्रोद्धोगिकी)” है |

यह भी पढ़ें   किसानों के लिए नई बीमा योजना, दुर्घटना होने पर मिलेगी 5 लाख रुपये तक की सहायता राशि

यह एप कितने भाषाओँ में शुरू किया गया है 

केले उत्पादक किसानों को ध्यान में रखकर बनाया गया यह ऐप फ़िलहाल तीन भाषाओँ में उपलब्ध है | आगे इसे ओर भाषाओँ में लाया जायेगा, यह तीन भाषा इस प्रकार है :- हिंदी, अंग्रेजी तथा तमिल |

बनाना प्रोडक्शन टेक्नोलॉजी एप पर उपलब्ध जानकारी

केला किसानों को केले की खेती के अलावा अन्य प्रकार की जानकारी उपलब्ध भी उपलब्ध करवाई जाएगी | इस एप के जरिये किसान जलवायु, मृदा, पौधा रोपण सामग्री, रोपाई, जल प्रबन्धन, पोषक तत्व प्रबन्धन, उर्वरक समायोजन समीकरण, संबंधित जानकारी उपलब्ध कराया जा रहा है | इसके अलावा किसनों को फलों का परिपक्व होना और फल गुच्छों की कटाई की जानकारी दी जाएगी |

कहाँ से डाउनलोड करें

बनाना प्रोडक्शन टेक्नोलॉजी (केला – उत्पादन प्रोद्धोगिकी) को गूगल प्ले स्टोर से डाऊनलोड किया जा सकता है | अपनी भाषा के अनुसार किसान एप में भाषा का चयन कर सकते हैं |

बनाना प्रोडक्शन टेक्नोलॉजी एंड्राइड एप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें

पिछला लेखकोरोना महामारी के बीच ग्रीष्म कालीन (जायद) फसलों की बुवाई में हुई 21.5 प्रतिशत की वृद्धि
अगला लेखICAR-IISR के वैज्ञानिकों ने प्राप्त की बीजों की गुणवत्ता बढ़ाने वाली बीजावरण संरचना प्रौद्योगिकी

LEAVE A REPLY

अपना कमेंट लिखें
आपका नाम लिखें.