Thursday, December 1, 2022

कृषि मंत्री ने किसानों को जल्द ही बीमा क्लेम देने के लिए बीमा कंपनियों को दिए निर्देश

Must Read

किसानों के बीमा क्लेम के लिए 61 करोड़ रुपए जारी

इस वर्ष देश के कई जिलों में असामान्य मानसून रहने के चलते खरीफ फसलों को काफी नुकसान हुआ है | कहीं बुआई के बाद लम्बे समय तक बारिश का न होना एवं कई जगह अधिक बारिश से बाढ़ की स्थिति पैदा होने से किसानों की बोई गई फसलों को काफी नुकसान हुआ है | कहीं कहीं तो किसानों को दोबारा से बुआई करनी पड़ी है | किसानों को इसके चलते काफी नुकसान हुआ है | ऐसे में राजस्थान सरकार ने निष्फल बुवाई से प्रभावित किसानों को तत्काल राहत पहुंचाने के लिए प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के राज्यांश प्रीमियम के 61 करोड़ 45 लाख रुपए जारी किए हैं।

कृषि मंत्री श्री लालचन्द कटारिया ने बीमा कंपनियों को किसानों को अतिशीघ्र बीमा क्लेम देने के निर्देश दिए हैं। श्री कटारिया ने बताया कि कोटा, बूंदी, धौलपुर एवं करौली जिले के विभिन्न हिस्सों में अतिवृष्टि एवं गंगानगर जिले के कुछ इलाकों में कम बारिश के कारण अधिसूचित फसल की बुवाई प्रभावित हुई है। कहीं बुवाई हो नहीं पाई तो कहीं निष्फल हो गई। ऐसी स्थिति में प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के प्रावधान 21.3 के तहत जिला कलक्टरों से निष्फल बुवाई के प्रस्ताव प्राप्त हुए।

यह भी पढ़ें   सूखा प्रभावित 30 लाख से अधिक किसानों को दी जाएगी 3500 रुपए की सहायता राशि

इन जिलों के किसानों को दिया जायेगा बीमा क्लेम

- Advertisement -

अभी तक राज्य सरकार के पास आये फसल नुकसान के सर्वे के अनुसार गंगानगर जिले के 29, करौली के 12, बूंदी के 223, धौलपुर के 19 एवं कोटा जिले के 204 पटवार सर्किल में 75 फीसदी से अधिक क्षेत्र में बुवाई प्रभावित होना सामने आया है, जिनकी राज्य सरकार की ओर से क्षति अधिसूचना जारी की गई है। करौली एवं धौलपुर जिले के लिए 1 करोड़ 24 लाख, बूंदी के लिए 31 करोड़ 20 लाख, कोटा के लिए 7 करोड़ 71 लाख एवं श्री गंगानगर जिले के लिए 21 करोड़ 28 लाख रुपए का राज्यांश प्रीमियम सम्बन्धित बीमा कम्पनियों को हस्तांतरित किया गया है।

बारां एवं झालावाड़ जिले में ज्यादा बरसात से किसानों के व्यक्तिगत फसल खराबे के आवेदन प्राप्त हुए हैं, जिनका सर्वे कराया जा रहा है। सर्वे के पश्चात तत्काल ही राज्यांश प्रीमियम जमा करा दिया जाएगा।

बीमित राशि का 25 प्रतिशत दिया जायेगा मुआवजा

फसल बीमा योजना के इस प्रावधान के तहत कृषक को बीमित राशि का 25 प्रतिशत मुआवजा दिया जाता है। उसके पश्चात बीमा पॉलिसी समाप्त हो जाती है।

यह भी पढ़ें   1 नवम्बर से शुरू होगी धान की MSP पर खरीद, किसान 31 अक्टूबर तक करा सकेंगे धान बेचने के लिए पंजीयन
- Advertisement -

18 COMMENTS

    • मिलेगा सर | आप फसल बीमा कंपनी या अपने यहाँ के कृषि विभाग में सम्पर्क करें |

    • सम्बंधित बैंक, फसल बीमा कंपनी या अपने यहाँ के कृषि अधिकारीयों से सम्पर्क करें |

    • किस राज्य से हैं ? सर वर्ग के अनुसार अलग-अलग सब्सिडी दी जाती है |

  1. मेरा केसीसी अकाउंट 17 के बाद में है अभी तक बीमा आया भी नहीं है प्रधानमंत्री फसल बीमा करवाते हैं

  2. 2017 के बाद में मेरा केसीसी अकाउंट है चार-पांच साल हो गए अभी तक भीम आया ही नहीं है

    • सर जब फसल नुकसान होती है उस समय सर्वे करवाया करें | आप अपने यहाँ की अधुसुचित फसल देखें उसके अनुसार ही फसल बीमा करवाएं |

  3. Nebdan ha ke prathe ne pm fasal vema compne 15/9/2020 Ko kharef ke fasal ola varste ke karan nast hoge fasal vema abhe Tak nahe mela or 24/8/2021ko moong ki fasal gavar cotten sabhe fasal bena bares ke karan nast hoge pm kesan fasal vema ka kalem nahe mela ha

    • सर फसल बीमा कंपनी के टोल फ्री नम्बर पर या अपने यहाँ के स्थानीय कृषि अधिकारीयों से शिकायत करें |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest News

3 लाख से अधिक नए किसानों को दिया जायेगा ब्याज मुक्त फसली ऋण

ब्याज मुक्त फसली ऋण का वितरणकृषि के क्षेत्र में निवेश के लिए केंद्र तथा राज्य सरकारें किसानों को सस्ता...

More Articles Like This

ऐप खोलें