सितम्बर माह में किसान भाई क्या-क्या कर सकते हैं

5
4890

सितम्बर माह 

कृषि

  1. धान फसल की दूसरी निराई – गुडाई करें तथा कन्से फंटने व दुग्धावस्था में 5 – 7 से.मी. पानी खेत में आवश्य रखें | बलि निकालने से पूर्व 12 किलोग्राम नत्रजन प्रति एकड़ रोपाई वाले खेत में डालें |
  2. धान में फफूंदी जनित झुलसा व शिध गलन व भूरा धब्बा रोग नियंत्रण हेतु एक किलोग्राम कार्बेडाजिम या हिनोसान (400 ग्राम दवा) 250 ली.पानी में घोल प्रति एकड़ छिड़काव करें | यदि फुदका कीट का प्रकोप दिखे मोनोक्रोटोफास 36 ई.सी. का 400 मी.ली प्रति एकड़ के हिसाब से छिडकाव करें |
  3. धान के खेत में करगा उन्मूलन का कार्य करें |
  4. मक्के की संकर किस्मों में 10 से 15 किलोग्राम नत्रजन मंजरी बनते समय करें | माह के अंत में चना व तोतिया की बोवाई करें |
  5. दलहन एवं तिलहन फसलों में खरपतवार नियंत्रण व उचित जल निकास की व्यवस्था रखें |
  6. उड़द व मूंग पिला मोजके रोग की रोकथाम हेतु डायमेथएट 30 ई.सी. 250 मि.ली. या फस्फोमिडान 85 ई.सी. 120 मि.ली. प्रति एकड़ के हिसाब से छिड़काव करें |
यह भी पढ़ें   पाले से फसल को कैसे बचाये 

उद्धानिकी

  1. पपीते के पौधे के रोपने कार्य पूरा करें |
  2. बगीचे में सिंचाई नाली का निर्माण करें तथा खरपतवार नियंत्रण हेतु निंदाई – गुडाई करें |
  3. संतरा एवं बेर में सुंडी कीट नियंत्रण हेतु कीटनाशक दवा मोनोक्रोटोफास या मेलाथियान का छिडकाव करें |
  4. अदरक एवं हल्दी में सिंचाई करें |
  5. अगस्त महीने में डाली गयी नर्सरी पौध की रोपाई करें | पिछले किस्म की नर्सरी तैयार करें |
  6. महीने के अंत में अगेती आलू (कुफरी चन्द्रमुखी) की बुवाई की तैयारी करें |
  7. गोभी की अगेती फसल में गुडाई तथा निंदाई करें और 20 किलोग्राम यूरिया प्रति एकड़ डालकर गुडाई करें |
  8. मटर व मूली की अगेती किस्मों की बुवाई महीने के अन्त में करें |

पशुपालन 

  1. गाय व भैस को टो में आने के 12 से 18 घंटे के अन्दर गाभिन करवाने का उचित समय है |
  2. दुधारू पशुओं में थैनेला रोग से बचाव के उपाय करें |
  3. पशुओं को अन्त:परजीवी नाशक दवाई पशु – चिकित्सक की सलहा अनुसार नियमित दें |
  4. बरसीम की पहली बिजाई इस माह के अन्तिम सप्ताह में शुरू करें |
  5. बरसीम की पहली काट से अधिक चारा लेने के लिए सरसों की (चाइनीज कैबीज) किस्म या जई मिलाकर बिजाई करें |
  6. बरसीम के साथ राई घास मिला कर बिजाई करने से हरे चारे की पौष्टिकता व ऊपज में वृद्धि होती है |
  7. बरसीम फसल से अधिक उपज व लम्बी अवधि तक (मध्य जून) तक हरा चारा प्राप्त करने के लिए उन्नत किस्मों BL- 10, BL- 22 व BL- 42 की बिजाई करें |
  8. बरसीम की बिजाई नये खेत में करनी हो तो बीज को राईजोबियम कल्चर से उपचारित करने पर अधिक हरा चारा प्राप्त किया जा सकता है |
  9. बैल बनाने के लिए छ: मास की आयु होने पर बछड़े को बधिया करवायें |
यह भी पढ़ें   सौंफ की खेती

5 COMMENTS

    • सर सभी फसलों के लिए कुछ अलग अलग हो सकता है यदि आपको वैज्ञानिक तरीके से करनी है तो आप अपने जिले के कृषि विभाग में जाकर जानकरी एवं प्रशिक्षण प्राप्त कर सकते हैं |

    • जी आप अपने जिले के कृषि विज्ञान केंद्र में सम्पर्क कर वहां वज्ञानिकों से प्रशिक्षण लें | वहां से आपको पूरी मदद की जाएगी, आप प्रशिक्षण भी ले सकते हैं |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here