सबसे बड़े कृषि यांत्रिक मेले में प्राप्त करें अनुदान पर कृषि यंत्र

0
1804
views
हार्वेस्टर, ट्रैक्टर एवं अन्य कृषि यन्त्र अनुदान

किसान यंत्रों को ट्रायल के साथ अनुदान पर खरीद भी पाएगें इस मेले में

वित्तीय वर्ष 2018 – 19 का तथा उत्तर – पूर्व भारत का सबसे बड़ा कृषि यांत्रिक मेला आयोजित किया जा रहा है | यांत्रिक मेले का इसी बात से अंदाजा लगया जा सकता है की 3 लाख वर्ग मीटर में 100 से ज्यादा स्टाल पर 76 तरह के यंत्र का प्रदर्शनी के लिए देश के अलग – अलग राज्यों से कंपनी को आमंत्रित किया गया है | मेला का आयोजन कृषि विभाग, बिहार द्वारा इंडियन चैम्बर आफ कामर्स के सहयोग से दिनांक 09 – 12 फरवरी 2019 तक गाँधी मैदान, पटना में एग्रो बिहार 2019 चार दिवसीय राज्य स्तरीय कृषि यंत्र प्रदर्शनी – सह किसान मेला का आयोजन किया जा रहा है | यह मेला पिछले 8 वर्षों से आयोजित किया जा रहा है |

मेले का खास बात यह है की किसान यंत्र का ट्रायल ले सकता है उसे खरीद सकता है तथा खरीदी गई यंत्र पर राज्य सरकार सब्सिडी भी देगी | राज्य सरकार मेला में 76 तरह के कृषि यंत्र पर सब्सिडी देने जा रही है | वर्ष 2014 – 15 से किसानों ने कृषि यंत्र के लिए 1,81,400 से अधिक कृषि यंत्र के लिए आवेदन किया है | जिसमें से राज्य सरकार ने 73,800 से अधिक किसानों को सब्सिडी पर कृषि यंत्र उपलब्ध करा चूका है | वर्ष 2018 – 19 में किसनों को 6.40 करोड़ रुपया का कृषि यंत्रों पर अनुदान राशी DBT के माध्यम से किसानों के खतों में पहुंचा दिया गया है |

किसान समाधान आप सभी लोगों को कृषि यंत्रों को आनुदान पर कैसे प्राप्त करे इसकी सम्पूर्ण जन्करिलेकर आया है |

यह भी पढ़ें   पीएम-किसान योजना के तहत 6,000 रुपये लेने के लिए इस फार्म को आज ही भरें

इस मेला में कौन – कौन से यंत्र मिलेगा ?

इस मेला में भी पिछले मेला (जो राजगीर में हुआ था) की तरह ही है | इस मेला में सिंचाई (ड्रीप, स्प्रिंकल, फब्बारा इत्यादी), पम्प, ट्रैक्टर, हार्वेस्टर, थ्रेसर, पावर टिलर, दावा छिडकने वाली मशीन इत्यादी | इस मेला में महत्वपूर्ण यह है की इसमें देश के सभी कंपनियों को आमंत्रित किया गया है | जिससे एक ही यंत्र अलग – अलग कंपनियों के खरीद सकते हैं | पटना में होने वाले यांत्रिक मेला 3 लाख वर्ग मीटर में आयोजित किया जा रहा है | जिसमें 100 से ज्यादा स्टाल लगाएं जा रहे हैं |

स्कीम का फायदा कैसे प्राप्त करेंगे ?

यह योजना ऑनलाइन हो चूका है | जिसके लिए किसान को DBT (डी.बी.टी.) में पंजीयन करना जरुरी है | इसके लिए आपका आधार नंबर आप के मोबाईल नम्बर  से जुडा होना चाहिए | DBT में पंजीयन कराने के बाद आप को एक पंजीयन नंबर मिलेगा | इस नंबर के आधार पर कृषि यांत्रिक पर जाकर अपने यंत्र प्राप्त करने के लिए फार्म भरना पड़ेगा | एक बात का ध्यान रखना होगा की DBT पंजीयन के 24 घंटे के बाद ही यांत्रिक फार्म भरा जायेगा |

अगर किसी किसान ने फार्म नहीं भरा होगा तो योजना का लाभ प्राप्त कर सकता है ?

किसी किसान का यांत्रिक फार्म नहीं भरा होगा , तो उसे भी कृषि यंत्र प्राप्त होगा लेकिन DBT में पंजीयन होना जरुरी है | आप DBT पंजीयन का फोटो कॉपी के साथ एक एकाउंट नंबर लेकर चले जायें | आपको जो भी मशीन खरीदना होगा उसे खरीद सकते हैं | आप को योजना का लाभ मिलेगा |

यह भी पढ़ें   अयोध्या नहीं कर्ज माफ़ी चाहिए: किसान मुक्ति मार्च

अभी तक इस योजना का लाभ लेने के लिए वर्ष 2014 – 15 से 1,67,000 किसान आवेदन कर चुके हैं | इसमें से 64 हजार किसानों को योजना का लाभ दिया जा चूका है | जो किसान के खाता में सीधे दिया गया है |

इस मेला में क्या रहेगा खास

  • मेला में बिहार के अलावा दिल्ली, हरियाणा, तमिलनाडु, महाराष्ट्र, राजस्थान, पंजाब, गुजरात, कर्नाटक, उत्तर प्रदेश, पक्षिम बंगाल, आदि राज्यों के कृषि यंत्र निर्माता भाग लेंगे |
  • मेला में प्रतिदिन किसान पाठशाला का आयोजन किया जायेगा जिसमें अलग – अलग तरह के कृषि यंत्र का रख – रखाव , वैल्यू एडिशन तथा उसके उपयोग के बारे में बताया जायेगा |
  • किसान पाठशला में राज्य के सभी जिलों से 25,00 किसानों को प्रतिदिन आत्मा के माध्यम से सरकारी खर्चे पर लाने की व्यवस्था की गई है | इसके साथ ही, राज्य के सभी जिलों से लगभग 1000 कृषि यंत्र व्यवसायियों के भाग लेने की संभवना है |
  • इस मेला में पहली बार रूफ गार्डनिग, पशुपालन, मत्स्यपालन, उधान, भूमि संरक्ष्ण, बीज, खाध , कीटनाशी दवा आदि से संबंधित प्रदर्शनी लगाये जा रहे हैं |

इस मेला में किसानों को तकनीकी ज्ञान, यंत्रों का उपयोग अनुदानित दर पर यंत्रों की खरीदी के साथ – साथ कृषि यंत्रों की उपयोगिता तथा आधुनिक खेती को सरल बनाने की जानकरी देने के उद्देश से आयोजित किया जाता है | इसलिए किसान को इस मेला में जाना चाहिए अगर कुछ खरीदता है तो अनुदान प्राप्त होगा नहीं खरीदता है तो बहुत कुछ सिखने का मौका मिलेगा |

किसान समाधान के YouTube चेनल की सदस्यता लें (Subscribe)करें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here