किसानों को मुफ्त में दिए जाएंगे उन्नत किस्म के प्रमाणित बीज

16503
free seeds for farming

उन्नत किस्म के प्रमाणित बीज का मुफ्त में वितरण

देश में चल रहे देशव्यापी लॉक डाउन चल रहा है जिसके चलते सभी को कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है | ऐसे में सरकार गरीब मजदूरों एवं किसानों की सहायता करने के लिए आगे आई है | देश में पैदावार को बढ़ाने के लिए तथा कृषि रोड मैप के अधीन राज्य में गुणवत्तायुक्त फसल उत्पादन के लिए उन्नत एवं प्रमाणित बीज किसानों को दिए जाएंगे | कृषकों के बीच राज्य सरकारों द्वारा नि:शुल्क वितरण (शत प्रतिशत अनुदान पर) या कुछ अनुदान पर किसानों को बीज दिए जाते हैं |

वहीँ इस वर्ष खरीफ मौसम के लिए राजस्थान के मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत ने राज्य के लाखों किसानों को कोरोना संकट के दौर में बड़ी राहत देते हुए खरीफ सीजन 2020 के लिए मक्का और बाजरा के प्रमाणित बीज निःशुल्क उपलब्ध कराने का निर्णय लिया है। श्री गहलोत ने इसके लिए राजस्थान राज्य बीज निगम लिमिटेड द्वारा राष्ट्रीय बीज निगम से प्रमाणित बीजों की खरीद के प्रस्ताव का अनुमोदन कर दिया है।

यह भी पढ़ें   कृषि विभाग में निकली बम्पर नौकरियां

किन फसलों के लिए दिए जाएंगे प्रमाणित बीज

राजस्थान राज्य में मक्का एवं बाजरा एक महत्वपूर्ण फसल है  इसके लिए राज्य सरकार ने दोनों के बीज मिनीकिट किसानों को मुफ्त में उपलब्ध करवाने का फैसला लिया है | वित्त विभाग के प्रस्ताव के अनुसार, खरीफ सीजन के दौरान प्रदेश के अनुसूचित जनजाति क्षेत्र में 5 लाख किसानों को मक्का के प्रमाणित बीज के 5 किलोग्राम के मिनीकिट और सभी बाजरा उत्पादक जिलों के 10 लाख किसानों को 1.5 किलोग्राम के बाजरा के प्रमाणित बीज के मिनीकिट निःशुल्क उपलब्ध कराए जाएंगे। राज्य बीज निगम को राष्ट्रीय बीज निगम से खरीफ सीजन 2020 के लिए सोयाबीन के 26 हजार क्विंटल प्रमाणित बीज और 14 हजार क्विंटल सोयाबीन के आधार बीज की खरीद के लिए भी स्वीकृति दे दी है।

किसान समाधान के YouTube चेनल की सदस्यता लें (Subscribe)करें

पिछला लेखकिसानों को इस वित्त वर्ष भी दिया जायेगा शून्य प्रतिशत ब्याज दर पर कृषि लोन
अगला लेखएक सप्ताह में 15 लाख किसानों को दिए जाएंगे फसल बीमा योजना के 2,990 करोड़ रुपये

6 COMMENTS

    • अपने यहाँ के ब्लाक या बीज निगम से या जिले के कृषि विभाग से सम्पर्क करें |

  1. सफेद मूसलीबीज,अकरकरा बीज फ्री मे मिलेगा क्या,,

    • नहीं, आप अपने यहाँ के उद्यानिकी विभाग में सम्पर्क करें |

LEAVE A REPLY

अपना कमेंट लिखें
आपका नाम लिखें.