इस योजना के तहत किसान गोबर से बनी जैविक खाद एवं गोमूत्र बेच कर सकेंगे अतिरिक्त कमाई

0
1334
views

इस योजना के तहत किसान गोबर से बनी जैविक खाद एवं गोमूत्र बेच कर सकेंगे अतिरिक्त कमाई

गोबर धन योजना – केंद्र सरकार ने गांवों को खुले में शौच से मुक्त करने और ग्रामीणों के जीवन में सुधार के लिए गोबर-धन (गैल्वनाइजिंग जैव-जैव-एग्रो संसाधन धन) योजना की घोषणा की है। इस योजना के तहत, गोबर और खेतों के ठोस अवशेषों को कंपोस्ट, बायो गैस और बायो-सीएनजी में परिवर्तित कर दिया जाएगा। किसान को लाभ देने के लिए सरकार ने गोबरधन योजना शुरू की है। इस योजना के किसानों को पशुओं के गोबर से जैविक खाद और गोमूत्र की बिक्री का प्रावधान शामिल है।

समावेशी समाज निर्माण की दृष्टि से, सरकार ने विकास के लिए 115 जिलों की पहचान की है। इन जिलों में, स्वास्थ्य, शिक्षा, पोषण, सिंचाई, ग्रामीण विद्युतीकरण, पेयजल, शौचालयों तक पहुंच सहित निवेश की गति को एक निश्चित अवधि में त्वरित किया जाएगा। वित्त मंत्री ने कहा की ये  115 जिले विकास के आदर्श होंगे।

यह भी पढ़ें   जनवरी (पौष-माघ) माह में किये जाने वाले खेती-बड़ी के काम  

गोबर धन योजना का मुख्य उद्देश्य देश के सभी गावों को खुले में शौच से मुक्त गांव बनाना है। नदी के किनारे वाले इलाकों में स्थित 4400 से ज्यादा गांवों को खुले में शौच से मुक्त गांवों के रूप में घोषित किया गया है। इस योजना के कार्यान्वयन के साथ, अधिक गांव खुले में शौच से मुक्त हो जाएंगे।

इस योजना के तहत ग्रामीण सुधार कार्यक्रमों के लिए कुल 16,713 करोड़ रूपये की राशी मंजूर की गई है। अभिलेखों के मुताबिक, कुल 115 जिलों में सफलतापूर्वक विभिन्न गांव सुधार कार्यक्रमों को शुरू किया गया है और इन जिलों के खुले में शौच से मुक्त गांवों को विकास के संकेत के रूप में माना जाएगा।

इस योजना के तहत, गोबर और खेतों के ठोस अवशेषों को कंपोस्ट, बायो गैस और बायो-सीएनजी में परिवर्तित कर दिया जाएगा। किसान को लाभ देने के लिए सरकार ने गोबरधन योजना शुरू की है। इस योजना के किसानों को पशुओं के गोबर से जैविक खाद और गोमूत्र की बिक्री का प्रावधान शामिल है।

यह भी पढ़ें   यदि आपकी फसल का विकास रूक गया है अथवा पत्तियां पीली हो गई है तो यह करें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here