किसानों को यूरिया खाद उपलब्ध करवाने के लिए कालाबाजारी एवं जमाखोरी कर रहे प्रतिष्ठानों के खिलाफ की जा रही है कार्यवाही

0
1438
urea khad ki uplabdhta

यूरिया खाद की कालाबाजारी एवं जमाखोरी के खिलाफ कार्यवाही

देश के कई राज्यों में यूरिया खाद एवं अन्य खाद की कमी के चलते किसानों को काफी समस्या का सामना करना पड़ रहा है | किसानों को इस समय फसलों के लिए खाद की आवशयकता होती है परन्तु उन्हें खाद नहीं मिल पा रहा है | किसानों को ऐसे समय पर कई बार मिलावटी नकली खाद बेच दिया जाता है | वहीँ कालाबाजारी एवं जमाखोरी के चलते किसानों को अधिक दामों पर खाद लेने के लिए किसान मजबूर हो जाते हैं |

पिछले दिनों उत्तरप्रदेश राज्य के किसानों को यूरिया खरीदने के लिए किसान सहकारी समिति के केन्द्रों पर लम्बी-लम्बी लाइन में घंटों खड़े नजर आये वहीँ अलग-अलग जिलों में बड़ी संख्या में किसानों ने निजी खाद विक्रेताओं की दुकानों से महंगे दामों में यूरिया खरीदने की शिकायत भी मिल रही है। इन शिकायतों को लेकर उत्तरप्रदेश सरकार द्वारा खाद की जमाखोरी एवं कालाबाजारी कर रहे प्रतिष्ठानों पर निरिक्षण अभियान चलाया जा रहा है |

623 खाद दुकानों के लाइसेंस निलंबित

उत्तरप्रदेश में खाद की उपलब्धता एवं आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए कालाबाजारी एवं जमाखोरी के सम्बन्ध में निरंतर कार्यवाही की जा रही है | कृषि विभाग के द्वारा कालाबाजारी एवं जमाखोरी के सम्बन्ध में 9747 प्रतिष्ठानों पर छापा मारते हुए 3287 नमूने लिए गए | जिसमें 517 प्रतिष्ठानों को कारण बताओ नोटिस जारी करते हुए 623 लाइसेंस निलंबित किये गए जबकि 22 लाइसेंस निरस्त कर दिए गए हैं | वहीँ 666 प्रतिष्ठानों को चेतावनी देते हुए 35 दुकानों पर बिक्री प्रतिबंधित कर 17 प्रतिष्ठानों को सील किया जा चूका है |

यह भी पढ़ें   फसल बीमा में व्यक्तिगत नुकसान के दावों की सूचना देने का समय बढाया गया

प्रदेश में की जा रही कार्यवाही के तहत पिछले 48 घंटे में खाद की कालाबाजारी एवं जमाखोरी के खिलाफ 35 एफआईआर दर्ज करते हुए 6 लोगों को गिरफ्तार भी किया गया है | प्रमुख सचिव ने जानकारी देते हुए बताया की प्रदेश सरकार जमाखोरी, कालाबाजारी करने वाले लोगों के खिलाफ सख्त कार्यवाही कर रही है | आवश्यकता पड़ने पर ऐसा करने वाले लोगों पर रासुका की भी कार्यवाही की जायेगी |

यूरिया का पर्याप्त मात्रा में स्टॉक उपलब्ध

राज्य के कृषि मंत्री श्री सूर्य प्रताप शाही ने बताया है की प्रदेश में सहकारिता क्षेत्र में 2.00 लाख मी. टन यूरिया उर्वरक का स्टाक उपलब्ध है, जिन जनपदों में यूरिया उर्वरक की मांग बढ़ी हुई है, वहां पर 50 प्रतिशत तक यूरिया को अवमुक्त करते हुए साधन सहकारी समितियों पर भेजकर कृषकों को उपलब्ध कराए जाने के निर्देश दिए गए हैं।  जिलाधिकारियों को अधिकृत किया जाये की वह स्थानीय आवश्यकताओं/मांग को देखते हुये प्रीपोजीशनिंग स्टॉक से 33% से ऊपर 50% तक यूरिया तत्काल पी0सी0एफ0 भंडारण गृहों से अवमुक्त करने हेतु निर्णय ले लें |

किसान समाधान के YouTube चेनल की सदस्यता लें (Subscribe)करें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here