55 एच.पी. के ट्रैक्टर एवं 2 लाख कृषि यंत्रों की सब्सिडी किसानों को जल्द दी जाए

14
75373

ट्रैक्टर एवं अन्य कृषि यंत्रों पर अनुदान

ट्रेक्टर एवं अन्य सभी प्रकार के कृषि यंत्र सब्सिडी 

वित्तीय वर्ष 2019-20 जल्द ही खत्म होने वाला है इसलिए सभी राज्य सरकारें जल्द ही इस वर्ष जो भी योजनायें चल रही हैं उनके लक्ष्य जल्द ख़त्म करना चाहती है | इसके आलवा अभी रबी फसलों का सीजन भी शुरू हो गया है ऐसे में किसानों को कृषि योजनाओं का लाभ देने का यही सही समय है | ऐसे में सरकारें चाहती हैं की किसानों को जल्द ही ट्रेक्टर एवं अन्य कृषि यंत्र की सब्सिडी किसानों को जल्द उपलब्ध कराई जाए | इन सब बातों को ध्यान में रखकर उत्तरप्रदेश के कृषि मंत्री श्री सूर्यप्रताप शाही ने उत्तरप्रदेश में किसानों के लिए चल रही योजनाओं की समीक्षा की |

किसानों को जल्द सब्सिडी पर कृषि यंत्र दिए जाए

प्रदेश में केंद्र एवं राज्य सरकार की मदद से बहुत सी योजनायें चल रही है कृषि मंत्रीं ने कहा है की किसानों द्वारा ख़रीदे गए कृषि यंत्रों सम्बंधित अनुदान भी एक माह के अंदर उनके बैंक खातों में सब्सिडी की राशि दे दी जाए | इस वर्ष उत्तरप्रदेश में अनुदान पर किसानों को 2 लाख कृषि यंत्रों के वितरण के लक्ष्य के सापेक्ष क्रय पूर्ती पर निर्देश देते हुए कहा की अभियान चलाकर किसानों को वितरण किया जाए | इसके अतिरिक्त योजना क्रियानावन की प्रक्रिया का सरलीकरण किया जाए ताकि किसान सहज रूप से योजनाओं का लाभ ले सके |

यह भी पढ़ें   इस राज्य के लगभग 15 लाख किसान परिवारों को दी गई पीएम किसान योजना की चौथी किस्त

55 एच.पी. के ट्रैक्टर भी उपलब्ध कराये जाए

कृषि मंत्री ने किसानों के लिए चल रही योजनओं की समीक्षा करते हुए बताया की प्रदेश के प्रत्येक सहकारी समिति तथा गन्ना समितियों पर 5-5 लाख रुपये के कृषि यंत्र उपलब्ध कराये जा रहे है | साथ ही कृषि मंत्री ने निर्देश दिए की यंत्रों के सुचारू रूप से सञ्चालन के लिए इन स्थलों पर कम से कम 55 एच.पी. के ट्रेक्टर भी उपलब्ध कराये जाएँ | इसके अतिरिक्त कृषि विज्ञान केंद्र पर भारत सरकार द्वारा उपलब्ध कराये गए कृषि यंत्रों को चलाने के लिए ट्रेक्टर की उपलब्धता भी सुनिश्चित की जाए |

ट्रैक्टर एवं कृषि यंत्र सब्सिडी पर लेने हेतु आवेदन करें

किसान समाधान के YouTube चेनल की सदस्यता लें (Subscribe)करें

Previous articleमात्र 1.5 प्रतिशत प्रीमियम राशि देकर करवाएं रबी फसलों का बीमा
Next articleखाद, बीज एवं कीटनाशक बेचने के लिए अब यह काम करना होगा जरुरी

14 COMMENTS

  1. kiesan ke leye ye sab khuse ke baat hi par kisan ko be joda jaye or kay ieska purna llabha mel raha hi ye suneyojiet ho…jai kisan …..

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here