इस राज्य में 50 हजार किसान परिवार कर रहे हैं मशरूम उत्पादन, जानिए मशरूम खेती के फायदे

6008
mushroom utpadan bihar hindi

मशरूम उत्पादन

पौष्टिक गुणों से भरपूर मशरूम एक प्राकृतिक प्रदत्त फसल है , जो बिना भूमि (उपजाऊ भूमि) , कम रासायनिक खाद का उपयोग कर कम समय में कृषि अवशेषों पर उत्पादन किया जा सकता है | इसका उत्पदान किसान भाई एक कमरे / झोपडी में भी कर सकते हैं | इसके अतिरिक्त मशरूम उत्पादन रोजगारोन्मुखी एवं प्रदूषण रहित है | यह बात बिहार के कृषि मंत्रीं डॉ प्रेम कुमार ने बामेती पटना के सभागार में मशरूम उत्पादन तकनीक विषय पर आयोजित प्रशिक्षण कार्यक्रम के समय कही |

कृषि मंत्रीं डॉ प्रेम कुमार ने बताया की मशरूम का अवशेष भी उत्तम खाद, वर्मी क्म्पोष्ट अथवा पशु आहार के लिए काफी उपयोगी होता है | बिहार की जलवायु भी मशरूम उत्पादन के लिए अनुकूल है | मशरूम में सभी प्रकार के पोषक तत्व जैसे प्रोटीन, कर्बोहईड्रेड, आवश्यक लवण एवं विभिन्न बिटामिन प्रचुर मात्रा में पाए जाते हैं | इससे शरीर को आवश्यक सभी पोषक तत्वों की प्राप्ति होती है | इसके अलावा इसे खाने से विभिन्न बिमारियों में लाभ मिलता है | बिहार में मशरूम उत्पादन को लेकर कृषि मंत्री ने यह जानकारी साझा की |

यह भी पढ़ें   टिड्डी प्रभावित किसानों को दिया जायेगा 106 करोड़ रुपये से अधिक का मुआवजा

बिहार में मशरूम की खेती के लिए अनुकूल जलवायु

बिहार में तापक्रम के अनुसार मुख्यत: 03 प्रकार के मशरूम की खेती विभिन्न तापक्रमों पर उगाकर सैलून भर मशरूम की खेती की जा सकती है | उदहारण स्वरूप ओयस्टर मशरूम (न्यूनतम 20 डिग्री एवं अधिकतम 30 डिग्री) | बटन मशरूम (न्यूनतम 15 डिग्री एवं अधिकतम 20 डिग्री फसल उत्पादन हेतु एवं बुआई के समय न्यूनतम 20 डिग्री एवं अधिकतम 25 डिग्री) तथा दुधिया मशरूम (न्यूनतम 30 डिग्री एवं अधिकतम 38 डिग्री) पर उगाया जाता है |

मशरूम उत्पादन से आमदनी

यदि 2000 वर्ग फीट में तीनों मशरूम की खेती सालों भर करके 50 – 60 क्विंटल मशरूम प्राप्त करके 30 – 35 हजार रूपये प्रति माह आमदनी प्राप्त की जा सकती है | इसके अलावा एक तरफ मशरूम खाने से कुपोषण दूर होता है तथा दूसरी तरफ आय का प्रमुख स्त्रोत है | इसके अलावा शिटाके मशरूम एवं हेरेशियम मशरूम की प्रजातियों में विभिन्न औषधीय गुण भी पाये जाते हैं | बिहार में मशरूम का कुल उत्पादन 5,600 टन होता है | जबकि इस कार्य में 50,000 से अधिक परिवार इस कार्य में लगे हुए हैं |

यह भी पढ़ें   राज्य में कपास उत्पादन बढ़ाने के लिए सरकार ने की 60 लाख बीटी कपास बीज की व्यवस्था

किसान समाधान के YouTube चेनल की सदस्यता लें (Subscribe)करें

पिछला लेखइस योजना के तहत बेरोजगार युवक/युवतियों प्रशिक्षण लेकर शुरू करें स्वरोजगार
अगला लेखफसल बीमा कंपनियां तहसील स्तर पर जारी करें टोल फ्री नम्बर: कृषि मंत्री

LEAVE A REPLY

अपना कमेंट लिखें
आपका नाम लिखें.