सेंसर वाली दवा छिड़काव मशीन एवं ‘स्मार्ट फार्म’ ने किसानों को सिखाये इक्कीसवीं सदी की खेती के नवाचार

सेंसर वाली दवा छिड़काव मशीन एवं ‘स्मार्ट फार्म’ ने किसानों को सिखाये इक्कीसवीं सदी की खेती के नवाचार

राजस्थान के जनजाति बहुल उदयपुर संभाग में पहली बार आयोजित हो रहे ‘ग्राम उदयपुर’ के तहत स्मार्ट खेती को प्रोत्साहित करने के लिए आयोजित हो रही प्रदर्शनी ‘स्मार्ट फार्म’ में किसानों का विशेष उत्साह दिखाई दे रहा है। यहां पर आए इक्कीसवीं सदी के कृषि यंत्र और प्रविधियां किसानों के लिए न सिर्फ कौतुहल का विषय बन रही है अपितु यहां पर प्राप्त जानकारियां किसानों को ये प्रविधियां अपनाने के लिए भी प्रोत्साहित करती नज़र आ रही हैं।

सेंसर वाली दवा छिड़काव मशीन ने बढ़ाया आकर्षण

स्मार्ट फार्म’ में किसानों ने भारत में पहली बार बनाई गई सेंसर वाली दवा छिड़काव मशीन का प्रदर्शन किया गया है और किसानों को यह बेहद आकर्षित कर रही है। उदयपुर स्थित प्रौद्योगिकी एवं कृषि अभियांत्रिकी महाविद्यालय (सीटीएई) तथा एसटी मुंबई द्वारा निर्मित इस वेरियेटलरेट स्प्रेयर मशीन के बारे में प्रो.एस.एम. माथुर ने बताया कि बागवानी के लिए खास तौर पर तैयार की गई यह मशीन अनार, अमरूद आदि में बेहद कारगर साबित हो रही है और इसमें सेंसर लगे होने के कारण यह दवा छिड़काव के कार्य में 50 से 60 प्रतिशत की बचत करती है। इसमें लगा सेंसर स्वतः ही पेड़ की घनी पत्तियों पर ज्यादा और कम घनी पत्तियों पर कम दवा का छिड़काव करता है। मात्र तीन लाख रुपयों की लागत वाली इस मशीन के प्रति किसानों ने गत दो दिनों में उत्साह दिखाया है। इसमें दो लाख तो ट्रेक्टर की कीमत है वहीं स्प्रेयर की कीमत मात्र एक लाख है।

- Advertisement -

बुधवार को उदयपुर जिले के कुराबड़ से आए किसान गोकुल रेबारी, रमेश रेबारी और राजसमंद के खेड़लिया से आए प्रेमशंकर ने इस स्टॉल पर इस मशीन का डेमो देखा और कहा कि अब वे भी परंपरागत फसलों के पैदावार के स्थान पर बागवानी की तरफ ध्यान देंगे और इस प्रकार के उन्नत यंत्रों का उपयोग करेंगे 

यह भी पढ़ें: “प्लग ट्रे” सब्जी उत्पादन की आधुनिक तकनीकी

यह भी पढ़ें: खरपतवारनाशी दवाओं के रासायनिक एवं कुछ व्यापारिक नाम

 

- Advertisement -

- Advertisement -

Related Articles

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
यहाँ आपका नाम लिखें

Stay Connected

217,837FansLike
829FollowersFollow
54,000SubscribersSubscribe
- Advertisement -

Latest Articles

ऐप खोलें