सिंचाई समस्या का निवारण इस विधि से करें

2

सिंचाई समस्या का निवारण इस विधि से करें

आज कृषि में सबसे बड़ा समस्या सिंचाई का है जिस के कारण कृषि में एक बहु ही बड़ी समस्या उभर कर आई है | इस समस्या को ख़त्म तो नहीं किया जा सकता है लेकिन बहुत हद तक कम किया जा सकता है | आज कुच्छ एसी वैज्ञानिक विधि आप को बता रारहा हूँ जिसे अपनाकर किसान सिंचाई के समस्या से आगे निकल सकता है |

  1. ड्रिप सिंचाई पद्धति :- यह विधि फल और सब्जी के पौधों में अपनाया जाता है , इस विधि से पौधों की सिंचाई उसके जरुरत के अनुसार होता है पानी पौधों के जड़ पर ही गिरता है , पानी की बर्बादी नहीं होता है , इस विधि से समय तथा जल दोनों की बचत होता है | एक अनुमान के अनुसार इस विधि से 60 % पानी का नुकसान से बचाया जाता है | इस विधि के द्वारा उर्वरक भी पौधों में दाना जाता है | जिससे उर्वरक की 50% की बचत होती है |
यह भी पढ़ें   जीरो बजट प्राकृतिक कृषि के यह फायदे बताये कृषि विशेषज्ञ सुभाष पालेकर ने

नोट:-  इस पर अलग – अलग राज्य सरकार  40 से 60 प्रतिशत का सब्सिडी देता है |

  1. स्प्रिंकलर सिंचाई :- यह विधि फसल (गेंहू, चना, सरसों, सोयाबीन, मूंगफली इत्यादि) में अपनाया जाता है इस विधि से खेत की सिंचाई अपने जरुरत के अनुसार करते हैं | इस विधि में एक प्लास्टिक पम्प को मोटर पम्प से जोर रार्हता है तथा दूसरा सिरा बहुत सरे स्प्रिंकल से जोड़ा रहता है जिससे एक ही समय में ज्यादा फसल की सिंचाई होता है | इस विधि से खेत में पानी जमा नहीं होता है |

नोट:-  इस पर अलग – अलग राज्य सरकार  40 से 60 प्रतिशत का सब्सिडी देता है |

इस वैज्ञानिक वुधि से सिंचाई करने से फसल उत्पादन में 40%की वृद्धि होती है , क्यों की फसल कप पानी उतनाही मिलता है जितना उसको जरुरत होता है | खेत में पानी जमा होने से फसल को नुकसान भी होता है |लेकिन इस विधि में येसा नहीं होता है |

यह भी पढ़ें   कहीं आपकी धान का तना सूख तो नहीं रहा है

इसी कारण अलग – अलग राज्य सरकार इसे बढवा दे रही है | केंद्र ने भी इस योजना को बढ़ावा देने के लिए प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना प्रारंभ किया | जिससे पानी संकट से बचा जा सके |

 

नोट:- अत: किसान से अनुरोध है की इस विधि को अपनाये तथा केंद्र सरकार तथा राज्य सरकार के  द्वारा चलाये जा रहे योजना का लाभ आवश्य लें |

यह भी पढ़ें:  माइक्रोइरीगेशन के तहत ड्रिप एवं स्प्रिंकलर सिंचाई का लाभ प्राप्त करने हेतु जानकारी

यह भी पढ़ें:  टपक सिंचाई (ड्रिप सिंचाई) प्रणाली क्या है?

Previous articleवर्तमान अफीम नीति के मापदंडों में संशोधन
Next articleकिसान भाई फसल अवशेष (पराली) बेचकर कर सकेगें अतिरिक्त आय

2 COMMENTS

  1. Namaskar sir,
    Mera naam Ravi hai mai uttar Pradesh Ghazipur Ka hoo.mai solar power lagana chahta hoo.mere pass pahalese tubwel hai.uchit jaankari De.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here