जानें मध्यप्रदेश में विभिन्न योजनाओं के तहत सिंचाई उपकरणों पर कितनी सब्सिडी दी जाती है 

3
9478
views

जानें मध्यप्रदेश में विभिन्न योजनाओं के तहत सिंचाई उपकरणों पर कितनी सब्सिडी दी जाती है 

  1. राज्य माइक्रोइरीगेशन योजना –

स्प्रिंकलर सेट (इकाई लागत 19600/ हेक्टेयर) :- समस्त वर्ग के लघु/सीमांत/अन्य कृषको हेतु इकाई लागत का 80 प्रतिशत या अधिकतम रु. 12000/ – अनुदान देय हैं |

ड्रिप सिस्टम(इकाई लागत 80000/ हेक्टेयर) :- समस्त वर्ग के लघु/सीमांत/अन्य कृषको हेतु इकाई लागत का 80 प्रतिशत या अधिकतम रु. 40000/ – अनुदान देय हैं |

मोबाइल रेनगन(इकाई लागत 31600/ हेक्टेयर) :- समस्त वर्ग के लघु/सीमांत/अन्य कृषको हेतु इकाई लागत का 80 प्रतिशत या अधिकतम रु. 15000/ – अनुदान देय हैं |

  1. प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना (PMKSY) –

पर ड्राप मोर क्राप” (माइक्रोइरीगेशन)घटक

अ. स्प्रिंकलर सेट –

  1. लघु/सीमांत कृषक – समस्त वर्ग के लघु/सीमांत कृषको हेतु इकाई लागत का 55 प्रतिशत अनुदान देय हैं |
  2. अन्य कृषक – समस्त वर्ग के अन्य कृषको हेतु इकाई लागत का 45 प्रतिशत अनुदान देय हैं |
  3. स्टेट टॉपअप – समस्त वर्ग के अन्य कृषको हेतु इकाई लागत का 30 प्रतिशत या अधिकतम रु. 4500/ – अनुदान देय हैं |
यह भी पढ़ें   डीजल अनुदान योजना में आवेदन के 25 दिनों के अन्दर बैंक खातों में पहुंचेगा पैसा

ब. ड्रिप सिस्टम –

  1. लघु/सीमांत कृषक – समस्त वर्ग के लघु/सीमांत कृषको हेतु इकाई लागत का 55 प्रतिशत अनुदान देय हैं |
  2. अन्य कृषक – समस्त वर्ग के अन्य कृषको हेतु इकाई लागत का 45 प्रतिशत अनुदान देय हैं |
  3. स्टेट टॉपअप – समस्त वर्ग के अन्य कृषको हेतु इकाई लागत का 30 प्रतिशत या अधिकतम रु. 15000/ – अनुदान देय हैं |

स. रेनगन –

  1. लघु/सीमांत कृषक – समस्त वर्ग के लघु/सीमांत कृषको हेतु इकाई लागत का 55 प्रतिशत अनुदान देय हैं |
  2. अन्य कृषक – समस्त वर्ग के अन्य कृषको हेतु इकाई लागत का 45 प्रतिशत अनुदान देय हैं |
  3. स्टेट टॉपअप – समस्त वर्ग के अन्य कृषको हेतु इकाई लागत का 30 प्रतिशत या अधिकतम रु. 3600/ – अनुदान देय हैं |

पर ड्राप मोर क्राप” (अदर इंटरवेंशन) घटक

डीजल /विद्युत पम्प– समस्त वर्ग के लघु सीमांत एवं अन्य कृषको हेतु इकाई लागत का 50 प्रतिशत या अधिकतम रु. 10000/ – अनुदान देय हैं |

यह भी पढ़ें   प्याज भंडार गृह एवं कोल्ड स्टोरेज सब्सिडी पर बनाने के लिए आवेदन करें

यह भी पढ़ें: टपक सिंचाई प्रणाली अपनाकर किसान हुए धनवान

यह भी पढ़ें: सिंचाई समस्या का निवारण इस विधि से करें

3 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here