गहरी जुताई कार्य योजना

0
4409

गहरी जुताई कार्य योजना

गहरी जुताई क्यों जरुरी है:-

खरीफ फसल की बुवाई से पहले खेत को एक बार गहरी जुताई की जरुरत परती है जिससे मिटटी हलकी हो जाती है तथा घास और खरपतवार नष्ट हो जाते है | इससे कीड़े, उनके अण्डे व बिमारियों के जीवाणु ऊपर आकर तेज धूप से नष्ट हो जाते हैं | मिट्टी में वायु का बेहतर संचार होता है तथा मिट्टी की जलधारा क्षमता भी बढ़ जाती है | गहरी जुताई मानसून आने से 15 दिन पहलें करें जिससे धुप में घास आसानी से सुख सके तथा वायु का प्रवाह मिटटी में आसानी से हो सके | इस लिए किसान जून माह में खेत की जुताई जरुर करें |

यह योजना किसके लिए है :-

यह योजना सम्पूर्ण प्रदेश में चलाई जा रही है इस योजना का लाभ प्रदेश के सभी वर्ग के कृषक ले सकते हैं | इस योजना में अनुसूचित जाती / अनुसूचित जनजाति के किसानों को 5 हेक्टेयर तक तथा  समान्य वर्ग के किसानों को 2 हेक्टेयर तक की जुताई पर जुताई का लागत दिया जायेगा | इस योजना का लाभ उठाने के लिए किसान के पास आधार कार्ड, ऋण पुस्तिका, बैंक एकाउंट, भूमि का खसरा नंबर तथा जिस टैक्टर से जुताई हुआ है उसकी पंजीयन की कॉपी होना जरुरी है |

यह भी पढ़ें   उत्तर प्रदेश में न्यूनतम समर्थन मूल्य पर धान बेचने के लिए किसान पंजीयन शुरू

किसान कैसे प्राप्त कर सकते हैं :-

किसान अपने खेत को किसी भी टैक्टर से गहरी जुताई करा लें | उसके बाद अपने ग्राम सेवक या तहसील कार्यालय से गहरी जुताई कार्य योजना का फार्म लें | उस फार्म में भूमि का खसरा नंबर के साथ ऋण पुस्तिका, बैंक एकाउंट का फोटो कॉपी तथा टैक्टर का पंजीयन की कागज लगाकर अपने पंचायत के सरपंच से सत्यापित कराकर उस फॉर्म को ग्राम सेवक या तहसील कार्यालय में जमा करा दें |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here