कृषि लोन अब और भी हुआ सस्ता

4
15246
views
प्रतीकात्मक चित्र

कृषि लोन अब और भी हुआ सस्ता

केंद्र सरकार के द्वारा चलाई जा रही कृषि लोन अब और सस्ता हो गया है | वित्तीय वर्ष 2017 – 18 में किसानों को दिये जाने वाले कृषि ऋण पर 1 प्रतिशत अतिरिक्त ब्याज अनुदान दिया जायेगा | राज्य सरकार द्वारा अपने संसाधन से किसानों को आर्थिक सहायता के रूप में कृषि ऋण पर 1 प्रतिशत अतिरिक्त ब्याज अनुदान का प्रवधान किया गया है, जो भारत सरकार द्वारा दिए जाने वाले 3 प्रतिशत ब्याज अनुदान के अतिरिक्त होगा | इसके लिए आज कृषि विभाग, बिहार एवं नाबार्ड के बीच एकरारनामा हुआ |

इसके लिए सरकार 10 करोड़ रूपये की राशि कनार्कित की गई है | इस कार्यक्रम का उद्देश्य किसानों को कृषि ऋण पर लगने वाले ब्याज के बोझ को कम करना है ताकि किसान उत्साहित होकर अधिक – अधिक संस्थागत ऋण प्राप्त कर सकें |

यह किसे मिलेगा :-

यह योजना सभी वर्ग के लघु एवं सीमान्त किसानों के लिए है | इस योजना का लाभ बटाईदार, पट्टाधारी या सामूहिक खेती करने वाले किसान भी शामिल होंगे |

यह भी पढ़ें   बिहार:फसल प्रोसेसिंग एवं ब्रांडिंग के लिए सरकार दे रही है 90 प्रतिशत का अनुदान

यह योजना कंहा से प्राप्त होगा :-

यह योजना राज्य के किसानों को वाणिज्यक बैंकों / ग्रामीण क्षेत्रीय बैंकों / सहकारी बैंकों से 3 लाख रूपये तक फसल ऋण / के.सी.सी. ऋण / अल्पावधि कृषि उत्पादन ऋण पर 1 प्रतिशत के अनुदान दिया जायेगा |

इस योजना को सरल भाषा में समझें |

अगर आप 5 लाख का लोन लेते हैं और आप एक वर्ष के अन्दर लौटा देते हैं तो 3 लाख पर केंद्र सरकार के तरफ से 3 % का ब्याज अनुदान मिलेगा | तथा राज्य सरकार के तरफ से 1% का अनुदान मिलेगा तथा 2 लाख पर 7 % का ब्याज लगेगा | यानि किसान को एक साल में 3 लाख पर 9,000 रुपया का ब्याज तथा 2 लाख पर 14,000 रुपया का ब्याज लगेगा | यानि कुल ब्याज 23,000 रुपया लगेगा |किसी कारण से किसान एक वर्ष में लोन नहीं लौटा पता है तो पुरे 5 लाख पर 7% का ब्याज लगेगा | यानि किसान को 35 हजार का ब्याज लौटना पड़ेगा |

नोट :- यह योजना केवल बिहार के लिए है तथा 3 लाख रूपये तक ही है |

यह भी पढ़ें: राजस्थान: किसानों को ब्याज मुक्त फसली ऋण

यह भी पढ़ें; जानें मध्यप्रदेश में जीरो प्रतिशत ब्याज क्या है एवं कैसे लिया जा सकता है

यह भी पढ़ें: किसानों के लिए फसल ऋण हेतु ब्याज सहायता योजना मंजूर

4 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here