खेती को लाभकारी बनाने के लिए करें यह उपाय

1788

खेती को लाभकारी बनाने के लिए किसान भाई यह उपाएँ करें जिससे खेती में लगने वाली लगत को कम किया जा सके एवं उत्पादन बढाया जा सके |

  • अरहर की एक पंक्ति के बाद मक्का की एक पंक्ति बोकर मक्का की अतिरिक्त उपज पायें |
  • अरहर की दो पंक्तियों के बीच मूंगफली की दो पंक्तियाँ बोई जाये और आमदनी बढायें |
  • मक्का की दो पंक्तियों के बीच मूंग / मूंगफली की दो पंक्तियाँ बोकर भूमि को उपजाऊ बनायें |
  • अरहर की दो पंक्तियों के बीच में तिल की दो पंक्तियों बोकर अधिक लाभ उठायें |
  • मूंगफली की तिन पंक्तियों के बाद बाजरे की एक पंक्ति बोकर कृषि को आर्थिक बनायें |
  • अपने खेत की मिटटी की जाँच कराकर सन्तुलित उर्वरक का प्रयोग करें, जिससे भूमि की उर्वरक शक्ति का ह्रास न हो |
  • जैविक कृषि को अधिक से अधिक अपना कर रासायनिक उर्वरकों के प्रयोग को घटायें तथा इसके प्रतिकूल प्रभाव से बचें |
  • फौव्वारा (स्प्रिंकलर) सिंचाई पद्धति अपनाने और पानी को बचायें भरपूर उत्पादन पायें |
  • टपक (ड्रिप) सिंचाई पद्धति अपनाएं एवं सिंचन क्षमता बढ़ाये |
  • एकीकृत कीटनाशी प्रबंधन अपनायें एवं मिटटी की उर्वरा शक्ति बढायें |
  • धरती माता कहें पुकार, जैव खाद है इसका श्रृंगार |
  • जैविक खाद अपनायें मिटटी को बाँझ होने से बचायें |
यह भी पढ़ें   प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना के तहत ड्रिप एवं स्प्रिंकलर सिंचाई का लाभ प्राप्त करने हेतु जानकारी

स्ट्रिप कापिंग  :

फसल सुरक्षा की दृष्टि से स्ट्रिप कापिंग का बहुत महत्व है | इस प्रकार की खेती से मुख्य फसल की सुरक्षा सुनिशिचत हो जाती है | किसान प्राचीन काल से मक्का, गन्ना, ज्वार आदि फसलों के चारों ओर आठ – दस पंक्तियों की पट्टी सनई, पटसन एवं ढैंचा बोते रहे हैं | इनकी पट्टी होने से जानवरों से फसलों की सुरक्षा सुनिश्चित हो जाती है |

जिंक सल्फेट / जिप्सम का महत्व :

धान– गेंहु की फसली चक्र अपनाने से अधिकतम क्षेत्र में जिंक की कमी भी परिलक्षित हो रही है |इसके लिए जिंक सल्फेट का प्रयोग करके फसलों में जिंक की कमी पूर्ण हो जाती है | जिससे फसलों के उत्पादन में वृद्धि हो जाती है |

इसी प्रकार जिप्सम का प्रयोग ऊसरीली भूमि को सुधारने के कम आता है | साथ ही तिलहनी फसलों में जिप्सम एक रामबाण दवा है, जिससे उत्पादन में बढ़ोतरी होती है, क्योंकि इसमें गंधक प्रचुर मात्र में पाया जाता है |

यह भी पढ़ें   अनुदान पर मखाना की खेती कर अपनी आमदनी बढायें किसान

पर्णीय छिड़काव :

आच्छादित फसलों में कीट/रोग सी ग्रसित फसलों में छिड़काव हेतु संस्तुति रसायनों को उपयुक्त पानी में घोलकर लो वालूम फुट स्प्रेयर में डबुल एक्सन नाजिल द्वारा छिड़काव किया जाय | फल पौधों में हाइवालूम पवार स्प्रेयर द्वारा डबल एक्सन नाजिल द्वारा लगे कीट/रोगों के नियंत्रण हेतु संस्तुति रसायनों को उपयुक्त पानी में घोलकर छिड़काव किया जाय |

खरपतवारों को नियंत्रण करने के लिए फूट स्प्रेयर द्वारा सिंगल एक्सन नाजिल (फलेट फैन नाजिल) लगाकर संस्तुति किये गये खरपतवार नाशक रसायनों को उपयुक्त पानी में घोलकर छिड़काव किया जाये |

पिछला लेखकिसान बीज, कीटनाशक और उर्वरक खरीदते समय रखें इन बातों का ध्यान
अगला लेखपशुओं को दें संतुलित पशु आहार और बढ़ाये दूध उत्पादन

LEAVE A REPLY

अपना कमेंट लिखें
आपका नाम लिखें.